जिंदगी पर 50 बेहतरीन शायरी

shayari on life
zindagi-par-50-best-shayari

  नमस्कार दोस्तों- मैं अजय पाण्डेय आप सभी का technofriendajay.in पर स्वागत करता हूं ।दोस्तों- जिंदगी भी बड़ी अजीब होती है, आदमी सोचता कुछ और है पर होता कुछ और ही है

जिंदगी के ऐसे कई सवाल हैं जिनका जवाब हम ढूंढते रहते हैं जवाब मिलता भी है पर तब तक कई और सवाल हमारे सामने खड़े हो जाते हैं

जिंदगी की परिभाषा हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती है, कोई कहता है की जिंदगी एक रंगमंच है और हम सब अपना अपना किरदार निभा रहे हैं। तो कोई कहता है जिंदगी एक ट्रेन की तरह है,

जो समय की पटरी पर तेजी से दौड़ रही है और हमें राह में कई लोग मिलते हैं, उनसे जान पहचान होती है कुछ दूर तक हो साथ भी होते हैं, और फिर वह अपने मंजिल की तरफ हम अपनी मंजिल की तरफ ।

वैसे आदमी की असल मंजिल तो मौत ही है, क्योंकि हम सब मरने के लिए ही जीते जा रहे हैं। लेकिन एक शायर, या कवि जब अपनी कल्पनाओं और एहसासों को शब्द का रूप देता है, तो जिंदगी के कई और रंग दिखाई देते हैं।

आज के इस आर्टिकल में मैं आप लोगों के लिए बड़े शायरों द्वारा लिखी गई जिंदगी पर शायरी लेकर आया हूं। तो चलिए पढ़ते हैं जिंदगी पर कुछ बेहतरीन शायरियां life quotes in hindi

zindagi par best shayari in hindi



zindagi status image
जिंदगी पर शायरी इन हिंदी


अगर नवाज़ रहा है तो यूं नवाज़ मुझे
के’मेरे बाद मेरा ज़िक्र बार-बार चले
ये जिस्म क्या है कोई पैरहन उधार का है
यहीं संभाल के पहना, यहीं उतार चले
       - आलोक श्रीवास्तव




बाज़ार जा के ख़ुद का कभी दाम पूछना
तुम जैसे हर दुकान में सामान हैं बहुत
आवाज़ बर्तनों की घर में दबी रहे,
बाहर जो सुनने वाले हैं शैतान हैं बहुत
        - आलोक श्रीवास्तव



सिर्फ सांसे चलते रहने को ही ज़िन्दगी नही कहते
आँखों में कुछ ख़वाब और दिल में उम्मीदे होना जरूरी है




ज़माना बड़े शौक़ से सुन रहा था
हमीं सो गए दास्तां कहते-कहते
   - साकिब लखनवी


ye zindagi quotes
जी लो जिंदगी शायरी


 यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है,
जिसमें न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है




आँखों को अश्क का पता न चलता
दिल को दर्द का एहसास न होता
कितना हसीन होता जिंदगी का सफ़र
अगर मिलकर कभी बिछड़ना न होता




 जितने हरामखोर थे कुर्बों ज़वार में
परधान बनके आ गये अगली कतार में
           - अदम गोंडवी




कुछ ऐसे सिलसिले भी चले ज़िंदगी के साथ
कड़ियां मिलीं जो उनकी तो ज़ंजीर बन गए
            - यूसुफ़ बहजाद




 यूं खुद की लाश अपने कांधे पर उठाये हैं
ऐ शहर के वाशिंदों ! हम गाँव से आये हैं
         - अदम गोंडवी


zindgii ki shayari hindi me
हिंदी शायरी दो लाइन 

जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना
ये कमबख्त ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नहीं है




नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव
हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव
           - निदा फ़ाज़ली



ज़िन्दगी से अपना हर दर्द छुपा लेना
ख़ुशी ना मिले तो ग़म गले लगा लेना
कोई अगर कहे मोहब्बत आसान होती है
तो उसे मेरा टूटा हुआ दिल दिखा देना




मुझको उस वैद्य की विद्या पे तरस आता है
भूखे लोगों को जो सेहत की दवा देता है
                - नीरज




हथेली पर रखकर, नसीब अपना
क्यूँ हर शख्स, मुकद्दर ढूँढ़ता है
अजीब फ़ितरत है, उस समुन्दर की
जो टकराने के लिए, पत्थर ढूँढ़ता है.



best hindi shayari on life   best hindi shayari on life
 zindagi shayari in hindi font

मंजिलें तो हासिल कर ही लेगे
कभी किसी रोज
ठोकरें कोई जहर तो नहीं
जो खाकर मर जायेगें



ख़ामोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है,
तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है




नज़दीकी अक्सर दूरी का कारन भी बन जाती है
सोच समझकर घुलना-मिलना अपने रिश्तेदारों में
चांद अगर पूरा चमके तो उसके दाग़ खटकते हैं
एक न एक बुराई तय है सारे इज़्ज़तदारों में
          - आलोक श्रीवास्तव




कभी आंसू तो कभी ख़ुशी देखी,
हमने अक्सर मजबूरी और बेकसी देखी,
उनकी नाराज़गी को हम क्या समझें,
हमने तो खुद अपनी तकदीर की बेबसी देखी.




