Tuesday, April 19, 2022

लड़के ! हमेशा खड़े रहे, Best Poem on Boy in Hindi | ladko ki life par kavita

poetry on boys life in hindi
Best Poem on Boys life in Hindi

 ladko ki life par kavita, poetry, Poem / लड़को की जिंदगी पर कविता, Best Poem on Boy in Hindi 

लड़के ! हमेशा खड़े रहे.

खड़े रहना उनकी  मजबूरी नहीं रही बस,

उन्हें कहा गया हर बार,

चलो तुम तो लड़के हो 

खड़े हो जाओ.

छोटी-छोटी बातों पर वे खड़े रहे, कक्षा के बाहर.. 

स्कूल विदाई पर जब ली गई ग्रुप फोटो,

लड़कियाँ हमेशा आगे बैठीं,

और लड़के बगल में हाथ दिए पीछे खड़े रहे.

वे तस्वीरों में आज तक खड़े हैं..

कॉलेज के बाहर खड़े होकर, 

करते रहे किसी लड़की का इंतज़ार,

या किसी घर के बाहर घंटों खड़े रहे, 

एक झलक, एक हाँ के लिए, अपने आपको 

आधा छोड़ वे आज भी 

वहीं रह गए हैं,

बहन-बेटी की शादी में 

खड़े रहे, मंडप के बाहर

बारात का स्वागत करने के लिए.

खड़े रहे रात भर 

हलवाई के पास, 

कभी भाजी में कोई कमी ना रहे.

खड़े रहे खाने की स्टाल के साथ,

कोई स्वाद कहीं खत्म न हो जाए.

खड़े रहे विदाई तक 

दरवाजे के सहारे और टैंट के 

अंतिम पाईप के उखड़ जाने तक.

बेटियाँ-बहनें जब तक वापिस लौटेंगी

 वे खड़े ही मिलेंगे,

वे खड़े रहे पत्नी को सीट पर 

बैठाकर, बस या ट्रेन की खिड़की थाम कर

.वे खड़े रहे 

बहन के साथ घर के काम में,

कोई भारी सामान थामकर,

वे खड़े रहे 

माँ के ऑपरेशन के समय 

ओ. टी.के बाहर घंटों. वे खड़े रहे 

पिता की मौत पर अंतिम लकड़ी के.. 

जल जाने तक. वे खड़े रहे ,

अस्थियाँ बहाते हुए गंगा के बर्फ से पानी में.

लड़कों ! रीढ़ तो तुम्हारी पीठ में भी है,

क्या यह अकड़ती नहीं?

बेटी पर तो बहुत लिखा जाता है.

आज बेटों पर लिखा कहीं पढ़ा,

इसके लेखक का नाम तो नहीं पता

पर मन किया आप सब से सांझा कर लूं। 

ALSO READ :

लड़कों पर हिंदी कविता, poetry on boys life in hindi, Poem on Boy in Hindi

ladake ! 

hamesha khade rahe. 

khade rahana unaki majabooree nahin rahI bas, 

unhen kaha gaya har baar, 

chalo tum to ladake ho 

khade ho jao. 

chhotI-chhotI baaton par ve khade rahe, 

kaksha ke baahar.. 

school vidai par jab li gai group photo, 

ladakiyaan hamesha aage baitheen, 

aur ladake bagal mein haath diye peechhe khade rahe. 

ve tasveeron mein aaj tak khade hain..

 college ke baahar khade hokar, 

karate rahe kisi ladaki ka intazaar, 

ya kisi ghar ke baahar ghanton khade rahe, 

ek jhalak, ek haan ke liye, 

apane aapako aadha chhod ve aaj bhi vahin rah gaye hain, 

bahan-beti ki shaadi mein khade rahe, 

mandap ke baahar 

baaraat ka swagat karane ke liye. 

khade rahe raat bhar halavai ke paas, 

kabhi bhaaji mein koi kami na rahe. 

khade rahe khaane ki stall ke saath, 

koi swad kaheen khatm na ho jaye. 

khade rahe vidai tak 

darawaje ke sahare 

aur tent ke antim paip ke ukhad jaane tak. 

betiyaan-bahanen jab tak wapis lautengi 

ve khade hi milenge, 

ve khade rahe patni ko seet par baithaakar, 

bas ya train ki khidaki thaam kar .

ve khade rahe bahan ke saath ghar ke kaam mein, 

koi bhaari saamaan thaamakar, 

ve khade rahe maa ke operation ke samay O.T ke baahar ghanton. 

ve khade rahe pita ki maut par 

antim lakadi ke.. jal jaane tak. 

ve khade rahe , asthiyaan bahaate huye

 ganga ke barf se paani mein. 

ladakon ! reedh to tumhaari peeth mein bhee hai, 

kya yah akadati nahin? 

beti par to bahut likha jaata hai. 

aaj beton par likha kaheen padha, 

isake lekhak ka naam to nahin pata 

par man kiya aap sab se saanjha kar loon.


TAGS: poetry on boys life in hindi, Best Poem on Boy in Hindi, ladko ki life par kavita, poetry, Poem, लड़कों पर हिंदी कविता, लड़को की जिंदगी पर कविता

No comments:
Write comment