Saturday, April 16, 2022

बेस्ट हिंदी शायरी | Latest New Hindi Shayari | Best Shayari In Hindi 2022

 नमस्कार दोस्तों- शायरी हमारे भारतीय उपमहाद्वीप में कविता का ही एक प्रचलित रूप है, शायरी में मुख्य रूप से हिंदी, उर्दू, संस्कृत, फारसी आदि भाषाओं का मिश्रित प्रयोग होता है 

हमारे भारतीय संस्कृत में अक्सर ऐसा होता है कि अगर कोई मिसरा या शेर ज्यादा लोकप्रिय हो जाए, तो वह हमारी संस्कृति में एक सूत्र वाक्य के जैसे सम्मिलित हो जाता है 

उदाहरण के लिए, खुदी को कर बुलंद इतना, और भी गम है जमाने में, इब्तिदा ए इश्क है रोता है क्या, जैसी कई शायरी हैं जिनकी एक लाइन बोलने पर दूसरी लाइन खुद ब खुद सबकी जुबान पर आ जाती है 

और आज के इस आर्टिकल में मैं आपके लिए hindi shayari, नयी हिंदी शायरी, बेस्ट नयी शायरी हिंदी में, हिंदी शायरी दो लाइन, हिंदी शायरी प्यार, शुद्ध हिंदी शायरी, हिंदी शायरी , रोमांटिक हिंदी शायरी, हिंदी शायरी लिखा हुआ, बेस्ट शायरी हिंदी में, shayari mast mast, shayari photo, new shayari,new hindi shayari, latest shayari, best shayari in hindi, shayari in hindi, best shayari, shayari hindi mein, beautiful HINDI shayari, New Shayari Hindi,new hindi shayari, latest shayari का कलेक्शन लेकर आया हूं जिन्हें आप जरूर पसंद करेंगे 

साथ ही आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं कि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा साथ ही अगर आप लोग किसी तरह का सुझाव देना चाहते हैं तो दे सकते हैं 

तो चलिए दोस्तों पढ़ते हैं Shayari In Hindi 2022



New Shayari Hindi
 new hindi shayari

best shayari in hindi 2022, नयी शायरी हिंदी में

shayari in hindi 

ये इनायतें गज़ब की, ये बला की मेहरबानी

मेरी ख़ैरियत भी पूछी, किसी और की ज़बानी।

shayari in English

ye inaayaten gazab ki, ye bala ki meharabani 

meri khairiyat bhi poochhi, kisi aur ki zabaani.



अभी आए, अभी बैठे, अभी दामन संभाला है,

तुम्हारी जाऊं जाऊं ने हमारा दम निकाला है।

abhi aaye, abhi baithe, abhi daaman sambhaala hai, 

tumhaari jaaun jaaun ne hamaara dam nikaala hai.



दुनिया को लगते हैं बुरे अंदाज मेरे,

लोग कहाँ जानते हैं गहरे राज़ मेरे।

duniya ko lagate hain bure andaaj mere, 

log kahaan jaanate hain gahare raaz mere.



दिल की कीमत तो मोहब्बत के सिवा कुछ न थी,

जितने भी मिले, सूरत के खरीदार मिले।

dil ki keemat to mohabbat ke siva kuchh na thi, 

jitane bhi mile, soorat ke khareedaar mile.



वो खुश है बिछड़ कर मुझसे,

ऐ दुनिया बेवफ़ा न कह उसको।

vo khush hai bichhad kar mujhase, 

aye duniya bewafa na kah usako.



इस दिल में अरमान कोई रखना

दुनियाँ की भीड़ में पहचान कोई रखना,

अच्छे नहीं लगते जब रहते हो उदास

इन लबों पर सदा मुस्कान वही रखना।

is dil mein aramaan koi rakhana 

duniyaan ki bheed mein pahachaan koi rakhana, 

achchhe nahin lagate jab rahate ho udaas 

in labon par sada muskaan vahi rakhana.



आवारगी मेँ हद से गुज़र जाना चाहिये,

लेकिन कभी-कभार तो घर जाना चाहिये।

aawaragi men had se guzar jaana chaahiye, 

lekin kabhi-kabhaar to ghar jaana chaahiye.



घायल कर के मुझे उसने पूछा

करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,

लहू-लहू था दिल मेरा मगर...

होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।

ghaayal kar ke mujhe usane puchha 

karoge kya phir mohabbat mujhase, 

lahu-lahu tha dil mera magar... 

honthon ne kaha beintaha-beintaha.



इश्क में तेरा यकीन बन जाऊं, दर्द में तेरा सुकूं,

तुम रखो कदम जहाँ, खुदा करे मैं वो जमीं बन जाऊं।

ishq mein tera yakeen ban jaoon, 

dard mein tera sukoon, 

tum rakho kadam jahaan, 

khuda kare main vo jameen ban jaoon.



जो चाहती दुनिया है वो मुझ से नहीं होगा,

समझौता कोई ख़्वाब के बदले नहीं होगा।

jo chaahati duniya hai vo mujh se nahin hoga, 

samajhauta koi khvaab ke badale nahin hoga.


