Tuesday, April 19, 2022

कोई तो लौटा दो वो दिन, Middle Class Boy Story In Hindi | A Village Boys Life Story, Kahani In Hindi

middle class boy story in hindi,
image source: www.koimoi.com


कोई तो लौटा दो वो दिन: middle class boy story in hindi | a village boys life story in hindi / English

 एक मध्यमवर्गीय किसान का बेटा होने का २ फायदा होता है पहला फायदा तो यह कि आपको एक मुट्ठी चावल की कीमत पता होती है और दूसरा फायदा यह कि आप बिना शादी किए महज १६_१७ साल में जिम्मेदारियों से बंद कर परिवार के लिए बाप बन जाते हैं मेरा मतलब मुखिया बन जाते हैं,

लेकिन ये कैसे निश्चित कर सकते हैं कि हमारी जरूरत है क्या है,और क्या नहीं, लेकिन हम यह निश्चित जरूर कर सकते हैं कि हमारी परिवार की जरूरत है क्या है?

 एक किसान का बेटा घर से हजारों किलोमीटर दूर रह तो सकता है लेकिन अपने खेत से कभी दूर नहीं रहता रोड पर चलती हुई गायों में वह अपनी गैया को महसूस कर लेता है हाईवे किनारे फसलों को देखकर अपने खेतों को याद कर लेता है बड़े-बड़े बार और रेस्टोरेंट में बैठकर वो दारू पी कर फिर बर्गर खाते समय वह माई को याद करके मुस्कुरा तो लेता है , लेकिन पनीर टिक्का और भेज बिरयानी खाते समय उसे दाल भात चोखा चटनी ही याद आती है

अक्सर लोगों से सुना है कि लड़कियां घर छोड़ती हैं 

इन फैक्ट मुझे भी ये ही शुरू से सुनने को मिला है कि छोटी बहन है तेरी बेटा, एक दिन चली जाएगी, इसको करने दे यह जो कर रही है। लड़कियां हैं ,पराया धन है, मैं ऐसा नहीं कहता हूं कि यह गलत है लेकिन छोटा सा करेक्शन करना होगा लड़कियां पराया धन नहीं होती हैं लड़कियां तो घर की लक्ष्मी होती हैं पराया धन तो साला हम लौंडे टाइप के लड़के होते हैं

घर से दूर लालटेन और डिबरी की रोशनी में पढ़ने वाले लौंडे बिजली बचाने के लिए जब 9 वाट और 16 वाट के एलईडी में अंतर कर के उसके बाद उसके नीचे 75000 के लैपटॉप के सामने एसी चलाकर हाथ में सिगरेट लेकर बैठा करते हैं ना, तब ससुरा हमे याद आता है डिबिरी के नीचे पढ़ना उन्हें याद आता है कि डिबरी में तेल भरने का समय कब होता था क्यों होता था हमें याद आता है शाम के वक्त में जब हमे हमारी माई पढ़ने बैठने से पहले जब लालटेन का शीशा साफ करने के लिए कहा करती थी हमें याद आता है जब वह बाबूजी के साथ उनके कंधे पर बैठकर खेत घूमा करते थे हमें तो वो स्कूल वाली अपनी निक्कर भी याद आती है इसकी फटी हुई थी इसलिए वह अपने शर्ट के जेब में खट मीठीया गोली और नेमचूस रखते थे, समय के हिसाब से वह स्कूल ड्रेस वाला काला जूता भी याद आता है जो हम अक्सर शादियों में पहन कर जाया करते थे वह करिया जूता धीरे-धीरे गोल्ड स्टार बना फिर रिबॉक बना अभी वुडलैंड और बाठा बन कर रुला रहा है

