kumar vishwas के 60+ बेहतरीन मुक्तक | kumar vishwas poems, kavita | kumar vishwas poetry

kumar vishwas poems photo
kumar vishwas poems lyrics in hindi

kumar vishwas poetry नमस्कार दोस्तों- आज का यह लेख कुमार विश्वास जी की
कविताओं पर आधारित है कुमार विश्वास का जन्म 10 फरवरी 1970 को (उत्तर प्रदेश गाजियाबाद के) पिलखुआ गांव में हुआ था

कुमार विश्वास जी के पिता उनको इंजीनियर बनाना चाहते थे, परंतु कुमार जी का मन वहां नहीं लगा तो उन्होंने अपनी पढ़ाई को बीच में ही छोड़ दिया उसके बाद विश्वास जी ने साहित्य में स्नातकोत्तर किया

कुमार विश्वास जी आज के समय के सबसे व्यस्ततम कभी हैं पगली लड़की, कोई दीवाना कहता है, इनकी प्रमुख कृतियां हैं विश्वास जी की कविताओं और गीतों को आज युवा पीढ़ी द्वारा बहुत पसंद किया जाता है

तो आइए पढ़ते हैं kumar vishwas poetry in hindi kumar vishwas shayari, kumar vishwas thought, kumar vishwas status


kumar vishwas poems in hindi

in Hindi

  नजर में 'शोखीयां" लब पर 'मोहब्बत' का तराना है,

 मेरी उम्मीद की जद में अभी सारा जमाना है|

 कई जीते हैं दिल के देश पर मालूम है मुझको,

 सिकंदर हूं मुझे एक रोज खाली हाथ जाना है|

in Hinglis

najar mein shokhiyaan" lab par mohabbat ka taraana hai,

 meri ummeed ki jad mein abhi saara jamaana hai| 

kaee jeete hain dil ke desh par maaloom hai mujhako,

 sikandar hoon mujhe ek roj khaali haath jaana hai|





  उसी की तरह मुझे सारा जमाना चाहे,

  वह मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे|

  मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,

  यह मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे |    

usi ki tarah mujhe saara jamaana chaahe, 

vah mera hone se jyaada mujhe paana chaahe| 

meri palakon se fisal jaata hai chehara tera, 

yah musaafir to koi thikaana chaahe |  


kumar vishwas famous shayari in hindi

kumar vishwas poem lyrics
कुमार विश्वास की शायरी इन हिंदी


   जिस्म का आखिरी मेहमान बना बैठा हूं,

   एक उम्मीद का उन्वान बना बैठा हूं|

   वह कहां है यह हवाओं को भी मालूम है,

   एक बस में हूं जो अनजान बना बैठा हू|

jism ka aakhiri mehamaan bana baitha hoon, 

ek ummeed ka unvaan bana baitha hoon| 

vah kahaan hai yah havaon ko bhi maaloom hai, 

ek bas mein hoon jo anajaan bana baitha hoo|





    हमने दुख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है,

   और उदासी के पंजों से हंसने का सुख छीना है|

   मान और सम्मान हमें ए याद दिलाते हैं पल पल,

  भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है|

hamane dukh ke mahasindhu se sukh ka moti beena hai,

 aur udaasi ke panjon se hansane ka sukh chhina hai| 

maan aur sammaan hamen ye yaad dilaate hain pal pal,

 bheetar bheetar marana hai par baahar baahar jeena hai| 





    पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार क्या करना,

   जो दिल हारा हुआ हो उस पे फिर अधिकार क्या करना|

   'मोहब्बत' का मजा तो डूबने की कशम-कश में है,

  जो हो मालूम गहरायी तो दरिया पार क्या करना

 panahon mein jo aaya ho to us par waar kya karana, 

jo dil haara hua ho us pe phir adhikaar kya karana| 

mohabbat ka maja to doobane ki kasham-kash mein hai, 

jo ho maaloom gaharaayi to dariya paar kya karana 





सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता,

 खुशी के घर में भी बोलो कभी क्या गम नहीं होता|

 फकत एक आदमी के वास्ते जग छोड़ने वालों,

 फकत उस आदमी से ये जमाना कम नहीं होता|

sada to dhoop ke haathon mein hi paracham nahin hota, 

khushi ke ghar mein bhi bolo kabhi kya gam nahin hota| 

phakat ek aadami ke vaaste jag chhodane vaalon, 

fakat us aadami se ye jamaana kam nahin hota.