बेस्ट शायरी हिंदी में, latest hindi shayari

new shayari
 best shayari in hindi


मैंने दिल को भी सिखा दिया औकात में रहना,

वरना जिद्द करता था उसकी जो नसीब में नहीं।

mainne dil ko bhi sikha diya aukaat mein rahana, 

varana jidd karata tha usaki jo naseeb mein nahin.



तराशिए ख़ुद को इस जहां में कुछ इस कदर,

कि पाने वाले को नाज हो और खोने वाले को अफसोस।

taraashiye khud ko is jahaan mein kuchh is kadar, 

ki paane vaale ko naaj ho aur khone vaale ko afasos.



यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम,

बस एक तेरी आदत सी हो गयी है।

yoon to kisi cheej ke mohataaj nahi ham, 

bas ek teri aadat si ho gayi hai.



मैं घर का रास्ता भूला, जो निकला आपके शहर से

इमारत दिल की ढह गई, आपके हुस्न के कहर से,

खुदा माना, आप न माने, वो लम्हे गए यूँ ठहर से

वो लम्हे याद करता हूँ तो लगते हैं अब जहर से।

main ghar ka raasta bhula, jo nikala aapake shahar se 

imaarat dil ki dhah gai, aapake husn ke kahar se, 

khuda maana, aap na maane, vo lamhe gaye yoon thahar se 

vo lamhe yaad karata hoon to lagate hain ab jahar se.



बहुत मसरूफ हो शायद जो हमको भूल बैठे हो,

ना ये पूछा कहाँ पर हो, ना ये जाना के कैसे हो।

bahut masaruf ho shaayad jo hamako bhool baithe ho, 

na ye poochha kahaan par ho, na ye jaana ke kaise ho.



आसरा इक उम्मीद का देके मुझसे मेरे अश्क न छीन,

बस यही एक ले दे के बचा है मुझ में मेरा अपना।

aasara ik ummeed ka deke mujhase mere ashq na chheen, 

bas yahi ek le de ke bacha hai mujh mein mera apana.



कि पता पूछ रहा हूँ मेरे सपने कहाँ मिलेंगे,

जो कल तक साथ थे मेरे अपने कहाँ मिलेंगे।

ki pata poochh raha hoon mere sapane kahaan milenge, 

jo kal tak saath the mere apane kahaan milenge.



सकून मिलता है जब उनसे बात होती है

हज़ार रातों में वो एक रात होती है,

निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ

मेरे लिए वो ही पल पूरी कायनात होती है।

sakoon milata hai jab unase baat hoti hai 

hazaar raaton mein vo ek raat hoti hai, 

nigaah uthaakar jab dekhate hain vo meri taraf 

mere lie vo hi pal poori kaayanaat hoti hai.



दो शब्द तसल्ली के नहीं मिलते इस शहर में,

लोग दिल में भी दिमाग लिए फिरते हैं।

do shabd tasalli ke nahin milate is shahar mein, 

log dil mein bhi dimaag liye firate hain.


latest new hindi shayari | best shayari in hindi, शायरी हिंदी में

New Shayari Hindi
 new hindi shayari


बिना लिबास के आये थे इस जहां में , 

बस एक कफ़न की खातिर इतना सफर करना पड़ा

bina libaas ke aaye the is jahaan mein , 

bas ek kafan ki khaatir itana safar karana pada



छुप के रहना है जो सबसे तो मुश्किल क्या है,

तुम मेरे दिल में रहो दिल की तमन्ना हो कर।

chhup ke rahana hai jo sabase to mushkil kya hai, 

tum mere dil mein raho dil ki tamanna ho kar.



मैं हमदर्दी की ख़ैरातों के सिक्के मोड़ देता हूँ,

जिस पर बोझ बन जाउँ, उसे मैं ख़ुद ही छोड़ देता हूँ।

main hamadardi ki khairaaton ke sikke mod deta hoon, 

jis par bojh ban jaun, use main khud hi chhod deta hoon.



इश्क मोहब्बत दीवानगी, ये बस लफ्ज थे,

जब तुम मिले तब इन लफ्जों को मायने मिले।

ishq mohabbat deevanagi, ye bas lafj the, 

jab tum mile tab in lafjon ko maayane mile.



किसी भी मोड़ पर अगर हम बुरे लगें

तो ज़माने को बताने से पहले, 

एक बार हमें जरुर बता देना।

kisi bhi mod par agar ham bure lagen to 

zamaane ko bataane se pahale, 

ek baar hamen jarur bata dena.



देखिए ना तेज़ कितनी उम्र की रफ़्तार है,

ज़िंदगी में चैन कम और फ़र्ज़ की भर-मार है।

dekhiye na tez kitani umr ki raftaar hai, 

zindagee mein chain kam aur farz ki bhar-maar hai.



मोहब्बत की राहों का अंजाम यही है

ग़म को अपना लो बस पैगाम यही है,

इस शहर में मोहब्बत ढूंढे न मिलेगी

हाँ बेवफ़ाओं का तो ऐलान यही है।

mohabbat ki raahon ka anjaam yahi hai 

gam ko apana lo bas paigaam yahi hai, 

is shahar mein mohabbat dhoondhe na milegi 

haan bewafaon ka to ailaan yahi hai.



दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,

जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए।

dariya ho ya pahaad ho takaraana chaahiye, 

jab tak na saans toote jiye jaana chaahiye.



कभी गम तो कभी ख़ुशी देखी

हमने अक्सर मजबूरी और बेकसी देखी,

उनकी नाराज़गी को हम क्या समझें

हमने तो खुद अपनी तकदीर की बेबसी देखी।

kabhi gam to kabhi khushi dekhi 

hamane aksar majaboori aur bekasi dekhi, 

unaki naaraazagi ko ham kya samajhen 

hamane to khud apani takadeer ki bebasi dekhi.



ढाई अक्षर की बात कहने में

कितनी तकलीफ उठा रखी है,

तूने आँखों में छिपा रखी है

मैंने होंठो पे दबा रखी है।

dhai akshar ki baat kahane mein 

kitani takaleef utha rakhi hai, 

toone aankhon mein chhipa rakhi hai 

mainne hontho pe daba rakhi hai.



जल रही है सिगरेट खत्म हो रही जिन्दगी,

अजीब इत्तेफाक है ये धीरे धीरे ही सही।

jal rahi hai sigrete khatm ho rahi jindagi, 

ajeeb ittefaak hai ye dheere dheere hee sahi.


हिंदी शायरी लिखा हुआ, new hindi shayari

best shayari
shayari hindi mein


मुस्कुराहट, तबस्सुम, हँसी, कहकहे,

सब के सब खो गए... हम बड़े हो गए।

muskuraahat, tabassum, hansi, kahakahe, 

sab ke sab kho gaye... ham bade ho gaye.



खत्म होती हुई एक शाम अधूरी थी बहुत,

ज़िन्दगी से ये मुलाकात ज़रूरी थी बहुत।

khatm hoti hui ek shaam adhoori thi bahut, 

zindagi se ye mulaakaat zaruri thi bahut.



दिन बीत जाते हैं सुहानी यादें बन कर 

बाते रह जाती हैं कहानी बन कर पर, 

प्यार तो हमेशा दिल के करीब रहेगा 

कभी मुस्कान तो कभी पानी बनकर। 

din beet jaate hain suhaani yaaden ban kar 

baate rah jaati hain kahaani ban kar 

par, pyaar to hamesha dil ke kareeb rahega 

kabhi muskaan to kabhi paani banakar.



हमने सोचा था की बताएँगे सब दुःख दर्द तुमको,

पर तुमने तो इतना भी ना पूछा की खामोश क्यूँ हो।

hamane socha tha ki bataenge sab duhkh dard tumako, 

par tumane to itana bhi na poochha ki khaamosh kyoon ho.



ग़म में रोये, आँसू पिए, रातों को तड़पे,

जुनून-ए-मोहब्बत से मिला सबकुछ सिवा तेरे।

gam mein roye, aansoo piye, raaton ko tadape, 

junoon-e-mohabbat se mila sabakuchh siva tere.



हर हालत लौट ही आते हैं अपनी जानिब,

चाहे दी हुई मोहब्बत हो, या फिर हो धोखा।

har haalat laut hi aate hain apani jaanib, 

chaahe di hui mohabbat ho, ya phir ho dhokha.



उसकी तलाश में जब मैंने भटकना छोड़ दिया

यादों में उनकी खोकर मैंने तड़पना छोड़ दिया,

वो आये तो सही लेकिन उस वक़्त...

जब इस दिल ने उनके लिए धड़कना छोड़ दिया

usaki talaash mein jab mainne bhatakana chhod diya 

yaadon mein unaki khokar mainne tadapana chhod diya, 

vo aaye to sahi lekin us vaqt... 

jab is dil ne unake lie dhadakana chhod diya



यूँ तो एक ठिकाना मेरा भी है, ए सनम,

पर तेरे बिना मैं गुमशुदा सा महसूस करता हूँ।

yoon to ek thikaana mera bhi hai, aye sanam, 

par tere bina main gumashuda sa mahasoos karata hoon.



वो वक़्त भी अनजान था खुद के अंजाम से,

लोगों की नाकामियों का इलज़ाम लिए गुज़र गया।

vo vaqt bhi anajaan tha khud ke anjaam se, 

logon ki naakaamiyon ka ilazaam liye guzar gaya.


Also Read:

हिंदी शायरी, shayari hindi mein, नयी हिंदी शायरी

new hindi shayari
latest shayari


वो जवानी में ही मर गया था,

कमाल था लाश बुढ़ापे तक चलती रही।

vo jawani mein hi mar gaya tha, 

kamaal tha laash budhaape tak chalati rahi.



मिल जाता है दो पल का सुकूंन चंद यारों की बंदगी में,

वरना परेशां कौन नहीं अपनी-अपनी ज़िंदगी में।

mil jaata hai do pal ka sukoonn chand yaaron ki bandagi mein, 

varana pareshaan kaun nahin apani-apani zindagi mein.



फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो

जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो,

जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ

आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।

falasafa samajho na asaraare siyaasat samajho 

jindagee sirf hakeeqat hai hakeeqat samajho, 

jaane kis din ho havayen bhi neelaam 

yahaan aaj to saans bhi lete ho ganeemat samajho.



