Saturday, May 9, 2020

अमन अक्षर की कविताएं | aman akshar muktak, poem, Quotes, poetry, kavita


aman akshar kavita in hindi
aman akshar poetry

नमस्कार दोस्तों- आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों के लिए हिंदी के प्रसिद्ध युवा कवि 'अमन अक्षर' के लिखे कुछ दिल छू लेने वाले मुक्तक aman akshar poetry लेकर आया हूं 

जो आपको जरूर पसंद आएंगे और अगर आपको अमन अक्षर कि ये कविताएं पसंद आए तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें धन्यवाद...

अमन अक्षर के मशहूर मुक्तक / aman akshar kavita in hindi


 aman akshar kavita in hindi

 ये समय इक अनूठा उपन्यास है

   जिसमें अपना भी होना अनायास है।

   प्यास का ये सफ़र है बड़ी दूर का,

   जबकि घर तो नदी के बहुत पास है।

 aman akshar kavita in english

ye samay ik anutha upanyaas hai 

jisamen apana bhi hona anaayaas hai. 

pyaas ka ye safar hai badi door ka, 

jabaki ghar to nadi ke bahut paas hai.



चिट्ठियों में बनाया नगर प्यार का

ज़िन्दगी में बसाया नहीं जा सका

कितनी बातें लिखीं की लिखीं रह गईं

गीत में कुछ भी गाया नहीं जा सका

chitthiyon mein banaaya nagar pyaar ka

 zindagi mein basaaya nahin ja saka 

kitani baaten likheen ki likheen rah gaeen 

geet mein kuchh bhi gaaya nahin ja saka



  तोड़कर कोई मानक नहीं आये हैं

   अपने हिस्से कथानक नहीं आये हैं।

   ज़िन्दगी ने मुसलसल पुकारा हमें,

  हम यहाँ तक अचानक नहीं आये हैं।

todakar koi maanak nahin aaye hain 

apane hisse kathaanak nahin aaye hain.

 zindagi ne musalasal pukaara hamen, 

ham yahaan tak achaanak nahin aaye hain.



   प्यार अंधियार था तो अँधेरे हुए

   ऐसे कितने हैं जिनके सवेरे हुए।

   हम तो दुनिया से कबके रिहा हो गए,

   ये तेरे लोग हैं हमको घेरे हुए।

pyaar andhiyaar tha to andhere hue 

aise kitane hain jinake savere hue. 

ham to duniya se kabake riha ho gaye,

 ye tere log hain hamako ghere huye.



   सब यहाँ ख़ुशनुमा था कि तुम आ गये

   इक ठिकाना जमा था कि तुम आ गये।

   फिर तुम्हारे बिना तुमपे मरने का ये,

   सिलसिला बस थमा था कि तुम आ गये।

sab yahaan khushanuma tha ki tum aa gaye 

ik thikaana jama tha ki tum aa gaye. 

phir tumhaare bina tumape marane ka ye, 

silasila bas thama tha ki tum aa gaye.



   कौन सी बात थी तुम नहीं आ सके

   क्या वही बात जो हम नहीं गा सके।

  तुम भी तन्हाई के चारागर कब हुए,

  हम भी बीमार को घर नहीं ला सके।

kaun si baat thi tum nahin aa sake 

kya vahi baat jo ham nahin ga sake. 

tum bhi tanhai ke chaaraagar kab huye,

 ham bhi beemaar ko ghar nahin la sake.



Aman Akshar shayari
aman akshar muktak


   बात क़िस्से में कुछ यूँ उतारी गयी

   वक़्त आया मगर अपनी बारी गयी।

  आपने भी तो कुछ हौसला कम रखा,

   इक मोहब्बत तो हमसे भी हारी गयी। 

baat kisse mein kuchh youn utaari gayi

 waqt aaya magar apani baari gayi. 

aapane bhi to kuchh hausala kam rakha,

 ik mohabbat to hamase bhi haari gayi.