        बताएं क्या हमें किन किन सहारो ने सताया है,

   नदी तो कुछ नहीं बोली किनारों ने सताया है|

  सदा से शूल मेरी राह से खुद हट गए लेकिन,

  मुझे तो हर घड़ी हर पल बहारों ने सताया है|

bataen kya hamen kin kin sahaaro ne sataaya hai, 

nadi to kuchh nahin boli kinaaron ne sataaya hai| 

sada se shool meri raah se khud hat gae lekin, 

mujhe to har ghadi har pal bahaaron ne sataaya hai.






      ना पाने की खुशी है कुछ ना खोने का ही कुछ गम है,

   ये 'दौलत' और 'शोहरत' सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है|

  अजब सी कशमकश है रोज जीने रोज मरने में ,

  मुकम्मल जिंदगी तो है मगर पूरी से कुछ कम है|

 na paane ki khushi hai kuchh na khone ka hi kuchh gam hai, 

ye daulat aur shoharat sirf kuchh jakhmon ka maraham hai|

 ajab si kashamakash hai roj jeene roj marane mein ,

 mukammal jindagi to hai magar poori se kuchh kam hai





      कोई मंजिल नहीं जंचती, सफर अच्छा नहीं लगता,

     अगर घर लौट भी आऊं तो घर अच्छा नहीं लगता|

    करूं कुछ भी मैं अब दुनिया को सब अच्छा ही लगता है,

    मुझे कुछ भी तुम्हारे बिन मगर अच्छा नहीं लगता|

 koi manjil nahin janchati, safar achchha nahin lagata,

 agar ghar laut bhi aaoon to ghar achchha nahin lagata| 

karoon kuchh bhi main ab duniya ko sab achchha hi lagata hai, 

mujhe kuchh bhi tumhaare bin magar achchha nahin lagata






   बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,

    तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले|

   तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी तब तो मानोगी,

   जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले|

badalane ko to in aankhon ke manjar kam nahin badale, 

tumhaari yaad ke mausam hamaare gam nahin badale| 

tum agale janm mein ham se milogi tab to maanogi, 

jamaane aur sadi ki is badal mein ham nahin badale.





          मेरे जीने मरने में, तुम्हारा नाम आएगा

     मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा

     हर एक धड़कन में जब तुम हो, तो फिर अपराध क्या मेरा

    अगर राधा पुकारेंगी, तो घनश्याम आएगा

mere jeene marane mein, tumhaara naam aaega 

main saanse rok loo phir bhi, yahee ilazaam aaega 

har ek dhadakan mein jab tum ho, to phir aparaadh kya mera

 agar raadha pukaarengi, to fir ghanashyaam aayega.





     तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है

     हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है

    अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़

    तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है

 tumhaara khwaab jaise gam ko apanane se darata hai

 hamaari aakhan ka aansoon , khushi paane se darata hai

 azab hai lazzate gam bhi, jo mera dil abhi kal taq 

tere jaane se darata tha vo ab aane se darata hai 



इसे भी पढ़ें ➤ राहत इन्दौरी के मशहूर शेर

kumar vishwas poetry on love

dr kumar vishwas poetry
kumar vishwas famous poetry


    बहुत बिखरा बहुत टूटा मगर मैं सह नहीं पाया,

    हवाओं के इशारों पर मगर मैं बह नहीं पाया|

   अधूरा अनसुना ही रह गया यूं प्यार का किस्सा,

   कभी तुम सुन नहीं पाई कभी मैं कह नहीं पाया |

bahut bikhara bahut toota magar main sah nahin paaya,

 hawaon ke ishaaron par magar main bah nahin paaya| 

adhoora anasuna hi rah gaya yoon pyaar ka kissa, 

kabhi tum sun nahin pai kabhi main kah nahin paaya.