था यकीं मुझे भी कि भूल जाओगे तुम,

खुशी है कि तुम उम्मीद पर खरे उतरे।

tha yakeen mujhe bhi ki bhool jaogye tum, 

khushi hai ki tum ummeed par khare utare.



अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो

मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो,

मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते क्यों हो

मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।

abhi sooraj nahin dooba jara see shaam hone do 

main khud laut jaoonga mujhe naakaam to hone do, 

mujhe badanaam karane ka bahaana dhoondhate kyon ho 

main khud ho jaoonga badanaam pahale naam hone do.



घुटन सी होने लगी उसके पास जाते हुए,

मैं ख़ुद से रूठ गया हूं उसे मनाते हुए।

ghutan si hone lagi usake paas jaate hue, 

main khud se rooth gaya hoon use manaate hue.



पहले वफ़ा, फिर जफा, आखिर में जाम हो गया,

कुछ इस तरहां से प्यार का किस्सा तमाम हो गया।

pahale wafa, phir jafa, aakhir mein jaam ho gaya, 

kuchh is tarahaan se pyaar ka kissa tamaam ho gaya.



गोरे जिस्म की तलाश में कभी निकला ही नहीं,

मैं शुरू से ही फ़िदा था तेरी सांवली सी सूरत पे।

gore jism ki talaash mein kabhi nikala hi nahin, 

main shuru se hi fida tha teri saanvali si soorat pe.



बैठे बिठाये यूँ कभी आया तेरा ख्याल,

हम लाख गमजदा थे मगर मुस्कुरा दिए।

baithe bithaaye yoon kabhi aaya tera khyaal, 

ham laakh gamajada the magar muskura diye.



तेरे ख्वाबो को आँखो मे सजा रखा है

जिंदगी को यूँ ही रंगीन बना रखा है,

बड़ी बेदर्द हैं दुनिया की निगाहें यारा

उससे बचाकर एक आशियाना रखा है।

tere khwabo ko aankho me saja rakha hai 

jindagi ko yoon hi rangeen bana rakha hai, 

badi bedard hain duniya ki nigaahen yaara 

usase bachaakar ek aashiyaana rakha hai.


शुद्ध हिंदी शायरी, shayari in hindi

shayari hindi mein
shayari in hindi / best hindi shayari


नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर,

कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।

neend se kya shikava jo aati nahin raat bhar, 

kasoor to us chehare ka hai jo sone nahin deta.



नादान आईने को क्या ख़बर कि,

एक चेहरा, चेहरे के अंदर भी होता है।

naadaan aaine ko kya khabar ki, ek chehara, 

chehare ke andar bhi hota hai.



उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में हम

महफ़िल में रह के भी रहे तन्हाइयों में हम,

इसे दीवानगी नहीं तो और क्या कहें

प्यार ढूंढ़ते रहे परछाईयों में हम।

utare jo zindagi teri gaharaiyon mein ham 

mahafil mein rah ke bhi rahe tanhaiyon mein ham, 

ise deewanagi nahin to aur kya kahen 

pyaar dhoondhate rahe parachhaiyon mein ham.



धूल हालात को हर बार चटाई मैंने,

मैं मुक़द्दर तो नहीं रखता जिगर रखता हूँ।

dhul haalaat ko har baar chatai mainne, 

main muqaddar to nahin rakhata jigar rakhata hoon.



तय है बदलना, हर चीज बदलती है इस जहां में,

किसी का दिल बदल गया, किसी के दिन बदल गए।

tay hai badalana, har cheej badalati hai 

is jahaan mein, kisi ka dil badal gaya, 

kisee ke din badal gaye.



निकाल दे दिल से ख्याल उसका ऐ दोस्त,

यादें किसी की तकदीर बदला नहीं करती।

nikaal de dil se khyaal usaka ai dost,

 yaaden kisi ki takadeer badala nahin karati.



नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम,

मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।

nahin hai ab koi justajoo is dil mein aye sanam, 

meri pahali aur aakhiri aarazoo bas tum ho.



फिर कहीं भी पनाह नहीं मिलती,

मोहब्बत जब बे-पनाह हो जाये।

phir kaheen bhi panaah nahin milati, 

mohabbat jab be-panaah ho jaaye.



तुझे पा ना सके तो भी सारी जिन्दगी तुझे प्यार करेंगे,

ये जरूरी तो नही जो मिल ना सके उसे छोड़ दिया जाये।

tujhe pa na sake to bhi saari jindagi tujhe pyaar karenge, 

ye jaroori to nahi jo mil na sake use chhod diya jaaye.


Also Read:

shayari in hindi, हिंदी शायरी प्यार

new hindi shayari
 latest shayari in hindi


होगी कितनी चाहत उस दिल में जो,

खुद ही मान जाये कुछ पल खफा होने के बाद।

hogi kitani chaahat us dil mein jo, 

khud hi maan jaaye kuchh pal khafa hone ke baad.



वो जानती थी गमो में मुस्कराने की आदत है,

जख्म देती थी नए नए रोज मेरी ख़ुशी के लिए।

vo jaanati thi gamo mein muskaraane ki aadat hai, 

jakhm deti thi naye naye roj meri khushi ke liye.



