टॉप 20 सबसे मशहूर शेर जो अक्सर लोगों की जुबान पर आ जाते हैं | best shero shayari quotes | best shayari in hindi

 नमस्कार दोस्तों_ आज का यह आर्टिकल top 20 shayari in hindi पर आधारित है, इस पोस्ट में आपको हिंदी और उर्दू के बड़े शायरों के द्वारा लिखें कुछ चुनिंदा और सुप्रसिद्ध शेरो शायरी का कलेक्शन पढने को मिलेगा,

 जिन्हें आपने कभी ना कभी जरूर सुना होगा, क्योंकि यह शेरो शायरी काफी ज्यादा पॉपुलर हैं, अगर आपको यह पोस्ट पसंद आता अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें  

तो चलिए दोस्तों पर से पढ़ते हैं best shayari in hindi, most famous poetry


best shero shayari
best shayari

top 20 shayari in hindi / जाने माने शायरों की प्रसिद्ध शायरी


बहुत पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं

तुझे ऐ जिंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं।

          _फ़िराक गोरखपुरी

bahut pahale se un kadamon ki aahat jaan lete hain 

tujhe aye jindagi ham door se pahachaan lete hain. 

               _firaak gorakhapuri



ऐ सनम वस्ल की तदबीरों से क्या होता है ?

वही होता है जो मंज़ूर-ए-ख़ुदा होता है।

            _मिर्ज़ा रज़ा बर्क़

aye sanam vasl ki tadabeeron se kya hota hai ? 

vahi hota hai jo manzoor-e-khuda hota hai. 

           _mirza raza barq 



भाँप ही लेंगे इशारा सर-ए-महफ़िल जो किया,

ताड़ने वाले क़यामत की नज़र रखते हैं।

            _माधव राम जौहर

bhanp hi lenge ishaara sar-e-mahafil jo kiya, 

taadane vaale qayaamat ki nazar rakhate hain. 

         _maadhav raam jauhar



चल साथ कि हसरत दिल-ए-मरहूम से निकले,

आशिक़ का जनाज़ा है, ज़रा धूम से निकले।

        _मिर्ज़ा मोहम्मद अली फ़िदवी

chal saath ki hasarat dil-e-marahoom se nikale, 

aashiq ka janaaza hai, zara dhoom se nikale. 

       _mirza mohammad ali fidavi



इब्तिदा ए इश्क है रोता है क्या

आगे आगे देख होता है क्या?

       _मीर तकी मीर

ibtida e ishq hai rota hai kya 

aage aage dekh hota hai kya? 

   _meer takee meer 



ईद का दिन है, गले आज तो मिल ले ज़ालिम,

रस्म-ए-दुनिया भी है,मौक़ा भी है, दस्तूर भी है।

               _क़मर बदायूंनी

ied ka din hai, gale aaj to mil le zaalim, 

rasm-e-duniya bhi hai,mauqa bhi hai, dastoor bhi hai.

             _qamar badayouni 



दुश्मनी लाख सही खत्म न कीजे रिश्ता

दिल मिले न मिले हाथ मिलाते रहिए।

           _निदा फ़ाज़ली

dushmani laakh sahi khatm na keeje rishta 

dil mile na mile haath milaate rahiye. 

          _nida fazali


top shayari in hindi / हिंदी शेर शायरी

top shayari in hindi
 best shayari in hindi


ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने,

लम्हों ने ख़ता की थी, सदियों ने सज़ा पाई

            _मुज़फ़्फ़र रज़्मी

ye jabr bhi dekha hai taareekh ki nazaron ne, 

lamhon ne khata ki thi, sadiyon ne saza pai

         _muzaffar razmis



क़ैस जंगल में अकेला ही मुझे जाने दो,

ख़ूब गुज़रेगी, जो मिल बैठेंगे दीवाने दो।

       _मियाँ दाद ख़ां सय्याह

qais jangal mein akela hi mujhe jaane do, 

khoob guzaregi, jo mil baithenge diwane do. 

     _miyaan daad khaan sayyaah



मीर' अमदन भी कोई मरता है?

जान है तो जहान है प्यारे।

     _मीर तक़ी मीर

meer amadan bhi koi marata hai? 

jaan hai to jahaan hai pyaare. 

    _meer taqi meer



शब को मय ख़ूब पी, सुबह को तौबा कर ली,

रिंद के रिंद रहे हाथ से जन्नत न गई।

        _जलील मानिकपुरी

shab ko may khoob pee, subah ko tauba kar li, 

rind ke rind rahe haath se jannat na gai. 

         _jaleel maanikapuri 



दिल के फफोले जल उठे सीने के दाग़ से,

इस घर को आग लग गई, घर के चराग़ से।

         _महताब राय ताबां

dil ke Fafole jal uthe seene ke daag se, 

is ghar ko aag lag gai, ghar ke charaag se. 

      _mahataab ray taban 



शहर में अपने ये लैला ने मुनादी कर दी,

कोई पत्थर से न मारे मेंरे दीवाने को।

      _शैख़ तुराब अली क़लंदर

shahar mein apane ye laila ne munaadee kar di, 

koi patthar se na maare mere deevaane ko. 

      _shaikh turaab ali qalandar



मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर 

लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया 

          _मजरूह सुल्तानपुरी

main akela hi chala tha jaanib-e-manzil magar 

log saath aate gaye aur karwan banata gaya 

       _majarooh sultanapuri


ALSO READ : बेस्ट सैड शायरी इन हिंदी, emotional shayari

most famous lines of poetry / प्रसिद्ध शायरी

best shayari in hindi
 most famous shayari


ये कौन शख्स है, ये किस कदर अकेला है 

ये शख्स भीड़ में अक्सर दिखाई देता है 

             _जका सिद्दीकी 

ye kaun shakhs hai, ye kis kadar akela hai 

ye shakhs bheed mein aksar dikhai deta hai 

          _jaka siddiki 



अनोखी वजह है सारे जमाने से निराले हैं 

यह आशिक कौन सी बस्ती के यारब रहने वाले हैं 

            _अल्लामा इकबाल 

anokhi vajah hai saare jamaane se niraale hain yah

 aashik kaun si basti ke yaarab rahane vaale hain

           _allaama ikabaal 



सितारों से आगे जहाँ और भी हैं 

अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं 

        _अल्लामा इक़बाल

sitaaron se aage jahaan aur bhi hain 

abhi ishq ke imtihaan aur bhi hain 

     _allaama iqabaal 



हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम 

वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता 

            _अकबर इलाहाबादी

ham aah bhi karate hain to ho jaate hain badanaam 

vo qatl bhi karate hain to charcha nahin hota 

         _akabar ilahaabaadi 



ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले 

ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है 

             _अल्लामा इक़बाल

khudi ko kar buland itana ki har taqadeer se pahale 

khuda bande se khud poochhe bata teri raza kya hai 

             _allaama iqabaal 



मैं सो भी जाऊं तो क्या, मेरी बंद आंखों में

तमाम रात कोई जागता लगे हैं मुझे  

         _जां निसार अख्तर 

main so bhi jaoon to kya, meree band aankhon mein 

tamaam raat koi jaagata lage hain mujhe 

        _jaan nisaar akhtar


ALSO READ : john elia shayari poetry quotes thoughts | शायर जौन एलिया की कुछ बेहतरीन शायरी

Post a Comment

0 Comments