पहले सीधा सा रस्ता सुझाया हमें

फिर कहानी में वापस बुलाया हमें

ज़िन्दगी का हुनर ज़िन्दगी को न था

एक लड़की ने जीना सिखाया हमें

pahale sidha sa rasta sujhaaya hamen 

phir kahaani mein vaapas bulaaya hamen

 zindagi ka hunar zindagi ko na tha 

ek ladaki ne jeena sikhaaya hamen



  प्राण आहत भी होना नहीं चाहिए

   देह अमृत भी होना नहीं चाहिए।

   या मुझे आदमी से वो बेहतर करे,

   या मोहब्बत भी होना नहीं चाहिए।

pran aahat bhi hona nahin chaahiye 

deh amrit bhi hona nahin chaahiye. 

ya mujhe aadami se vo behatar kare, 

ya mohabbat bhi hona nahin chaahiye.



  प्रेम संवाद था मैं नहीं हो सका

   गीत अनुवाद था मैं नहीं हो सका।

   कब कोई आप अपना सहारा हुआ,

    तू ही अपवाद था मैं नहीं हो सका। 

prem samvaad tha main nahin ho saka 

geet anuvaad tha main nahin ho saka. 

kab koi aap apana sahaara hua, 

tu hi apavaad tha main nahin ho saka.



   मुझमें थी इक विकलता तुम्हारे लिये

   द्वार दीपक सा जलता तुम्हारे लिये।

   और जो होता पता तुम यहीं आओगे,

   मैं न घर से निकलता तुम्हारे लिये।

mujhamen thi ik vikalata tumhaare liye

 dwar deepak sa jalata tumhaare liye. 

aur jo hota pata tum yaheen aaoge, 

main na ghar se nikalata tumhaare liye. 



   युद्ध की ओर बढ़ता तुम्हारे लिये

    जीतता या कि मरता तुम्हारे लिये।

   कुछ सुलह की जो उम्मीद होती तो मैं

,  तुमसे भी बात करता तुम्हारे लिये।

yuddh ki or badhata tumhaare liye 

jeetata ya ki marata tumhaare liye. 

kuchh sulah ki jo ummeed hoti to main , 

tumase bhi baat karata tumhaare liye.



   सारे करतब दिखाये तुम्हारे लिये 

    कितने चेहरे बनाये तुम्हारे लिये। 

   यूँ तो दुनिया को भी खूब भाये मगर, 

    हम कहानी में आये तुम्हारे लिये।

saare karatab dikhaaye tumhaare liye 

kitane chehare banaaye tumhaare liye. 

yoon to duniya ko bhi khoob bhaaye magar, 

ham kahaani mein aaye tumhaare liye.



यूँ तो दोनों को दिन दिन भटकना पड़ा 

प्रीत का मोड़ आया तो रुकना पड़ा 

सारा पौरुष भी जब काम आया नहीं 

एक लड़की को उपवास रखना पड़ा 

yoon to donon ko din din bhatakana pada 

preet ka mod aaya to rukana pada 

saara paurush bhi jab kaam aaya nahin 

ek ladaki ko upavaas rakhana pada 



  पुण्य भी ढोये अनगिन तुम्हारे लिये

     बिन जिये रह गये दिन तुम्हारे लिये।

   सारी दुनिया गयी जाने किसके लिये,

    हम गये स्वर्ग लेकिन तुम्हारे लिये।

 puny bhi dhoye anagin tumhaare liye 

bin jiye rah gaye din tumhaare liye. 

saari duniya gayi jaane kisake liye, 

ham gaye swarg lekin tumhaare liye. 



aman akshar muktak
Aman Akshar shayari 


   एक जीवन जनम कितने झेला हुआ

     मुझमें शामिल हुआ तो ये मेला हुआ।

    अपने हिस्से का सब मुझको जीते गये,

      मैं अकेला ही था सो अकेला हुआ।

ek jeevan janam kitane jhela hua 

mujhamen shaamil hua to ye mela hua. 

apane hisse ka sab mujhako jeete gaye,

 main akela hi tha so akela hua. 