जरूरी नहीं कि काम से ही इंसान थक जाए,

कुछ ख्यालों का बोझ भी, इन्सान को थका देता है।

jaroori nahin ki kaam se hi insaan thak jaye, 

kuchh khyaalon ka bojh bhi, insaan ko thaka deta hai.



प्यार करके जताए ये जरुरी तो नहीं,

याद करके कोई बताए ये जरुरी तो नहीं।

pyaar karake jatae ye jaruri to nahin,

 yaad karake koi bataye ye jaruri to nahin.



रोने वाले तो दिल में ही रो लेते है;

आँखों में आंसू आए ये जरुरी तो नहीं।

rone vaale to dil mein hi ro lete hai;

 aankhon mein aansoo aaye ye jaruri to nahin.



भूलना तो ज़माने की रीत है,

मग़र तुमने शुरुआत हमसे क्यों की।

bhulana to zamaane ki reet hai, 

magar tumane shuruaat hamase kyon ki.



सांसे खर्च हो रही है बीती उम्र का हिसाब नहीं,

फिर भी जीए जा रहें हैं तुझे, जिंदगी तेरा जवाब नहीं।

saanse kharch ho rahi hai beeti umr ka hisaab nahin, 

phir bhi jeye ja rahen hain tujhe, jindagi tera javaab nahin.



तेरी जुल्फों में उलझा हुआ है,

वो मोहल्ले का सबसे सुलझा हुआ लडका।

teri julphon mein ulajha hua hai, 

vo mohalle ka sabase sulajha hua ladaka.



​मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदल के देख​,

​मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकल के देख​।

​mere baare mein apani soch ko thoda badal ke dekh​,

​mujhase bhi bure hain log tu ghar se nikal ke dekh​.



मैंने मुहब्बत की रस्म निभा दी है,

उसने ख़ता की थी मैंने दुआ दी है।

mainne muhabbat ki rasm nibha di hai, 

usane khata ki thi mainne dua di hai.


हिंदी शायरी दो लाइन, best shayari in hindi

beautiful shayari
New Shayari Hindi


हमने तो एक ही शख़्स पर चाहत ख़तम कर दी,

अब मोहब्बत किसे कहते है हमे मालूम नहीं।

hamane to ek hi shakhs par chaahat khatam kar di, 

ab mohabbat kise kahate hai hame maaloom nahin.



आज फिर ढल गया दिन और रात आ गयी

फिर तन्हाई में बैठने की बात आ गयी,

अभी तक तारों की पनाहों में बैठे ही थे

कि चाँद को देखा और तेरी याद आ गयी।

aaj phir dhal gaya din aur raat aa gayi 

phir tanhai mein baithane ki baat aa gayi, 

abhi tak taaron ki panaahon mein baithe hi the 

ki chaand ko dekha aur teri yaad aa gayi.



फिर से महसूस हुई तेरी कमी शिद्दत से,

आज फिर दिल को मनाने में हमे बड़ी देर लगी।

phir se mahasoos hui teri kami shiddat se, 

aaj phir dil ko manaane mein hame badi der lagi.



अगर तुम्हे यकीन नहीं तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास,

अगर तुम्हे यकीन है तो मुझे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं।

agar tumhe yakeen nahin to kahane ko kuchh nahin mere paas, 

agar tumhe yakeen hai to mujhe kuchh kahane ki zaroorat nahin.



अपनी ही तरह से परेशान है हर कोई

इस तपती धूंप के लिए कोई दरख़्त नहीं है,

किसी के पास खाने के लिये रोटी नहीं है

और किसी के पास रोटी खाने का वक़्त नहीं है

apani hi tarah se pareshaan hai har koi 

is tapati dhoop ke lie koi darakht nahin hai, 

kisi ke paas khaane ke liye roti nahin hai 

aur kisi ke paas roti khaane ka vaqt nahin hai



वो पढ़ कर अब अक्सर रो देती है शायरी मेरी,

लिखी थी जो कभी... 

हमने भी यादों में उसकी रो रो कर।

vo padh kar ab aksar ro deti hai shayari meri, 

likhi thi jo kabhi... 

hamane bhi yaadon mein usaki ro ro kar.



हसरतें कुछ और हैं वक्त की इल्तजा कुछ और है 

कौन जी सका है, ज़िन्दगी अपने मुताबिक... 

दिल चाहता कुछ और है होता कुछ और है।

hasaraten kuchh aur hain vakt ki iltaja kuchh aur hai 

kaun jee saka hai, zindagi apane mutaabik... 

dil chaahata kuchh aur hai hota kuchh aur hai.



सुबह की ख़्वाहिशें शाम तक टाली हैं,

कुछ इस तरह हमने ज़िंदगी सम्भाली है।

subah ki khvaahishen shaam tak taali hain, 

kuchh is tarah hamane zindagi sambhaali hai.



ज़िन्दगी में किसी का साथ काफी है

हाथों में किसी का हाथ काफी है,

दूर हो या पास फर्क नहीं पड़ता

प्यार का तो बस अहसास ही काफी है।

zindagi mein kisi ka saath kaafi hai 

haathon mein kisi ka haath kaafi hai, 

door ho ya paas fark nahin padata 

pyaar ka to bas ahasaas hi kaafi hai.