खैर किसान के लौंडे बाप बन गए हैं बिन शादी किए बिन बच्चे पैदा किए वो फिलहाल बाप बन गए है  उनकी जवाबदारी उनकी जिम्मेदारी परिवार के प्रति उनके वफादारी उनके खेतों के प्रति उनका प्यार उनके पुराने वाले मकान के छत से गिरता हुआ बरसात के दिन में बारिश की बूंदे चापाकल को मरम्मत कराकर या फिर नया समरसेबल कराने का दबाव बहन की शादी में दूल्हे को फोर व्हीलर देना है इसके लिए पैसे इक्कठा करते हुए वह बिन शादी के बने बाप अचानक से बूढ़े होने लगते हैं यह बुढ़ापा कोई 1 दिन का नहीं है नाही 1 घंटे का या फिर 1 साल का यह बुढ़ापा है हमे तो जिम्मेदारियों की जंजीरों में ऐसा जकड़ना है कि हमारी फट के फ्लावर हो जाती है लेकिन फिर भी साला मुस्कुराते हैं शाम को जली हुई रोटी कल की बची हुई सब्जी खाकर भी माई से झूठ बोलते हैं कि "नहीं अम्मा हम ठीक हैं आज तो हमने पूरी सब्जी बनाया था वही खाकर अभी अभी उठे हैं"

यह जली हुई रोटी और पूड़ी सब्जी के बीच के बीच में जो डिफरेंस है ना बॉस, ससुरा बस यही हमारे पिछवाड़े की ताकत है यही हमारे जीने का हौसला वैसे भी हमारे पास घंटा हौसला के अलावा कुछ और ना है हम मुस्कुराते हैं क्योंकि हमें मुस्कुराता हुआ देखकर हमारी माइ खुश होती है, हम बाबूजी को जब फोटो व्हाट्सएप पर सेंड करते हैं ना, तो साला नयका कपड़ा पहन के फोटो खिंचवाते हैं ताकि बाबूजी को ऐसा न लगे कि उनके लाइका के पास पैसा की कमी है हम घर छोड़ते हैं हम भी रोते हैं लेकिन कसम महादेव की आंखों से आंसू ने गिरने देते हैं।

हम लौंडे हैं जनाब मध्यवर्गीय परिवार के लौंडे किसान के...... लौंडे जो साला साइकिल चलाते-चलाते बुलेट चलाने तो लगते हैं लेकिन फिर भी अपनी कैची साइकिल को नहीं भूल पाते हैं, साला थोड़े दिन के लिए सही वह बचपन लौटा दो बे...... हां ठीक है इस बार पड़ोसी के खेत से आम नहीं चोरी करेंगे ना ही क्रिकेट के दौरान कलुआ का सर फोड़गे, ठीक है कलावती को लव लेटर भी नहीं देंगे, ना ही आरिफ की बहन को छेड़ने के वजह से विनोद पंडित को मारेंगे हम साला सुधर जाएंगे बे,कोई तो लौटा दो वो दिन,ये साला जिम्मेदारियां कंधे झुका दे रही है आंखों में हौसला जिंदा है लेकिन विश्वास टूटा जा रहा है ,

इस बार मन लगाकर पढ़ाई भी करेंगे बे, बाबूजी का नाम भी रोशन करेंगे बाबूजी के जेब से पैसा नहीं चोरी करेंगे, कसम से ...........अच्छा ठीक है बाबूजी मारेंगे तो मार भी खा लेंगे, लेकिन माई के पास नहीं जाएंगे उनको परेशान करने के लिए,पक्का इस बार क्रिकेट भी छोड़ देंगे, थोड़े दिन के लिए सरस्वती पूजा में नाचेंगे नहीं बे, अच्छा ठीक है सुदर्शन चाचा के खेत से बदाम भी नहीं चुरा कर लाएंगे बस कुछ दिन के लिए यह जिम्मेदारियां ले लो, मेरा घर मुझे वापस दे दो।