    सबकुछ छोड़ चुका था फिर भी मैं तुम तक चलकर आया

     लेकिन जब लौटा तो तुमको ही अपने साथ न ला पाया।

     तुमको भी मुझ बंजारे का साथ कहाँ स्वीकार था,

      जिसने 'हमको' दूर किया था, वो भी अपना प्यार था।

sabakuchh chhod chuka tha phir bhi  main tum tak chalakar aaya 

lekin jab lauta to tumako hi apane saath na la paaya. 

tumako bhi mujh banjaare ka saath kahaan sveekaar tha, 

jisane hamako door kiya tha, vo bhi apana pyaar tha. 



    मुझको मेरी आवाज़ों ने चलने से पहले टोका था 

    लेकिन तन्हा सोचके तुमको रुकने से भी रोका था। 

     मैं भी था अनजान तुम्हारा अपना इक संसार था,

     जिसने हमको दूर किया था वो भी अपना प्यार था।

mujhako meri aavaazon ne chalane se pahale toka tha 

lekin tanha sochake tumako rukane se bhi roka tha. 

main bhi tha anajaan tumhaara apana ik sansaar tha, 

jisane hamako door kiya tha vo bhi apana pyaar tha. 


जब शिकायत जवाबों से बेहतर लगी 

फिर कोई शय न ख्वाबों से बेहतर लगी 

ये भी दुनिया बची है उन्हीं से जिन्हें 

एक लड़की किताबों से बेहतर लगी 

jab shikaayat javaabon se behatar lagi

 phir koi shay na khvaabon se behatar lagi 

ye bhi duniya bachi hai unheen se jinhen 

ek ladaki kitaabon se behatar lagi



  सब जो कहते हैं सुनने की कोशिश में हूँ

    अब मैं चुप-चाप रहने की कोशिश में हूँ।

     सब कहा जा चुका कुछ न कहने को है,

    बस इसी दुःख को कहने की कोशिश में हूँ ।  

sab jo kahate hain sunane ki koshish mein hoon 

ab main chup-chaap rahane ki koshish mein hoon. 

sab kaha ja chuka kuchh na kahane ko hai, 

bas isee duhkh ko kahane ki koshish mein hoon .



  वो सफ़र जिसको कोई भी रस्ता न दे

    ग़म न रोये तो फिर इक ख़ुशी रो पड़े । 

    याद आते हुए याद की राह में,

    देखकर वो मेरी ज़िंदगी रो पड़े ।

vo safar jisako koi bhi rasta na de 

gam na roye to phir ik khushi ro pade . 

yaad aate hue yaad ki raah mein, 

dekhakar vo meri zindagi ro pade .



    तुम न थे मन के सारे मनन व्यर्थ थे

     तुमको देखा नहीं था नयन व्यर्थ थे ।

    तुम बिना ज़िन्दगी के सभी आकलन,

    थे महज़ आकलन आकलन व्यर्थ थे ।

tum na the man ke saare manan vyarth the 

tumako dekha nahin tha nayan vyarth the . 

tum bina zindagi ke sabhi aakalan, 

the mahaz aakalan aakalan vyarth the .



   अपनी धरती से अलग प्रवास कुछ भी है नहीं

    घर ही रण बना तो फिर निकास कुछ भी है नहीं ।

    ऐसा दांव खेलने में ख़ास कुछ भी है नहीं,

    देश के सिवा हमारे पास कुछ भी है नहीं ।

apani dharati se alag pravaas kuchh bhi hai nahin 

ghar hi ran bana to phir nikaas kuchh bhi hai nahin . 

aisa daanv khelane mein khaas kuchh bhi hai nahin, 

desh ke siva hamaare paas kuchh bhi hai nahin .


aman akshar poetry
aman akshar kavita lyrics in hindi 


    कैसा उड़ता हुआ सा है रंग ज़िन्दगी

    इक मुझे छोड़ सबके है संग ज़िन्दगी।

    फ़िक़्र का मैं वो हूँ एक लम्हा जहाँ,

    मुझसे मेरी तरह ही है तंग ज़िन्दगी ।

kaisa udata hua sa hai rang zindagi 

ik mujhe chhod sabake hai sang zindagi. 

fiqr ka main vo hoon ek lamha jahaan, 

mujhase meri tarah hi hai tang zindagi . 