      गिरेबां चाक कर अपना कि सीना और मुश्किल है,

      हर पल मुस्कुराके अश्क पीना और मुश्किल है |

     हमारी बदनसीबी ने हमें इतना सिखाया है,

    किसी के इश्क में मरने से जीना और मुश्किल है|

girebaan chaak kar apana ki seena aur mushkil hai, 

har pal muskuraake ashk peena aur mushkil hai | 

hamaari badanasibi ne hamen itana sikhaaya hai, 

kisi ke ishq mein marane se jeena aur mushkil hai.






 मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हें बतला रहा हूं मैं ,

कोई लब छू गया था तब के अब तक गा रहा हूं मैं|

बिछड़ के तुमसे अब कैसे जिया जाए बिना तड़पे,

जो मैं खुद ही नहीं समझा वही समझा रहा हूं मैं|

mera apana tajurba hai tumhen batala raha hoon main ,

 koi lab chhoo gaya tha tab ke ab tak ga raha hoon main| 

bichhad ke tumase ab kaise jiya jaye bina tadape, 

jo main khud hee nahin samajha vahi samajha raha hoon main.





    सब अपने दिल के राजा हैं सबकी  कोई रानी है,

    भले प्रकाशित हो ना हो पर सब की कोई कहानी है|

   बहुत सरल है किसने कितना दर्द सहा है,

   जितनी जिसकी आंख  हंसे है उतनी पीर  पुरानी है|

 sab apane dil ke raaja hain sabaki koi raani hai, 

bhale prakaashit ho na ho par sab ki koi kahaani hai| 

bahut saral hai kisane kitana dard saha hai, 

jitani jisaki aankh hanse hai utani peer puraani hai.







 पुकारे आँख में चढ़कर तो खू को खू समझता है,

    अँधेरा किसको को कहते हैं ये बस जुगनू समझता है,

    हमें तो चाँद तारों में भी तेरा रूप दिखता है,

    मोहब्बत में नुमाईश को अदायें तू समझता है

pukaare aankh mein chadhakar to khun ko khun samajhata hai, 

andhera kisako ko kahate hain ye bas juganu samajhata hai,

 hamen to chaand taaron mein bhi tera roop dikhata hai,

 mohabbat mein numaish ko adayen tu samajhata hai 





     जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल एक ऐसा इकतारा है,

    जो हमको भी प्यारा है और, जो तुमको भी प्यारा है.

    झूम रही है सारी दुनिया, जबकि हमारे गीतों पर,

    तब कहती हो 'प्यार' हुआ है, क्या एहसान तुम्हारा है

jisaki dhun par duniya naache, dil ek aisa ikataara hai, 

jo hamako bhi pyaara hai aur, jo tumako bhi pyaara hai. 

jhoom rahi hai saari duniya, jabaki hamaare geeton par,

 tab kahati ho pyaar hua hai, kya ehasaan tumhaara hai





    कितनी दुनिया है मुझे जिंदगी देने वाली,

   और एक ख्वाब है तेरा कि जो मर जाता है

   खुद को तरतीब से जोडूं तो कहा से जोडूं,

   मेरी मिट्टी में जो तू है कि बिखर जाता है

kitani duniya hai mujhe jindagi dene vaali, 

aur ek khvaab hai tera ki jo mar jaata hai 

khud ko tarateeb se jodoon to kaha se jodoon,

 meri mitti mein jo tu hai ki bikhar jaata hai 






  

   नेह के सन्दर्भ बौने हो गए होंगे मगर,

   फिर भी तुम्हारे साथ मेरी भावनायें हैं,

   शक्ति के संकल्प बोझिल हो गये होंगे मगर,

   फिर भी तुम्हारे चरण मेरी कामनायें हैं,

neh ke sandarbh baune ho gaye honge magar, 

phir bhee tumhaare saath meree bhavanayen hain, 

shakti ke sankalp bojhil ho gaye honge magar, 

phir bhi tumhaare charan meri kaamanaayen hain, 


kumar vishwas thought

kumar vishwas poems
 kumar vishwas kavita



    मिले हर जख्म को मुस्कान से सीना नहीं आया,

    अमरता चाहते थे पर जहर पीना नहीं आया |

   तुम्हारी और हमारी दास्तां में फर्क इतना है,

   मुझे मरना नहीं आया तुम्हें जीना नहीं आया|

 mile har jakhm ko muskaan se seena nahin aaya, 

amarata chaahate the par jahar peena nahin aaya | 

tumhaari aur hamaari daastaan mein phark itana hai, 

mujhe marana nahin aaya tumhen jeena nahin aaya.





