Thursday, July 8, 2021

दुनिया कितनी भी अपग्रेडेड हो जाए लौंडापा कभी विलुप्त नहीं होगा | heart touching short story poem, kavita, quotes, shayari, poetry in hindi

 

gav ki yaad story
short story poem, kavita, quotes, shayari, poetry in hindi 

नमस्कार दोस्तों_ आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों के लिए short story on village boy life in hindi लेकर आया हूं,  अगर आपने अपना लड़कपन गांव में बिताया है तो आपको हिंदी स्टोरी जरूर पसंद आएगी 

अगर आपको ये short story in hindi पसंद आती है तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करना ना भूले तो चलिए दोस्तों पेश है heart touching short story in hindi

इमोशनल स्टोरी, हार्ट टचिंग स्टोरी इन हिंदी / short story poem, kavita, quotes, shayari, poetry in hindi 

 दुनिया कितनी भी अपग्रेडेड हो जाए लौंडापा कभी विलुप्त नहीं होगा...

आज भी अजय देवगन की दिलवाले वाली हेयर स्टाइल में कहीं ना कहीं, कोई ना कोई सपना के सपनों में खोया होगा……

आज भी कहीं फंस रही होगी पुरानी CD की कैसेट साईकिल की दो तीलियों के बीच…..

आज भी कहीं कोई आशिक बना रहा होगा अपनी कॉपी के पीछे तीर वाला दिल…

आज भी कोई लौंडा चिल्लम खींच रहा होगा पुलिया पे बैठ…..

कोई ना कोई जी रहा होगा वो ज़िन्दगी… जो मुक्त है सभी प्रोटोकॉल से…..

जहाँ वास्तविकता है बिना किसी थोथेबाजी के……

जहाँ inception झेलने वाला चुतियापा नहीं होता….

जहां खुल के नाच

होता है कट्टो गिलहरी वाले गाने पे……

जहाँ संतुष्टि किसी दिखावे की मोहताज नहीं……

क्यूँ कि अपने व्यक्तित्व को परिवर्तित ना करना ही अखण्ड सत्य है….. यथार्थ है…..

ये मात्र एक गाँव की छवि नहीं है…..

बल्कि उस शहर की भी है जहां हम जैसे लौंडे रहते हैं……..

जो अम्बिएंस मॉल के चौथी मंजिल वाले पब में पिटबुल के गाने एन्जॉय करने के बाद…..

घर में आ के फुल बेस में 90s का “तू धरती पे चाहे जहाँ भी रहेगी” वाला गाना सुन कर ही चैन पाते हैं…..

जिन्हें स्कार्लेट जॉनसन सिर्फ पिच्चरों में अच्छी लगती है…..

असल ज़िन्दगी में उन्हें तलाश है किसी दिव्या भारती की…

जो किसी MNC में बैठ कोडिंग करते हुए गोता लगाने चले जाते हैं गाँव के बाहर वाले तालाब में…..

जिनके ज़ेहन में आज भी जिंदा है उनका अतीत…..

हाँ मैं उनमे से एक हूँ…..

देश के किसी बड़े शहर में चला जाऊं

लेकिन अपना छोटा सा गाँव अपनी आँखों और अंदाज में ले के चलता हूँ…..

सोसाइटी के गार्ड से बात करने में मेरी रेपुटेसन में कोई आंच नहीं आती

सामने वाला कितना पैसा वाला है या कितना रुतबा वाला घण्टा नहीं फर्क पड़ता..

सड़क की किनारे लगे गन्ने का जूस पीने में मेरी मॉडर्निटी आड़े नहीं आती…

कहीं गाड़ी से उतर कर ठेले  पर खोमचे खा लेने में आनन्द की अनुभूति होती है

रेलवे क्रॉसिंग बन्द होने पर झुका के गाड़ी निकाल लेना

हेलमेट के अंदर हेडफोन डालकर 30-40 के स्पीड में चलते हुए कुमार शानू और सोनू निगम को सुनना

बिना वजह बाईक की तड़तड़ाहट से सामने वाले को डिस्टर्ब कर देना . ...

भोश्री वाले चाचा को भी जरूरत पड़ने पर उनके बेटे से भी बढ़कर साथ देना..

जिससे कोई मतलब कोई पहचान नही उसके सहयोग के लिए भी निःस्वार्थ तैयार रहना..!