जितने लगते हैं उतने ही सादा हैं हम

हर नज़र से बचाया जो वादा हैं हम

यूं किसी के भी हिस्से में कम तो नहीं

एक लड़की के थोड़े से ज़्यादा हैं हम

jitane lagate hain utane hi saada hain ham 

har nazar se bachaaya jo vaada hain ham 

yoon kisi ke bhi hisse mein kam to nahin 

ek ladaki ke thode se zyaada hain ham 



    हम जो हो जाते रोती नमीं व्यर्थ थे

      प्रार्थना में जो होती कमीं व्यर्थ थे।

    हम अकेले थे सो काम के भी रहे,

    तुमको पा जाते फिर तो हमीं व्यर्थ थे ।

ham jo ho jaate roti nameen vyarth the

 prarthana mein jo hoti kameen vyarth the. 

ham akele the so kaam ke bhi rahe, 

tumako pa jaate phir to hameen vyarth the .



    तुम उदासी का मतलब समझते नहीं 

     ये तुम्हें भूलने का बहाना भी है 

     इस गुज़रते हुए पल की सोचो ज़रा

     जिसमें गुज़रा हुआ एक जमाना भी है

tum udaasi ka matalab samajhate nahin 

ye tumhen bhulne ka bahaana bhi hai 

is guzarate hue pal ki socho zara 

jisamen guzara hua ek jamaana bhi hai



   इतने निस्सार में ये बड़ी बात है

     ऐसे संसार में ये बड़ी बात है ।

    आप हैं आप में बात है आम ये,

    आप हैं प्यार में ये बड़ी बात है।

itane nissaar mein ye badi baat hai 

aise sansaar mein ye badi baat hai . 

aap hain aap mein baat hai aam ye, 

aap hain pyaar mein ye badi baat hai. 



   प्यार में घर संवारा नहीं जा सका

    कर्ज़ कोई उतारा नहीं जा सका ।

     हमनें तुमको ही जीवन किया और फिर,

     हमसे जीवन भी हारा नहीं जा सका ।

pyaar mein ghar sanvaara nahin ja saka

 karz koi utaara nahin ja saka . 

hamanen tumako hi jeevan kiya aur phir, 

hamase jeevan bhi haara nahin ja saka .


Also Read:

Aman Akshar shayari
अमन अक्षर शायरी


    मन का कुछ भी नहीं सांस के योग हैं

     ग़म हो या हो ख़ुशी दोनों ही रोग हैं,

    आप रोती हुई उम्र के साथ हम

      ज़िन्दगी से निभाते हुए लोग हैं ।

 man ka kuchh bhi nahin saans ke yog hain 

gam ho ya ho khushi donon hi rog hain,

 aap roti hui umr ke saath ham 

zindagi se nibhaate hue log hain .



   उम्र उलझन हुई कोई हल न मिला

    सौ जनम तप किये कोई फल न मिला,

   यूँ तो इतिहास में हम अमर हो गए

    हमको जीवन भरा कोई पल न मिला ।

umr ulajhan hui koi hal na mila 

sau janam tap kiye koi fal na mila, 

yoon to itihaas mein ham amar ho gaye 

hamako jeevan bhara koi pal na mila .



    प्रीत के एक प्रारूप का सूर्य है

     मुझको लगता था कि धूप का सूर्य है,

     सारी दुनिया मेरे मन का अँधियार है

     हर उजाला तेरे रूप का सूर्य है।

preet ke ek praaroop ka soory hai 

mujhako lagata tha ki dhoop ka soory hai, 

saari duniya mere man ka andhiyaar hai

 har ujaala tere roop ka soory hai.



    रात के सिर लगा घाव है चंद्रमा

      घाव सहकर बढ़ा भाव है चंद्रमा,

      वो तुम्हारी कमीं से घिरा दुःख है जो

     इक उसी दुःख का दोहराव है चंद्रमा ।

raat ke sir laga ghaav hai chandrama 

ghaav sahakar badha bhaav hai chandrama, 

vo tumhaari kameen se ghira duhkh hai jo 

ik usi duhkh ka doharaav hai chandrama . 