     हर एक नदिया के होंठों पे समंदर का तराना है,

     यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है !

    वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है,

      तुम्हारे और मेरे बीच में फिर से जमाना है

har ek nadiya ke honthon pe samandar ka taraana hai, 

yahaan pharahaad ke aage sada koi bahaana hai ! 

vahi baaten puraani thi, vahi kissa puraana hai, 

tumhaare aur mere beech mein phir se jamaana hai 





     मुझे मारकर वह खुश है कि सारा राज उस पर है

     यकीनन कल है मेरा आज बेशक उसका आज है

    उसे जिद थी कि झुकाओ सर तभी दस्तार बख्शूंगा

    मैं अपना सर बचा लाया महल और ताज उस पर है

mujhe maarakar vah khush hai ki saara raaj us par hai 

yakeenan kal hai mera aaj beshak usaka aaj hai 

use jid thi ki jhukao sar tabhi dastaar bakhshoonga 

main apana sar bacha laaya mahal aur taaj us par hai








     इस उड़ान पर अब शर्मिंदा, में भी हूँ और तू भी है

    आसमान से गिरा परिंदा, में भी हूँ और तू भी है

    छुट गयी रस्ते में, जीने मरने की सारी कसमें

    अपने-अपने हाल में जिंदा, में भी हूँ और तू भी है

 is udaan par ab sharminda, mein bhi hoon aur tu bhi hai

 aasamaan se gira parinda, mein bhi hoon aur tu bhi hai

 chhut gayi raste mein, jeene marane ki saari kasamen 

apane-apane haal mein jinda, mein bhi hoon aur tu bhi hai 






 पुरानी दोस्ती को इस नई ताकत से मत तौलो

    ये संबंधों की तुरपाई है षड्यंत्रों से मत खोलो

    मेरे लहजे की छेनी से गढ़े कुछ देवता जो कल

    मेरे लफ्जे में मरते थे वो कहते है कि अब मत बोलो

puraani dosti ko is nai taakat se mat taulo 

ye sambandhon ki turapai hai shadyantron se mat kholo 

mere lahaje ki chheni se gadhe kuchh devata jo 

kal mere laphje mein marate the vo kahate hai ki ab mat bolo 





    अगर दिल ही मुअज्जन हो सदायें काम आती हैं,

    समन्दर में सभी माफिक हवायें काम आती हैं

    मुझे आराम है ये दोस्तों की मेहरवानी है,

    दुआयें साथ हों तो सब दवायें काम आतीं है।

agar dil hi muajjan ho sadaayen kaam aati hain, 

samandar mein sabhi maafik havayen kaam aati hain 

mujhe aaraam hai ye doston ki meharabani hai, 

duayen saath hon to sab davayen kaam aati hai.