मैं ऐसा ही हूँ….

ऐसा ही रहूँगा…..

दुनिया और अपग्रेड होगी….

मैं भी होऊंगा….

समय बदलेगा….

बुढ़ापा आएगा…. लेकिन फिर भी दिल लौंडा ही रहेगा !!

तुम भागो पैसे के पीछे मुझे बस मस्त जीना है मस्त रहना है मैं मरूँगा भी सुखी मुझे जिंदगी की धज्जियाँ उड़ानी है best Short Story In Hindi ,  village boy life poem, kavita, quotes, shayari, poetry in hindi

लेखक : अज्ञात


ALSO READ :

  • ये मिडल क्लास लड़के | heart touching story hindi on middle class boy | middle class boy quotes in hindi


heart touching short story poem, kavita, quotes, shayari, poetry in English


duniya kitani bhi upgraded, ho jaye laundaapa kabhi vilupt nahin hoga... 

aaj bhi ajay devagan ki dilavaale vaali hair style mein kaheen na kaheen, koi na koi sapana ke sapanon mein khoya hoga…… 


aaj bhi kaheen fans rahi hogi puraani CD ki cassette cycle ki do teeliyon ke beech….. 

aaj bhi kaheen koi aashiq bana raha hoga apani copy ke peechhe teer vaala dil… 

aaj bhi koi launda chillam kheench raha hoga puliya pe baith….. 

koi na koi jee raha hoga vo zindagi… jo mukt hai sabhi protocol se….. 

jahaan wastavikata hai bina kisi thothebaaji ke…… 

jahaan inception jhelane vaala chutiyaapa nahin hota…. 


jahaan khul ke naach hota hai 

katto gilahari vaale gaane pe…… 

jahaan santushti kisi dikhaave ki mohataaj nahin…… 

kyu ki apane vyaktitv ko parivartit na karana hi akhand saty hai….. 

yathaarth hai….. 

ye maatr ek gaanv ki chhavi nahin hai….. 

balki us shahar ki bhi hai jahaan ham jaise launde rahate hain…….. 

jo Ambience Mall ke chauthi manjil vaale pab mein pitabul ke gaane enjoy karane ke baad….. 

ghar mein aa ke full bass mein 90s ka “tu dharati pe chaahe jahaan bhi rahegi” vaala gaana sun kar hi chain paate hain….. 

jinhen Scarlett Johnson sirf pitcheron mein achchhi lagati hai….. 

asal zindagi mein unhen talaash hai kisi divya bhaarati ki… 

jo kisee MNC mein baith coding karate hue gota lagaane chale jaate hain gaanv ke baahar vaale taalaab mein….. 

jinake zehan mein aaj bhi jinda hai unaka ateet….. 

haan main uname se ek hoon….. 

desh ke kisi bade shahar mein chala jaoon 

lekin apana chhota sa gaanv apani aankhon aur andaaj mein le ke chalata hoon….. 

society ke gaurd se baat karane mein meri reputation mein koi aanch nahin aati 

saamane vaala kitana paisa vaala hai ya kitana rutaba vaala ghanta nahin fark padata.. 

sadak ke kinaare lage ganne ka juce peene mein meri modernity aade nahin aati… 

kaheen gaadi se utar kar thele par khomache kha lene mein aanand ki anubhooti hoti hai 

railway crossing band hone par jhuka ke gaadi nikaal lena 

helamet ke andar hedphone daalakar 30-40 ke speed mein chalate hue kumaar shanu aur sonu nigam ko sunana 

bina vajah bike ki tadatadaahat se saamane vaale ko distarb kar dena . ... 

bhoshri vaale chaacha ko bhi jarurat padane par unake bete se bhi badhakar saath dena.. 

jisase koi matalab koi pahachaan nahi usake sahayog ke liye bhi nihsvaarth taiyaar rahana..! 

main aisa hi hoon…. 

aisa hi rahunga….. 

duniya aur upgrade hogi…. 

main bhi hounga…. 

samay badalega…. 

budhaapa aayega…. 

lekin fir bhi dil launda hi rahyega !!

 tum bhaago paise ke peechhe mujhe bas mast jeena hai 

mast rahana hai main marunga bhi sukhi mujhe jindagi ki dhajjiyaan udaani hai

No comments:
Write comment