    एक घड़ी में साथ-साथ जैसे दो जन्म रहे

    जिंदगी के साथ जिंदगी से थोड़ा कम रहे,

    थोड़े दिन तो जग में अपने प्यार के भरम रहे,

   फिर बची कहानियां ना तुम रहे ना हम रहे। 

ek ghadi mein saath-saath jaise do janm rahe 

jindagi ke saath jindagi se thoda kam rahe, 

thode din to jag mein apane pyaar ke bharam rahe, 

phir bachi kahaaniyaan na tum rahe na ham rahe. 



आप नदिया के आधार हो जाते हैं

जैसे पत्थर से जलधार हो जाते हैं

हम अचानक पराये से संसार में

एक लड़की का संसार हो जाते हैं

aap nadiya ke aadhaar ho jaate hain 

jaise patthar se jaladhaar ho jaate hain 

ham achaanak paraaye se sansaar mein 

ek ladaki ka sansaar ho jaate hain 



   साथ रहना हमें रास आया नहीं

  दूरियों ने गले से लगाया नहीं,

  कितने जीवन जिए जाएंगे इस तरह,

  तुमने अब तक हमें ये बताया नहीं।

saath rahana hamen raas aaya nahin 

dooriyon ne gale se lagaaya nahin, 

kitane jeevan jiye jaenge is tarah, 

tumane ab tak hamen ye bataaya nahin.


aman akshar poetry in hindi

Aman Akshar shayari
अमन अक्षर की कविताएं



   साथ हंसने लगे तो हंसी कम पड़ी 

   रो पड़ी आंख तो फिर नमी कम पड़ी, 

  जब तुम्हारी कमी को ही जीना पड़ा 

 जिंदगी में तुम्हारी कमी कम पड़ी ।

saath hansane lage to hansi kam padi 

ro padi aankh to phir nami kam padi, 

jab tumhaari kami ko hi jeena pada 

jindagi mein tumhaari kami kam padi . 



  इतने दूर थे कि दूरियों के मेल हो गए

   हम नगर के पहले ही रुकी सी रेल हो गए,

  अपनी अपनी याद से लिपट के बेल हो गए

  तुम हमारा खेल हम तुम्हारा खेल हो गए। 

itane door the ki dooriyon ke mel ho gaye 

ham nagar ke pahale hi ruki si raill ho gaye, 

apani apani yaad se lipat ke bel ho gaye 

tum hamaara khel ham tumhaara khel ho gaye.



जो मनाने से मान जाती है

उस मुहब्बत की शान जाती है,

तुम तो इक दम से उठ के जाते हो

इस तरह से तो जान जाती है।

jo manaane se maan jaati hai 

us muhabbat ki shaan jaati hai, 

tum to ik dam se uth ke jaate ho 

is tarah se to jaan jaati hai. 



ये हर नयी सी बात पर हंसते हंसाते लोग,

अच्छे तो होते हैं मगर प्यारे नहीं होते।

ye har nayi si baat par hansate hansaate log, 

achchhe to hote hain magar pyaare nahin hote. 



कब कहां इस बहाने से रोते हैं हम

साथ के छूट जाने से रोते हैं हम,

मौत रोने की मोहलत भी देती नहीं

एक जीवन के जाने से रोते हैं हम।

kab kahaan is bahaane se rote hain ham 

saath ke chhoot jaane se rote hain ham, 

maut rone ki mohalat bhi deti nahin 

ek jeevan ke jaane se rote hain ham.


aman akshar muktak, poem, Quotes, poetry, kavita

aman akshar poetry
aman akshar kavita in hindi


aman akshar new muktak, अमन अक्षर के नये मुक्तक

   अधबसे नगर में अपने ख्वाब लेके आए थे

   हर सवाल का गलत जवाब लेके आए थे,

  प्रेम की गली में सब शराब लेके आए थे

  हम बहुत खराब थे किताब लेके आए थे।

adhabase nagar mein apane khvaab leke aaye the 

har sawal ka galat javaab leke aaye the, 

prem ki gali mein sab sharaab leke aaye the 

ham bahut kharaab the kitaab leke aaye the.