    खुशहाली में एक बदहाली, में भी हूँ और तू भी है

    हर निगाह पर एक सवाली, में भी हूँ और तू भी है

    दुनिया कितना अर्थ लगाए, हम दोनों को मालूम है

    भरे-भरे पर खाली-खाली, में भी हूँ और तू भी है

khushahaali mein ek badahaali, mein bhi hoon aur tu bhi hai 

har nigaah par ek savaali, mein bhi hoon aur tu bhi hai 

duniya kitana arth lagae, ham donon ko maaloom hai 

bhare-bhare par khaali-khaali, mein bhi hoon aur tu bhi hai 





   मैं अपने गीतों और गजलों से उसे पैगाम करता हूं

     उसकी की दी हुई दौलत उसी के नाम करता हूं

     हवा का काम है चलना दिए का काम है जलना

     वो अपना काम करती है मैं अपना काम करता हूं

main apane geet aur gajalon se use paigaam karata hoon 

usi ki di hui daulat usi ke naam karata hoon 

hawa ka kaam hai chalana diye ka kaam hai jalana 

vo apana kaam karati hai main apana kaam karata hoon 





   एक दो दिन में वो इकरार कहाँ आएगा

    हर सुबह एक ही अखबार कहाँ आएगा

   आज बंधा है जो इन् बातों में तो बहल जायेंगे

    रोज इन बाहों का त्यौहार कहाँ आएगा

ek do din mein vo ikaraar kahaan aayega 

har subah ek hi akhabaar kahaan aayega 

aaj bandha hai jo in baaton mein to 

bahal jaayenge roj in baahon ka tyauhaar kahaan aayega




kumar vishwas poem lyrics

kumar vishwas poems
kumar vishwas poetry


   कहीं पर जग लिए तुम बिन, कहीं पर सो लिए तुम बिन

     भरी महफिल में भी अक्सर, अकेले हो लिए तुम बिन

     ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने

    कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन

kahin par jag liye tum bin, kaheen par so liye tum bin 

bharee mahafil mein bhi aksar, akele ho liye tum bin 

ye pichhale chand varshon ki kamai saath hai apane 

kabhi to hans liye tum bin, kabhi to ro liye tum bin 





     किसी पत्थर में मूरत है कोई पत्थर की मूरत है

    लो हमने देख ली दुनिया जो इतनी ख़ूबसूरत है

     ज़माना अपनी समझे पर मुझे अपनी खबर ये है

    तुम्हें मेरी जरूरत है मुझे तेरी जरूरत है

 kisi patthar mein murat hai koi patthar kee murat hai 

lo hamane dekh li duniya jo itani khoobasorat hai 

zamaana apani samajhe par mujhe apani khabar ye hai 

tumhen meri jaroorat hai mujhe teri jaroorat hai 





     कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ

     किसी की इक तरन्नुम में, तराने भूल आया हूँ

     मेरी अब राह मत तकना कभी ऐ आसमाँ वालो

     मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ

 koi khaamosh hai itana, bahaane bhool aaya hoon 

kisi ki ik tarannum mein, taraane bhool aaya hoon 

meri ab raah mat takana kabhi aye aasamaan vaalo 

main ik chidiya ki aankhon mein, udaane bhool aaya hoon 





     हर एक नदिया के होठों पर समुंदर का तराना है

    यहां फरहाद के आगे खड़ा फिर कोई बहाना है

    वही बातें पुरानी थी वही किस्सा पुराना है

     तुम्हारे और मेरे बीच में फिर से जमाना है

har ek nadiya ke hothon par samundar ka taraana hai 

yahaan pharahaad ke aage khada phir koi bahaana hai 

vahee baaten puraani thi vahi kissa puraana hai 

tumhaare aur mere beech mein phir se jamaana hai 





इसे भी पढ़ें ➤ दुष्यंत कुमार की कुछ चुनिंदा कविताएं और गजलें




     किसी के दिल की मायूसी जहाँ से होके गुजरी है,

     हमारी सारी चालाकी वहीं पे खो के गुजरी है

     तुम्हारी और हमारी रात में बस फर्क इतना है,

     'तुम्हारी' सो के गुजरी है 'हमारी' रो के गुजरी है

