Saturday, March 14, 2020

राहत इन्दौरी की मशहूर शायरी | rahat indori shayari, poetry, Quoutes

नमस्कार दोस्तों- आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों के लिए मशहूर शायर डॉ राहत इंदौरी की लिखे कुछ चुनिंदा शायरी लेकर आया हूं, राहत इंदौरी का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में हुआ था और उनकी मृत्यु 11 अगस्त 2020 को हुई थी 
राहत साहब का नाम भारत के प्रसिद्ध और लोकप्रिय शायरों में लिया जाता है, तो चलिए दोस्तों पढ़ते हैं राहत इंदौरी की कुछ प्रसिद्ध रचनाएं rahat indori shayari in hindi

shayari rahat indori
 rahat indori quotes

rahat indori shayari / राहत इंदौरी शायरी हिंदी 2 लाइन


जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे,

मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे।

jubaan to khol, najar to mila, javaab to de, 

main kitani baar luta hoon, hisaab to de.



आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,

ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो।

aankh mein paani rakho honton pe chingaari rakho, 

zinda rahana hai to tarakeeben bahut saari rakho.



तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो,

मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो।

toofaanon se aankh milao, sailaabon par vaar karo, 

mallaahon ka chakkar chhodo, tair ke dariya paar karo. 



उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो,

धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है।

us ki yaad aai hai saanso zara aahista chalo, 

dhadakanon se bhi ibaadat mein khalal padata hai.



न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,

हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा।

na ham-safar na kisi ham-nasheen se nikalega, 

hamaare paanv ka kaanta hameen se nikalega.



हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,

कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते।

ham se pahale bhi musaafir kai guzare honge, 

kam se kam raah ke patthar to hataate jaate.



नए किरदार आते जा रहे हैं,

मगर नाटक पुराना चल रहा है।

 naye kiradaar aate ja rahe hain, 

magar naatak puraana chal raha hai.


rahat indori shayari in hindi / राहत इंदौरी शायरी हिंदी लव

rahat indori shayri
rahat indori shayari in hindi


वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा,

मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया।

vo chaahata tha ki kaasa khareed le mera, 

main us ke taaj ki keemat laga ke laut aaya.



बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर,

जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ।

bahut guroor hai dariya ko apane hone par, 

jo meri pyaas se ulajhe to dhajjiyaan ud jayen.



शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम,

आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे।

shaakhon se tut jaen vo patte nahin hain ham, 

aandhee se koi kah de ki auqaat mein rahe. 



फूंक डालुंगा मैं किसी रोज दिल की दुनिया,

ये तेरा खत तो नहीं है जो जला ना सकूं।

phoonk daalunga main kisi roj dil ki duniya, 

ye tera khat to nahin hai jo jala na sakoon.



मुझसे पहले वो किसी और की थी,

मगर कुछ शायराना चाहिये था,

चलो माना ये छोटी बात है,

पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिये था।

mujhase pahale vo kisi aur ki thi, 

magar kuchh shaayaraana chaahiye tha, 

chalo maana ye chhoti baat hai, 

par tumhen sab kuchh bataana chaahiye tha.



बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,

मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए।

beemaar ko maraz ki dava deni chaahiye, 

main peena chaahata hoon pila deni chaahiye.



 अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं,,

पता चला हैं की मेहमान आने वाले हैं।

ab ham makaan mein taala lagaane vaale hain,, 

pata chala hain ki mehamaan aane vaale hain.


rahat indori quotes / राहत इंदौरी शायरी स्टेटस

rahat indori shayari in hindi
 rahat indori best shayari


रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,

चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है।

roz taaron ko numaish mein khalal padata hai, 

chaand paagal hai andhere mein nikal padata hai. 



दोस्ती जब किसी से की जाए,

दुश्मनों की भी राय ली जाए।

dosti jab kisi se ki jaye, 

dushmanon ki bhi raay lee jaye.



उस आदमी को बस इक धुन सवार रहती है,

बहुत हसीन है दुनिया इसे ख़राब करूं।

us aadami ko bas ik dhun savaar rahati hai, 

bahut haseen hai duniya ise kharaab karoon. 



ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे,

जो हो परदेस में वो किससे रज़ाई मांगे।

aisi sardi hai ki sooraj bhi duhai maange, 

jo ho parades mein vo kisase rajai maange.



अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,

कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए।

andar ka zahar choom liya dhul ke aa gaye, 

kitane shareef log the sab khul ke aa gaye.



फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो,

इश्क़ खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो।

phoolon ki dukaanen kholo, khushabu ka vyaapaar karo, 

ishq khata hai to, ye khata ek baar nahin, sau baar karo. 



मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,

इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

maine apani khushk aankhon se lahu chhalaka diya, 

ik samandar kah raha tha mujhako paani chaahiye. 



 

किसने दस्तक दी, दिल पे, ये कौन है,

आप तो अन्दर हैं, बाहर कौन है।

kisane dastak di, dil pe, ye kaun hai, 

aap to andar hain, baahar kaun hai.



कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे,

जहाँ-जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे।

kaheen akele mein mil kar jhinjhod doonga use, 

jahaan-jahaan se vo tuta hai jod doonga use.



मेरा नसीब, मेरे हाथ कट गए वरना,

मैं तेरी माँग में सिन्दूर भरने वाला था।

mera naseeb, mere haath kat gaye varana, 

main teri maang mein sindoor bharane vaala tha. 


rahat indori best shayari / राहत इंदौरी शायरी हिंदी image

rahat indori best shayari
rahat indori ki shayari


मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए,

और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं।

mod hota hai javaani ka sanbhalane ke liye, 

aur sab log yaheen aa ke fisalate kyoon hain.



नींद से मेरा ताल्लुक़ ही नहीं बरसों से,

ख़्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यूं हैं।

neend se mera taalluq hi nahin barason se, 

khvaab aa aa ke meri chhat pe tahalate kyoon hain. 



कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए,

चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है।

collage ke sab bachche chup hain kaagaz ki ik naav liye, 

chaaron taraf dariya ki soorat faili hui bekaari hai.



इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है,

नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं।

in raaton se apana rishta jaane kaisa rishta hai, 

neenden kamaron mein jaagi hain khvaab chhaton par bikhare hain. 



चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,

इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​

महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,

जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

cheharon ke liye aaiene kurbaan kiye hain, 

is shauk mein apane bade nukasaan kiye hain,​

mahafil mein mujhe gaaliyaan dekar hai bahut khush​, 

jis shakhs par mainne bade ehasaan kiye hai. 



तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,

दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​

तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

teri har baat ​mohabbat mein ganvaara karake​, 

dil ke baazaar mein baithe hain khasaara karake​,

 main vo dariya hoon ki har boond bhanvar hai jisaki​,​​

tumane achchha hi kiya mujhase kinaara karake. 



ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था,

मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था।

ye haadasa to kisi din gujarane vaala tha, 

main bach bhi jaata to ek roj marane vaala tha. 



एक चिंगारी नज़र आई थी बस्ती में उसे,

वो अलग हट गया आँधी को इशारा कर के।

ek chingaari nazar aai thi basti mein use, 

vo alag hat gaya aandhi ko ishaara kar ke.



आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,

ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो,

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।

aankh mein paani rakho honton pe chingaari rakho, 

zinda rahana hai to tarakeeben bahut saari rakho, 

ek hi nadi ke hain ye do kinaare dosto, 

dostaana zindagi se maut se yaari rakho.



                

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,

जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,

उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते।

haath khaali hain tere shahar se jaate-jaate, 

jaan hoti to meri jaan lutaate jaate, 

ab to har haath ka patthar hamen pahachaanata hai, 

umr gujari hai tere shahar mein aate jaate. 


rahat indori ki shayari / राहत इंदौरी शायरी हिंदी

rahat indori shayri
rahat indori shayari


उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,

मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,

यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

use ab ke wafaon se gujar jaane ki jaldi thi, 

magar is baar mujh ko apane ghar jaane ki jaldi thi, 

main aakhir kaun sa mausam tumhaare naam kar deta, 

yahaan har ek mausam ko gujar jaane ki jaldi thi. 


ALSO READ :

अपनी पहचान मिटाने को कहा जाता है,

बस्तियाँ छोड़ के जाने को कहा जाता है।

पत्तियाँ रोज़ गिरा जाती है ज़हरीली हवा,

और हमें पेड़ लगाने को कहा जाता है।

apani pahachaan mitaane ko kaha jaata hai, 

bastiyaan chhod ke jaane ko kaha jaata hai. 

pattiyaan roz gira jaati hai zahareeli hava, 

aur hamen ped lagaane ko kaha jaata hai.



नए सफर का नया इंतज़ाम कह देंगे

हवा को धूप चरागों को शाम कह देंगे,

किसी से हाथ भी छुपकर मिलाइए वर्ना

इसे भी मौलवी साहब हराम कह देंगे।

naye safar ka naya intazaam kah denge 

hava ko dhoop charaagon ko shaam kah denge, 

kisi se haath bhi chhupakar milaiye varna 

ise bhee maulavi saahab haraam kah denge.



सूरज सितारे चाँद मेरे साथ मेँ रहे

जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे,

शाख़ों से टूट जायें वो पत्ते नहीं हैं हम

आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे।

sooraj sitaare chaand mere saath men rahe 

jab tak tumhaare haath mere hath mein rahe, 

shaakhon se toot jaayen vo patte nahin hain ham

 aandhi se koi kah de ki auqaat mein rahe. 