वक़्त कितना लगेगा भला क्या लिखें

रास्ता अब तलक जो चला क्या लिखें,

हम तो तुमसे बस इक आह भर दूर है

कितने मीलों का है फासला क्या लिखें।

vaqt kitana lagega bhala kya likhen 

raasta ab talak jo chala kya likhen, 

ham to tumase bas ik aah bhar door hai

 kitane meelon ka hai faasala kya likhen. 



उस भली रात का रत जगा क्या लिखें 

दिल अकेलों का कितना सगा क्या लिखें, 

हमको 'तन्हाई' में ही हुआ प्यार भी 

दाग़ पर दाग़ कैसे लगा क्या लिखें।

us bhali raat ka rat jaga kya likhen 

dil akelon ka kitana saga kya likhen, 

hamako tanhai mein hi hua pyaar bhi 

daag par daag kaise laga kya likhen. 



जो जनम के साथ दिव्यता के सर्वनाम हैं

और जनम से छूटकर भी बन गए प्रणाम हैं,

राम देह कर्म भी हैं आत्मा का काम हैं

साथ हैं तो 'राम' हैं नहीं तो राम-राम हैं।

jo janam ke saath divyata ke sarvanaam hain 

aur janam se chhootakar bhi ban gaye pranaam hain, 

ram deh karm bhi hain aatma ka kaam hain 

saath hain to ram hain nahin to ram-ram hain. 



इक जनम में सौ जनम की रीतियां निभाईं थीं

जिसने सूर्य के लिए भी छतरियां उठाईं थीं

सब कसौटियां लखन ने ही स्वयं बनाईं थीं

जो लगीं न राम को वो ठोकरें भी खाईं थीं

ik janam mein sau janam ki reetiyaan nibhaeen theen 

jisane suray ke liye bhi chhatariyaan uthaeen theen 

sab kasautiyaan lakhan ne hi svayan banaeen theen 

jo lageen na raam ko vo thokaren bhi khaeen theen



इतनी सी बस कहानी मगर क्या लिखें

उस अधूरे से पल की ख़बर क्या लिखें,

जो तुम्हारे शहर ले के जाती हमें

रेल तो जा चुकी थी सफ़र क्या लिखें।

itani si bas kahaani magar kya likhen 

us adhoore se pal ki khabar kya likhen, 

jo tumhaare shahar le ke jaati hamen 

rel to ja chuki thi safar kya likhen.



ऐसे कामों में थोड़े से पल जाते हैं

दिल अगर रख लो दिल भी बहल जाते हैं,

इक असर इन दवाओं का इतना है बस

ज़ख्म भरते नहीं हैं बदल जाते हैं।

aise kaamon mein thode se pal jaate hain 

dil agar rakh lo dil bhi bahal jaate hain, 

ik asar in davaon ka itana hai bas 

zakhm bharate nahin hain badal jaate hain. 