 kisi ke dil ki maayoosi jahaan se hoke gujari hai,

 hamaari saari chaalaaki vahi pe kho ke gujari hai 

tumhaari aur hamaari raat mein bas fark itana hai,

 tumhaari so ke gujari hai hamaari ro ke gujari hai





      कोई कब तक महेज सोचे,कोई कब तक महेज गाए

     ईलाही क्या ये मुमकिन है कि कुछ ऐसा भी हो जाए

     मेरा 'महताब' उसकी रात के आगोश मे पिघले

    मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ वो मुझमे घुल के सो जाए

koi kab tak mahej soche,koi kab tak mahej gaye 

eelaahi kya ye mumakin hai ki kuchh aisa bhi ho jaye 

mera mahataab usaki raat ke aagosh me pighale 

main usaki neend me jaagun vo mujhame ghul ke so jaye 





    खुद से भी न मिल सको इतने पास मत होना

     इश्क़ तो करना मगर देवदास मत होना

     देना , चाहना , मांगना या खो देना

    ये सारे खेल है इनमें उदास मत होना

 khud se bhi na mil sako itane paas mat hona 

ishq to karana magar devadaas mat hona 

 chaahana , maangana ya kho dena 

ye saare khel hai inamen udaas mat hona 





    स्वयं से दूर हो तुम भी स्वयं से दूर हैं हम भी

    बहुत मशहूर हो तुम भी बहुत मशहूर हैं हम भी

    बड़े मगरूर हो तुम भी बहुत मगरूर हैं हम भी

    अत: मजबूर हो तुम भी बहुत मजबूर हैं हम भी

 svayam se door ho tum bhi svayam se door hain ham bhi

 bahut mashahoor ho tum bhi bahut mashahoor hain ham bhi

 bade magaroor ho tum bhi bahut magaroor hain ham bhi

 ath: majaboor ho tum bhi bahut majaboor hain ham bhi



kumar vishwas poetry

kumar vishwas thought
kumar vishwas status



     तुम्हीं पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता,

     कई जन्मों से बंदी है वगावत क्यों नहीं करता

     कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत है जमाने से,

     मेरी तारीफ करता है मुहब्बत क्यों नही करता

tumhi pe marata hai ye dil adaavat kyon nahin karata, 

kai janmon se bandi hai bagaavat kyon nahin karata 

kabhi tumase thi jo vo hi shikaayat hai jamaane se, 

meri taareef karata hai muhabbat kyon nahi karata 





     जो धरती से अम्बर जोड़े, उसका नाम 'मोहब्बत' है,

     जो शीशे से पत्थर तोड़े, उसका नाम 'मोहब्बत' है,

     कतरा-कतरा सागर तक तो,जाती है हर उम्र मगर,

     बहता दरीया वापस मोड़े, उसका नाम 'मोहब्बत' है

 jo dharati se ambar jode, usaka naam mohabbat hai, 

jo sheeshe se patthar tode, usaka naam mohabbat hai, 

katara-katara saagar tak to,jaati hai har umr magar,

 bahata dareeya vaapas mode, usaka naam mohabbat hai





     तुम्हारे पास हूं लेकिन, जो दूरी है समझता हूं

     तुम्हारे बिन मेरी हस्ती, अधूरी है समझता हूं,

    तुम्हे मैं भूल जाऊँगा, ये मुमकिन है नहीं लेकिन

    तुम्ही को भूलना सबसे जरूरी है समझता हूं

tumhaare paas hoon lekin, jo doori hai samajhata hoon 

tumhaare bin meri hasti, adhoori hai samajhata hoon, 

tumhe main bhool jaoonga, ye mumakin hai nahin lekin 

tumhi ko bhoolana sabase jaroori hai samajhata hoon 





    नज़र में शोखियां लब पर मोहब्बत का तराना है

     मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है,

    कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझको

     सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।

 nazar mein shokhiyaan lab par mohabbat ka taraana hai 

meree ummeed ki jad mein abhi saara jamaana hai, 

kai jeete hai dil ke desh par maaloom hai mujhako 

sikandar hoon mujhe ik roj khaali haath jaana hai.