कुछ बदल जाते हैं, कुछ मजबूर हो जाते हैं,

बस यूं लोग एक-दूसरे से दूर हो जाते हैं।

]kuchh badal jaate hain, kuchh majaboor ho jaate hain, 

bas yoon log ek-doosare se door ho jaate hain.


new shayari, बेस्ट नयी शायरी हिंदी में

shayari hindi mein
beautiful hindi shayari


उसे लगता है उसकी चालाकियाँ

मुझे समझ नही आती...

मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ,

उसे अपनी नज़रों से गिरते हुए।

use lagata hai usaki chaalaakiyaan 

mujhe samajh nahi aati... 

main badi khaamoshi se dekhata hoon, 

use apani nazaron se girate hue.



चुप-चाप से रहते हैं वो अक्सर

ज़ुल्फ़ें भी सुना है कि संवारा नहीं करते,

दिन रात गुजरते हैं उनके बेचैन से

तो चैन से हम भी गुजारा नहीं करते।

chup-chaap se rahate hain vo aksar 

zulfen bhi suna hai ki sanvaara nahin karate, 

din raat gujarate hain unake bechain se 

to chain se ham bhi gujaara nahin karate.



क्यों मेरे दिल के इतने पास हो तुम,

कोई तो वज़ह होगी जो इतने ख़ास हो तुम।

kyon mere dil ke itane paas ho tum, 

koi to vazah hogi jo itane khaas ho tum.



अपनी ज़िन्दगी में उन्हें शामिल न कर सके

चाह कर भी उन्हें हासिल न कर सके,

उन्हें बेवफा से मोहब्बत थी

अफ़सोस खुद को उनके काबिल न कर सके।

apani zindagi mein unhen shaamil na kar sake 

chaah kar bhi unhen haasil na kar sake, 

unhen bewafa se mohabbat thi afasos 

khud ko unake kaabil na kar sake.



आज से हम बदलेंगे अंदाज़-ए-ज़िन्दगी,

राब्ता सबसे होगा वास्ता किसी से नहीं।

aaj se ham badalenge andaaz-e-zindagi,

 raabta sabase hoga vaasta kisi se nahin.



वो एक शख्स समझता था मुझे,

फिर वो भी समझदार हो गया।

vo ek shakhs samajhata tha mujhe, 

phir vo bhi samajhadaar ho gaya.



बिखेरे बैठा हूं कमरे में सब कुछ,

कहीं एक ख्वाब रखा था वो भी कहीं गुम है।

bikhere baitha hoon kamare mein sab kuchh, 

kaheen ek khwab rakha tha vo bhi kaheen gum hai.



कई आँखों में रहती है कई बांहें बदलती है,

मुहब्बत भी सियासत की तरह राहें बदलती है।

kai aankhon mein rahati hai kai baanhen badalati hai, 

muhabbat bhi siyaasat ki tarah raahen badalati hai.



अपने अहम् को थोड़ा-सा झुका के चलिये

सब अपने लगेंगे ज़रा-सा मुस्कुरा के चलिये।

apane aham ko thoda-sa jhuka ke chaliye 

sab apane lagenge zara-sa muskura ke chaliye.



बिजलियां तो गिरनी ही थी दिल पर मेरे यारों,

मैंने उस चांद से चेहरे को शर्माते जो देखा है।

bijaliyaan to girani hee thi dil par mere yaaron, 

mainne us chaand se chehare ko sharmaate jo dekha hai.



तरस जाओगे हमारे लबों से सुनने को एक लफ्ज भी,

प्यार की बात तो क्या हम शिकायत तक नहीं करेंगे। 

taras jaogye hamaare labon se sunane ko ek lafj bhi, 

pyaar ki baat to kya ham shikaayat tak nahin karenge.



मोहब्बत बुरी है बुरी है मोहब्बत,

कहे जा रहे है किये जा रहे है।

mohabbat buri hai buri hai mohabbat, 

kahe ja rahe hai kiye ja rahe hai.



अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो

सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से प्यार करते हो।

apani kalam se dil se dil tak ki baat karate ho 

seedhe seedhe kah kyon nahin dete ham se pyaar karate ho.



नज़रे करम मुझ पर इतना न कर

की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,

मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की

मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।

nazare karam mujh par itana na kar ki 

teri mohabbat ke liye baagi ho jaoon, 

mujhe itana na pila ishq-e-jaam ki 

main ishq ke jahar ka aadi ho jaoon.


ALSO READ :

shayari photo, नयी हिंदी शायरी

shayari in hindi
best shayari in hindi 


हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,

हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।

hamen seene se lagaakar hamaari saari kasak door kar do, 

ham sirf tumhaare ho jaye hamen itana majaboor kar do.



उठती नहीं है आंख किसी और की तरफ,

पाबंद कर गई है किसी की नजर मुझे।

uthati nahin hai aankh kisi aur ki taraph, 

paaband kar gai hai kisi ki najar mujhe.



अपनी मर्ज़ी से जिधर चाहें उधर चलते हैं,

हम वही हैं जो ज़माने को बहुत खलते हैं।

apani marzi se jidhar chaahen udhar chalate hain, 

ham vahi hain jo zamaane ko bahut khalate hain.