यूं उलझने पे रो रहे थे हम

दूर बसने पे रो रहे थे हम

तेरे जाने का गम भी है लेकिन 

अपने हंसने पे रो रहे थे हम

yoon ulajhane pe ro rahe the ham 

door basane pe ro rahe the ham 

tere jaane ka gam bhi hai lekin 

apane hansane pe ro rahe the ham



धूल मिट्टी सने अनमने पांव हैं

वैसे कहने को जीता हुआ दावं हैं

आज फिर रेल रुक कर जो देखी लगा

हम तो शहरों में रहते हुए गावं हैं

dhool mitti sane anamane paanv hain 

vaise kahane ko jeeta hua daavan hain 

aaj phir rel ruk kar jo dekhi laga 

ham to shaharon mein rahate hue gaavan hain 



 स्वप्न साकार ही ना कर पाए

हार स्वीकार ही ना कर पाए

तुमको देखा था पहली बार जहां

वो गली पार ही ना कर पाए

svapn saakaar hi na kar paye 

haar sveekaar hi na kar paye 

tumako dekha tha pahali baar jahaan 

vo gali paar hi na kar paye


मेरी राहों से अपना सफर ले गया

 वह बिछड़ कर बिछड़ने का डर ले गया

 मेरी आंखों में तू ना शहर छोड़ कर

 मुझको अपनी दो आंखों में भर ले गया

meri raahon se apana safar le gaya 

vah bichhad kar bichhadane ka dar le gaya 

meri aankhon mein soona shahar chhod kar 

mujhako apani do aankhon mein bhar le gaya



 हमको इतना सा दान देना बस 

अपने होने का भान देना बस, 

आप पर जान हम देने आए हैं 

हम पे थोड़ा सा ध्यान देना बस।

hamako itana sa daan dena bas 

apane hone ka bhaan dena bas, 

aap par jaan ham dene aaye hain 

ham pe thoda sa dhyaan dena bas.



यूं तो मिलने के सौ बहाने थे 

दिन तो वैसे भी बीत जाने थे, 

हम किताबों के साथ मिलते थे 

जबकि हमको गुलाब लाने थे।

yoon to milane ke sau bahaane the 

din to vaise bhi beet jaane the, 

ham kitaabon ke saath milate the 

jabaki hamako gulaab laane the. 



जैसे पीड़ा ने हार डाला है 

नन्हे कंधों पे भार डाला है, 

तेरी यादों को जी रहा था मैं 

तूने आ करके मार डाला है।

jaise peeda ne haar daala hai 

nanhe kandhon pe bhaar daala hai, 

teri yaadon ko jee raha tha main 

tune aa karake maar daala hai. 



 हमने जितने बरस बिताए हैं 

सब तेरी याद के ही साए हैं, 

अपने सपनों का घर जलाया है 

पर तेरे खत नहीं जलाए हैं। 

 hamane jitane baras bitae hain 

sab teree yaad ke hi saye hain, 

apane sapanon ka ghar jalaaya hai 

par tere khat nahin jalae hain.



साथ हसने लगे तो हसीं कम लगी

रो पड़ी आँख तो फिर नमी कम लगी

जब तुम्हारी कमी ही को जीना पड़ा

जिंदगी में तुम्हारी कमी कम लगी

saath hasane lage to haseen kam padi 

ro padi aankh to phir nami kam padi

jab tumhaari kami hi ko jeena pada 

jindagi mein tumhaari kami kam padi 



जिसको जाना था वो तो गया जिंदगी

दिल नए रंग में हो गया जिन्दगी

खुद को मंदिर करे ,एक दीपक धरे

आरती का समय हो गया जिन्दगी

jisako jaana tha vo to gaya jindagi 

dil naye rang mein ho gaya jindagi 

khud ko mandir kare ,ek deepak dhare 

aarati ka samay ho gaya jindagi



एक जैसे ही रंग में ढ़ले लोग है

वो जो सीधे से रस्ते चले लोग है

हम मोहब्बत में बिगड़े- बिगड़ते रहे

जो भले लोग थे वो भले लोग है

ek jaise hi rang mein dhale log hai 

vo jo seedhe se raste chale log hai 

ham mohabbat mein bigade- bigadate rahe 

jo bhale log the vo bhale log hai



जिंदगी का सहारा नहीं चाहते

मौत का भी इशारा नहीं चाहते

तुम जो आये गये सब भला था मगर

हम वो मौसम दुबारा नहीं चाहते

jindagi ka sahaara nahin chaahate 

maut ka bhi ishaara nahin chaahate 

tum jo aaye gaye sab bhala tha magar 

ham vo mausam dubaara nahin chaahate 


4 comments:
Write comment
  1. Nice shayari, aman axar ek behtarin shayar hai

    ReplyDelete
  2. Aman akshar ki kavitaye sajha karne ke liye aapka Dhanywad Ajay ji

    ReplyDelete
  3. आरती का समय हो गया जिंदगी वाला मुक्तक डालो

    ReplyDelete
    Replies
    1. KV Deepak Sharma जी सुझाव देने के लिए आपका धन्यवाद
      आपका बताया मुक्तक डाल दिया हु

      Delete