मशहूर होना पर मगरुर ना होना,
कामयाबी से नशे मे चूर ना होना
मिल जाए सारी कायनात आपको अगर,
इसके लिए अपनो से कभी दूर मत होना.

inspirational shayari on life
मेरी जिंदगी शायरी
सब कुछ हासिल नहीं होता
ज़िन्दगी में यहां
किसी का काश, तो
किसी का .अगर,छूट ही जाता है




ये सोचना ग़लत है के' तुम पर नज़र नहीं,
मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बेख़बर नहीं.
अब तो ख़ुद अपने ख़ून ने भी साफ़ कह दिया,
मैं आपका रहूंगा मगर उम्र भर नहीं.
        - आलोक श्रीवास्तव




ज़िदगी से तो क्या शिकायत हो
मौत ने भी भुला दिया है हमें




जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम
मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम
सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा
बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम




ज़िन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे है

हम तुम मिले न थे तो जुदाई का था मलाल
अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई
          - जलील मानकपुरी




कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िन्दगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी




कुछ ज़रूरतें पूरी तो कुछ ख्वाहिशें अधूरी,
इन्ही सवालों के जवाब हैं ज़िन्दगी




समझ जाता हूँ मीठे लफ़्ज़ों में छुपे फरेब को,
ज़िन्दगी तुझे समझने लगा हूँ आहिस्ता आहिस्ता.




फटी जेब सी ज़िन्दगी, सिक्को से दिन लो
आज फिर इक गिर कर गुम हो गया.


true lines about life in hindi
zindagi thought in hindi

ज़िन्दगी हर हाल में एक मुकाम माँगती है,
किसी का नाम तो किसी से ईमान माँगती है
बड़ी हिफाजत से रखना पड़ता है दोस्त इसे
रूठ जाए तो मौत का सामान माँगती हैं




मन का कुछ भी नहीं सांस के योग हैं
गम हो या हो खुशी दोनों ही रोग हैं
आप रोती हुई उम्र के साथ  हम
जिंदगी से निभाते हुए लोग हैं
        - अमन अक्षर




जिस दिन किताब-ए-इश्क की तक्मील हो गई,
रख देंगे ज़िन्दगी तेरा, बस्ता उठा के हम।




हमने माना कि तगाफुल न करोगे लेकिन
खाक हो जाएंगे हम तुमको खबर होने तक
              - ग़ालिब




ये समय एक अनूठा उपन्यास है
जिसमें अपना अभी होना अनायास है
प्यास का ये सफर है बड़ी दूर का
जबकि घर तो नदी के बहुत पास है
         - अमन अक्षर




ये ज़िन्दगी जो मुझे कर्ज़दार करती रही,
कभी अकेले में मिले तो हिसाब करूँ



ज़िन्दगी जिसको तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम ही रहे चाहने वालों की तरह




ऐसी भी अदालत है जो रूह परखती है
महदूद नहीं रहती वो सिर्फ़ बयानों तक
हर वक़्त फ़िज़ाओं में महसूस करोगे तुम
मैं प्यार का ख़ुशबू हूं, महकूंगा ज़मानों तक.




हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले
                   - ग़ालिब



क्या बेचकर हम खरीदें फुर्सत... ऐ जिंदगी,
सब कुछ तो गिरवी पड़ा है जिम्मेदारी के बाजार में




तकदीरें बदल जाती हैं, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है ‘तकदीर’ को इल्ज़ाम देते देते.




ज़िन्दगी की राहों में.. ऐसा अक्सर होता है
फैसला जो मुश्किल हो वो ही बेहतर होता है

life status change hindi
zindagi shayari 2 lines


शिकायते तो बहुत है तुझसे ऐ जिन्दगी,
पर चुप इसलिये हूँ कि, जो दिया तूने,
वो भी बहुतो को नसीब नहीं होता.




तोड़ कर कोई मानक नहीं आए हैं
अपने हिस्से कथानक नहीं आए हैं
जिंदगी ने मुसलसल पुकारा हमें
हम यहां तक अचानक नहीं आए हैं.
       - अमन अक्षर




मौत से कैसा डर. मिनटों का खेल है,
आफत तो जिंदगी है बरसों चला करती है.




ना जाने जिंदगी का ये कैसा दौर है,
घर खामोश है, और ऑनलाइन शोर है




ऐ मौत कितनी वफ़ा है तुझमें
मैं आज आज़माना चाहता हूँ
जि़न्‍दगी ने बहुत रूलाया है मुझे
तेरा साथ मिले तो मैं
जिंदगी को रूलाना चा‍हता हूँ.




कोई आज तक न समझा कि शबाब है तो क्या है
यही उम्र जागने की, यही नींद का ज़माना
           - नुसूर वाहिदी




उम्र उलझन हुई कोई हल ना मिला
सौ जन्म तक किए कोई फल ना मिला
यूं तो इतिहास में हम अमर हो गए
हमको जीवन भरा कोई पल ना मिला.
         - अमन अक्षर




एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी किसी की कट जाती है.



इसे भी पढ़े ➨ राहत इन्दौरी के मशहूर शेर
hum yaha tak achanak nahi aaye
best shayari on zindagi

एक जीवन जन्म कितने झेला हुआ.
मुझ में शामिल हुआ तो यह मेला हुआ
अपने हिस्से का सब मुझको जीते गए 
मैं अकेला ही था तो अकेला हुआ.




सिर्फ सांसे चलते रहने को ही जिंदगी नहीं कहते आंखों में
कुछ ख्वाब और दिल में उम्मीदें होना भी जरूरी है 


Post a Comment

9 Comments