हर रिश्ते का नाम मोहब्बत हो ये जरुरी तो नही,

कभी कभी कुछ बेनाम रिश्तों के लिए भी दिल बेचैन रहता है।

har rishte ka naam mohabbat ho ye jaruri to nahi, 

kabhi kabhi kuchh benaam rishton ke liye bhee dil bechain rahata hai.



भूलना भुलाना तो बस एक वहम है दिल का,

कोई नही निकलता है, दिल में एक बार बस जाने के बाद।

bhoolana bhulaana to bas ek vaham hai dil ka, 

koi nahi nikalata hai, dil mein ek baar bas jaane ke baad.



मेरी यादों से अगर बच निकलो

तो ये वादा है मेरा तुमसे,

मैं खुद दुनिया से कह दूंगा

कमी मेरी वफ़ा में थी।

meri yaadon se agar bach nikalo 

to ye vaada hai mera tumase, 

main khud duniya se kah doonga 

kami meri wafa mein thi. 




जानता हूँ कि मुझ में बहुत सी कमियां हैं,

अगर आप मुकम्मल हैं तो छोड़ दीजिये मुझे।

jaanata hoon ki mujh mein bahut si kamiyaan hain, 

agar aap mukammal hain to chhod deejiye mujhe.



अक्सर दिखावे का प्यार ही शोर करता है,

सच्ची मोहब्बत तो इशारों में ही सिमट जाती है।

aksar dikhaave ka pyaar hi shor karata hai, 

sachchi mohabbat to ishaaron mein hi simat jaati hai.



अब कोई ख्वाब नया दिल में उतरता ही नहीं

बहुत ही सख्त पहरा है तुम्हारी चाहत का।

ab koi khvaab naya dil mein utarata hi nahin 

bahut hi sakht pahara hai tumhaari chaahat ka.



कुछ खूबसूरत से पल किस्सा बन जाते हैं

जाने कब जिंदगी का हिस्सा बन जाते हैं,

कुछ लोग अपने होकर भी अपने नहीं होते, और

कुछ बेगाने होकर भी जीवन का हिस्सा बन जाते है।

kuchh khubasurat se pal kissa ban jaate hain 

jaane kab jindagi ka hissa ban jaate hain, 

kuchh log apane hokar bhi apane nahin hote, 

aur kuchh begaane hokar bhi jeevan ka hissa ban jaate hai.



सुनो दोस्तो अच्छा एक सिगरेट पी के आता हूँ,

एक याद फसी है उसे धुए में उड़ा के आता हूँ।

suno dosto achchha ek sigarete pee ke aata hoon, 

ek yaad fasi hai use dhue mein uda ke aata hoon.



मैं अपने गीत ग़ज़लों से उसे पैगाम देता हूं

उसी की दौलत उसी के नाम करता हूं,

हवा का काम है चलना दीये का काम है जलना

वो अपना काम करती है मैं अपना काम करता हूँ।

main apane geet gazalon se use paigaam deta hoon 

usi ki daulat usi ke naam karata hoon,

 hava ka kaam hai chalana diye ka kaam hai jalana 

vo apana kaam karati hai main apana kaam karata hoon.



अगर लोग यूँ ही कमियां निकालते रहे तो,

एक दिन सिर्फ खूबियाँ ही रह जायेगी मुझमें।

agar log yoon hi kamiyaan nikaalate rahe to, 

ek din sirph khoobiyaan hi rah jaayegi mujhamen.



उसकी मुहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब है, 

अपना भी नहीं बनाती और किसी का होने भी नहीं देती।

usakee muhabbat ka silasila bhi kya ajeeb hai, 

apana bhi nahin banaati aur kisi ka hone bhi nahin deti.



एक तुम हो कि वफा तुमसे न होगी, न हुई,

एक हम कि तकाजा न किया है, न करेंगे।

ek tum ho ki wafa tumase na hogi, na hui, 

ek ham ki takaaja na kiya hai, na karenge.



चाहा है तुम्हें अपने अरमान से भी ज्यादा

लगती हो हसीन तुम मुस्कान से भी ज्यादा,

मेरी हर धड़कन हर साँस है तुम्हारे लिए

क्या माँगोगे जान मेरी जान से भी ज्यादा।

chaaha hai tumhen apane aramaan se bhi jyaada 

lagati ho haseen tum muskaan se bhi jyaada, 

meri har dhadakan har saans hai tumhaare liye 

kya maangoge jaan meri jaan se bhi jyaada.



में कभी पुराने फ़टे कपड़े पहनने में नही हिचकिचाता,

मुझे याद है वो तपते दिनों में पापा का काम करना।

mein kabhi puraane fate kapade pahanane mein nahi hichakichaata, 

mujhe yaad hai vo tapate dinon mein paapa ka kaam karana.



एक पल में ज़िन्दगी भर की उदासी दे गया

वो जाते जाते कुछ फूल बासी दे गया,

नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास

ज़र्द मौसम, बाँझ रुत को बे-लिबासी दे गया।

ek pal mein zindagi bhar ki udaasi de gaya 

vo jaate jaate kuchh phool baasi de gaya, 

noch kar shaakhon ke tan se khushk patton ka libaas 

zard mausam, baanjh rut ko be-libaasi de gaya.