    बस्ती बस्ती घोर उदासी पर्वत पर्वत खालीपन

     मन हीरा बेमोल बिक गया घिस घिस रीता तन चंदन

    इस धरती से उस अम्बर तक दो ही चीज़ गज़ब की है

    एक तो तेरा भोलापन है एक मेरा दीवानापन

basti basti ghor udaasi parvat parvat khaaleepan 

man heera bemol bik gaya ghis ghis reeta tan chandan 

is dharati se us ambar tak do hi cheez gazab ki hai 

ek to tera bholaapan hai ek mera deevanapan 





     हमें बेहोश कर साकी, पिला भी कुछ नहीं हमको

    कर्म भी कुछ नहीं हमको, सिला भी कुछ नहीं हमको

    मोहब्बत ने दे दिआ है सब, मोहब्बत ने ले लिया है सब

     मिला कुछ भी नहीं हमको, गिला भी कुछ नहीं हमको

 hamen behosh kar saaki, pila bhi kuchh nahin hamako 

karm bhi kuchh nahin hamako, sila bhi kuchh nahin hamako

 mohabbat ne de diya hai sab, mohabbat ne le liya hai sab

 mila kuchh bhi nahin hamako, gila bhi kuchh nahin hamako






     पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार करना क्या

    जो दिल हारा हुआ हो उस पर फिर अधिकार करना क्या

     मोंहब्बत का मज़ा तो डूबने की कश्म-कश में है

     हो गर मालूम गहराई तो दरिया पार करना क्या

panaahon mein jo aaya ho to us par waar karana kya 

jo dil haara hua ho us par phir adhikaar karana kya 

monhabbat ka maza to doobane ki kashm-kash mein hai 

ho gar maaloom gaharai to dariya paar karana kya 





      फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,

      ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,

    अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,

    कलम में शुक्र-ए-खुदा है कि ‘रौशनाई’ है

falak pe bhor ki dulhan yun saj ke aai hai, 

ye din uga hai ya sooraj ke ghar sagai hai, 

abhi bhi aate hain aansoo meri kahaani mein, 

kalam mein shukr-e-khuda hai ki ‘raushanai’ hai 





     भ्रमर कोई 'कुमुदनी' पर मचल बैठा तो हंगामा,

    हमारे दिल में कोई 'ख्वाब' पल बैठा तो हंगामा,

    अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का

    मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा

 bhramar koi kumudani par machal baitha to hangaama, 

hamaare dil mein koi khwaab pal baitha to hangaama, 

abhi tak doob kar sunate the sab kissa mohabbat ka 

main kisse ko hakeekat mein badal baitha to hangaama





    बात ऊँची थी मगर बात जरा कम आंकी

     उसने जज्बात की औकात जरा कम आंकी

     वो फरिश्ता कह कर मुझे जलील करता रहा

     मै इंसान हूँ, मेरी जात जरा कम आंकी

baat unchi thee magar baat jara kam aanki 

usane jajbaat ki aukaat jara kam aanki

 vo pharishta kah kar mujhe jaleel karata raha 

mai insaan hoon, meri jaat jara kam aanki 


kumar vishwas kavita

kumar vishwas poetry
 kumar vishwas poem lyrics



    मिल गया था जो मुक़द्दर वो खो के निकला हूँ.

     में एक लम्हा हु हर बार रो के निकला हूँ.

    राह-ए-दुनिया में मुझे कोई भी दुश्वारी नहीं.

    में तेरी ज़ुल्फ़ के पेंचो से हो के निकला हूँ

 mil gaya tha jo muqaddar vo kho ke nikala hoon. 

mein ek lamha hu har baar ro ke nikala hoon. 

raah-e-duniya mein mujhe koi bhee dushvaari nahin. 

mein teri zulf ke pencho se ho ke nikala hoon .

.



      महफिल-महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है,

     खुद ही खुद को समझाना तो पड़ता है

     उनकी आँखों से होकर दिल जाना.

    रस्ते में ये मैखाना तो पड़ता है.

mahaphil-mahafil muskaana to padata hai, 

khud hi khud ko samajhaana to padata hai 

unakee aankhon se hokar dil jaana. 

raste mein ye maikhaana to padata hai.  






    मोंहब्बत एक 'अहसासों' की, पावन सी कहानी है

    कभी कबीरा दीवाना था, कभी मीरा दीवानी है,

    यहाँ सब लोग कहते है, मेरी आँखों में पानी है

   जो तुम समझो तो मोती है, जो ना समझो तो पानी है।

monhabbat ek ahasason ki, paawan si kahaani hai 

kabhi kabeera diwana tha, kabhi meera deewaani hai, 

yahaan sab log kahate hai, meri aankhon mein aansu hai 

jo tum samajho to moti hai, jo na samajho to paani hai.






    मैं तेरा ख्वाब जी लूँ पर लाचारी है,

   मेरा गुरूर मेरी ख्वाहिसों पे भारी है,

   सुबह के सुर्ख उजालों से तेरी मांग से,

   मेरे सामने तो ये श्याह रात सारी है।

main tera khwaab jee loon par laachaari hai, 

mera guroor meri khvaahison pe bhaari hai, 

subah ke surkh ujaalon se teri maang se, 

mere saamane to ye shyaah raat saari hai.





      ये दिल बर्बाद करके, इसमें क्यों आबाद रहते हो

     कोई कल कह रहा था तुम "इलाहाबाद" रहते हो.