आंख में पानी रखो, होठों पे चिंगारी रखो

जिंदा रहना है तो, तरकीबें बहुत सारी रखो,

ले तो आये शायरी बाज़ार में राहत मियां

क्या ज़रूरी है के लहजे को भी बाज़ारी रखो।

aankh mein paani rakho, hothon pe chingaari rakho 

jinda rahana hai to, tarakeeben bahut saari rakho, 

le to aaye shaayari baazaar mein raahat miyaan 

kya zaroori hai ke lahaje ko bhi baazaari rakho. 



कल तक दर दर फिरने वाले, घर के अन्दर बैठे हैं

और बेचारे घर के मालिक, दरवाज़े पर बैठे हैं,

खुल जा सिम सिम याद है किसको, कौन कहे और कौन सुने

गूंगे बाहर चीख रहे हैं, बहरे अन्दर बैठे हैं।

kal tak dar dar firane vaale, ghar ke andar baithe hain 

aur bechaare ghar ke maalik, daravaaze par baithe hain, 

khul ja sim sim yaad hai kisako, kaun kahe aur kaun sune 

goonge baahar cheekh rahe hain, bahare andar baithe hain. 



नदी ने धूप से क्या कह दिया रवानी में

उजाले पाँव पटकने लगे हैं पानी में,

अब इतनी सारी शबों का हिसाब कौन रखे,

बहुत सवाब कमाए गए जवानी में।

nadi ne dhoop se kya kah diya ravaani mein 

ujaale paanv patakane lage hain paani mein, 

ab itani saari shabon ka hisaab kaun rakhe, 

bahut savaab kamae gaye javaani mein. 


हर एक लफ्ज़ का अंदाज़ बदल रखा है

आज से हमने तेरा नाम, ग़ज़ल रखा है,

मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया

मेरे कमरे में भी एक ताज महल रखा है।

har ek lafz ka andaaz badal rakha hai 

aaj se hamane tera naam, gazal rakha hai, 

mainne shaahon ki mohabbat ka bharam tod diya 

mere kamare mein bhi ek taaj mahal rakha hai.


राहत इन्दौरी की कुछ चुनिन्दा गजलें / rahat indori shayari


1. बुलाती है मगर जाने का नईं


बुलाती है मगर जाने का नईं,

ये दुनिया है इधर जाने का नईं


मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर,

मगर हद से गुजर जाने का नईं


सितारें नोच कर ले जाऊँगा,

मैं खाली हाथ घर जाने का नईं


वबा फैली हुई है हर तरफ,

अभी माहौल मर जाने का नईं


वो गर्दन नापता है नाप ले,

मगर जालिम से डर जाने का नईं।


2. रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता है


रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता है,

चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं


मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,

कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता है


कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,

अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता है


ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,

नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता है


उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा धीरे चलो,

धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता है।


3. किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है


अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है,

ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है


लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में,

यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है


मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन,

हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है


हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है,

हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है


जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे,

किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है


सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में,

किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है।


4. उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब


उसकी कत्थई आँखों में हैं जंतर-मंतर सब,

चाक़ू-वाक़ू, छुरियाँ-वुरियाँ, ख़ंजर-वंजर सब


जिस दिन से तुम रूठीं मुझ से रूठे-रूठे हैं,

चादर-वादर, तकिया-वकिया, बिस्तर-विस्तर सब


मुझसे बिछड़ कर वह भी कहाँ अब पहले जैसी है,

फीके पड़ गए कपड़े-वपड़े, ज़ेवर-वेवर सब


आखिर मै किस दिन डूबूँगा फ़िक्रें करते है,

कश्ती-वश्ती, दरिया-वरिया लंगर-वंगर सब।


5. दिल के बाज़ार में बैठे हैँ ख़सारा करके


तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा करके,

दिल के बाज़ार में बैठे हैँ ख़सारा करके


एक चिन्गारी नज़र आई थी बस्ती मेँ उसे,

वो अलग हट गया आँधी को इशारा करके


मुन्तज़िर[ हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे,

चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके


मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भंवर है जिसकी,

तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।


6. मैं आ गया हूँ बता इन्तज़ाम क्या-क्या है


गुलाब ख़्वाब दवा ज़हर जाम क्या-क्या है,

मैं आ गया हूँ बता इन्तज़ाम क्या-क्या है


फक़ीर शेख कलन्दर इमाम क्या-क्या है,

तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या है


अमीर-ए-शहर के कुछ कारोबार याद आए,

मैँ रात सोच रहा था हराम क्या-क्या है।

No comments:
Write comment