एक साथ चार कंधे देख कर ज़हन में आया,

एक ही काफी था, गर जीते जी मिला होता।

ek saath chaar kandhe dekh kar zahan mein aaya, 

ek hi kaafi tha, gar jeete jee mila hota.


hindi shayari, shayari mast mast

shayari photo
new hindi shayari


वह जो औरों को बताती है जीने के तरीके,

खुद अपनी मुट्ठी मेँ मेरी जान लिए बैठी है।

vah jo auron ko bataati hai jeene ke tareeke, 

khud apani mutthi men meri jaan lie baithi hai.



सुना है हमने भी उम्मीद पे जीता है जमाना,

क्या करे वो जिसकी कोई उम्मीद ही न हो।

suna hai hamane bhi ummeed pe jeeta hai jamaana, 

kya kare vo jisaki koi ummeed hi na ho.



ज़ख्म क्या होता है ये बताएँगे किसी रोज

कमाल की ग़ज़ल तुमको सुनाएंगे किसी रोज,

थी उन की जिद के मैं जाऊं उनको मनाने

मुझे ये वहम था कि वो बुलाएँगे किसी रोज।

zakhm kya hota hai ye bataenge kisi roj 

kamaal ki gazal tumako sunaenge kisi roj, 

thi un kee jid ke main jaoon unako manaane 

mujhe ye vaham tha ki vo bulaenge kisee roj.



हाथ छूटे भी तो, रिश्ते नहीं छूटा करते,

वक़्त की शाख से लम्हे नहीं टूटा करते।

haath chhoote bhi to, rishte nahin chhoota karate, 

vaqt kee shaakh se lamhe nahin toota karate.



आज तेरी याद को सीने से लगा के रोये

खयालो में तुझे पास बुलाके रोये,

हज़ार बार पुकारा तुझको तन्हाई में

हर बार तुझे पास न पाकर रोये।

aaj teri yaad ko seene se laga ke roye

 khayaalo mein tujhe paas bulaake roye, 

hazaar baar pukaara tujhako tanhai mein 

har baar tujhe paas na paakar roye.



दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को है हमसे पर,

ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी।

dikhaave ki mohabbat to jamaane ko hai hamase par, 

ye dil to vahaan bikega jahaan zajbaato ki kadar hogi.



तेरी मेरी मोहब्बत पर लोग क्या सोचेंगे,

यह भी हम सोचेंगे तो लोग क्या सोचेंगे।

teri meri mohabbat par log kya sochenge, 

yah bhi ham sochenge to log kya sochenge.



इश्क़ की गहराईयों में खूबसूरत क्या है,

मै हूँ तुम हो किसी और की ज़रूरत क्या है।

ishq ki gaharaeeyon mein khubasurat kya hai, 

mai hoon tum ho kisi aur ki zaroorat kya hai.



तुमको याद रखने में मैं क्या-क्या भूल जाता हूँ

जो दिल में बात हैं तुमको बताना भूल जाता हूँ,

तुम्हारे लब को छूने का इरादा रोज करता हूँ

नजर तुमसे जो मिल जाये ज़माना भूल जाता हूँ।

tumako yaad rakhane mein main kya-kya bhool jaata hoon 

jo dil mein baat hain tumako bataana bhool jaata hoon, 

tumhaare lab ko chhoone ka iraada roj karata hoon 

najar tumase jo mil jaaye zamaana bhool jaata hoon.



अजीब फ़ुर्सत-ए-आवारगी मिली है मुझे सनम,

बिछड़ के तुझसे ज़माने का खौफ नहीं है कोई।

ajeeb fursat-e-aawaragi mili hai mujhe sanam, 

bichhad ke tujhase zamaane ka khauf nahin hai koi.



जा और कोई ज़ब्त की दुनिया तलाश कर

ऐ इश्क़ हम तो अब तेरे काबिल नहीं रहे।

ja aur koi zabt ki duniya talaash kar aye ishq 

ham to ab tere kaabil nahin rahe.



मेरा दिल भी कभी तुझसे पूछेगा एक दिन,

तूने किसको आबाद किया मुझे बर्बाद करके।

mera dil bhi kabhi tujhase poochhega ek din, 

toone kisako aabaad kiya mujhe barbaad karake.



किसी ने मुझसे पूछा ज़िन्दगी कैसे बर्बाद हुई,

मैंने ऊँगली उठायी और मोबाइल पर रख दी। 

kisi ne mujhase poochha zindagi kaise barbaad hui, 

mainne ungali uthaayi aur mobail par rakh di.



एहसान रहा इलजाम लगाने वालो का हम पर,

उठती उगलियो ने मशहूर कर दिया।

ehasaan raha ilajaam lagaane vaalo ka ham par, 

uthati ugaliyo ne mashahoor kar diya.



अपने दिल में हमें भी बसाए रखना

हमारी यादों के चराग जलाए रखना,

बहुत लंबा है ज़िंदगी का सफ़र मेरे दोस्त

इसका हिस्सा हमें भी बनाए रखना।

apane dil mein hamen bhi basae rakhana

 hamaari yaadon ke charaag jalaye rakhana, 

bahut lamba hai zindagi ka safar mere dost 

isaka hissa hamen bhi banaye rakhana.


No comments:
Write comment