    ये कैसी शोहरतें मुझे अता कर दी मेरे मौला

    में सब कुछ भूल जाता हु मगर तुम याद रहते हो।

 ye dil barbaad karake, isamen kyon aabaad rahate ho 

koi kal kah raha tha tum "ilaahaabaad" rahate ho. 

ye kaisi shoharaten mujhko ata kar di mere maula 

mein sab kuchh bhool jaata hu magar tum yaad rahate ho.





    ये चादर सुख की मोल क्यूँ, सदा छोटी बनाता है

    सिरा कोई भी थामो, दूसरा खुद छुट जाता है,

    तुम्हारे साथ था तो मैं, जमाने भर में रुसवा था

    मगर अब तुम नहीं हो तो, ज़माना साथ गाता है।

ye chaadar sukh ki maola kyoon, sada chhoti banaata hai 

sira koi bhee thaamu, doosara khud chhut jaata hai, 

tumhaare saath tha to main, jamaane bhar mein rusava tha 

magar ab tum nahin ho to, zamaana saath gaata hai. 



kumar vishwas poems

kumar vishwas poetry
kumar vishwas shayari




    मैं उसका हूँ वो इस अहसास से इंकार करता है

    भरी महेफ़िल में भी, रुसवा मुझे हर बार करता है,

    यकीं है सारी दुनिया को, खफा है मुझसे वो लेकिन

    मुझे मालूम है फिर भी मुझी से प्यार करता है।

main usaka hoon vo is ahasas se inkaar karata hai 

bhari mahefil mein bhi, rusava mujhe har baar karata hai, 

yakeen hai saari duniya ko, khafa hai mujhase vo lekin

 mujhe maaloom hai phir bhi mujhi se pyaar karata hai.





     वो जो खुद में से कम निकलतें हैं

     उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं

     आप में कौन-कौन रहता है ?

    हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।

 vo jo khud mein se kam nikalaten hain 

unake zahanon mein bam nikalaten hain 

aap mein kaun-kaun rahata hai ? 

ham mein to sirf ham nikalate hain. 





    ये वो ही इरादें हैं, ये वो ही तबस्सुम है

    हर एक मोहल्लत में, बस दर्द का आलम है

    इतनी उदास बातें, इतना उदास लहजा,

    लगता है की तुम को भी, हम सा ही कोई गम है

ye vo hi iraaden hain, ye vo hi tabassum hai 

har ek mohallat mein, bas dard ka aalam hai 

itani udaas baaten, itana udaas lahaja, 

lagata hai ki tum ko bhi, ham sa hi koi gam hai 





     हर इक खोने में हर इक पाने में तेरी याद आती है

     नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है

     तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ

     समुंदर पार वीराने में तेरी याद आती है।

har ik khone mein har ik paane mein teri yaad aati hai 

namak aankhon mein ghul jaane mein teri yaad aati hai 

teri amrt bhari laharon ko kya maaloom ganga maa

 samundar paar veeraane mein teri yaad aati hai. 


              



     हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते

     मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते

     जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो

    जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते

 hamen maaloom hai do dil judai sah nahin sakate 

magar rasme-vafa ye hai ki ye bhi kah nahin sakate 

jara kuchh der tum un saahilon ki cheekh sun bhar lo 

jo laharon mein to doobe hain, magar sang bah nahin sakate





    समन्दर पीर का अन्दर है लेकिन रो नहीं सकता

    ये आँसू प्यार का मोती है इसको खो नहीं सकता

    मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना मगर सुन ले

     जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो नहीं सकता

samandar peer ka andar hai lekin ro nahin sakata 

ye aansoo pyaar ka moti hai isako kho nahin sakata 

meri chaahat ko dulhan tu bana lena magar sun le 

jo mera ho nahin paaya vo tera ho nahin sakata





     वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है

    वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है

    किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से

    यहाँ ख़त भी थोड़ी देर में अखबार होता है

 vo jisaka teer chupake se jigar ke paar hota hai 

vo koi gair kya apana hi rishtedaar hota hai 

kisi se apane dil ki baat too kahana na bhoole se

 yahaan khat bhi thodi der mein akhabaar hota hai



Post a Comment

10 Comments