 कोई तो लौटा दो वो दिन।

ALSO READ :

middle class boy story in hindi | a village boys life story in hindi / English

ek madhyamvargiy kisaan ka beta hone ka 2 fayada hota hai pahala fayada to yah ki aapako ek mutthi chawal ki keemat pata hoti hai aur dusara fayada yah ki aap bina shaadi kiye mahaj 16_17 saal mein jimmedaariyon se bandh kar parivar ke liye baap ban jaate hain mera matalab mukhiya ban jaate hain, 

lekin ye kaise nishchit kar sakate hain ki hamaari jarurat kya hai,aur kya nahin, lekin ham yah nishchit jaroor kar sakate hain ki hamaari parivar ki jarurat hai kya hai? 

ek kisaan ka beta ghar se hajaaron kilometer door rah to sakata hai lekin apane khet se kabhi door nahin rahata 

rod par chalati hui gaayon mein vah apani gaiya ko mahasoos kar leta hai 

highway kinaare fasalon ko dekhakar apane kheton ko yaad kar leta hai 

bade-bade bar aur restaurant mein baithakar vo daaru pee kar fir burger khate samay vah mai ko yaad karake muskura to leta hai , 

lekin Paneer Tikka aur Bhej Biryani khaate samay use daal bhaat chokha chatani hi yaad aati hai 

aksar logon se suna hai ki ladakiyaan ghar chhodati hain in fact mujhe bhi ye hi shuru se sunane ko mila hai ki chhoti bahan hai teri beta, ek din chali jayegi, isako karane de yah jo kar rahi hai. ladakiyaan hain ,paraaya dhan hai, 

main aisa nahin kahata hoon ki yah galat hai lekin chhota sa correction karana hoga ladakiyaan paraaya dhan nahin hoti hain 

ladakiyaan to ghar ki lakshmi hoti hain paraaya dhan to saala ham londe type ke ladake hote hain 

ghar se door lantern aur dibari ki roshani mein padhane wale londe bijali bachane ke liye jab 9 vaat aur 16 vaat ke LED mein antar kar ke usake baad usake neeche 75000 ke laptop ke saamane AC chalaakar haath mein cigarette lekar baitha karate hain na,

 tab sasura hame yaad aata hai dibiri ke neeche padhana unhen yaad aata hai ki dibari mein tel bharane ka samay kab hota tha kyon hota tha 

hamen yaad aata hai shaam ke vakt mein jab hame hamaari mai padhane baithane se pahale jab lantern ka sheesha saaf karane ke liye kaha karati thi 

hamen yaad aata hai jab vah Babuji ke saath unake kandhe par baithakar khet ghuma karate the 

hamen to vo school vaali apani nikkar bhi yaad aati hai isaki fati hui thi isaliye vah apane shirt ke jeb mein khat meethiya goli aur nemachoos rakhate the, 

samay ke hisaab se vah school dress wala kaala juta bhi yaad aata hai jo ham aksar shadiyon mein pahan kar jaaya karate the vah kariya joota dheere-dheere gold star bana 

fir Reebok bana abhi woodland aur bata ban kar rula raha hai 

khair kisaan ke launde baap ban gaye hain bin shaadi kiye bin bachche paida kiye vo filahaal baap ban gaye hai unaki javabadari unaki jimmedaari parivar ke prati unake vafaadari 

unake kheton ke prati unaka pyaar unake purane vaale makaan ke chhat se girata hua barasat ke din mein barish ki bunde chaapakal ko marammat karaakar ya phir naya samarsebal karaane ka dabav, bahan ki shaadi mein dulhe ko four wheeler dena hai isake liye paise ikkatha karate hue vah bin shaadi ke bane baap achaanak se budhe hone lagate hain 

yah budhaapa koi 1 din ka nahin hai naahi 1 ghante ka ya phir 1 saal ka yah budhaapa hai, hame to jimmedaariyon ki janjiron mein aisa jakadana hai ki hamaari fat ke flower ho jaati hai 

lekin fir bhi saala muskuraate hain shaam ko jali hui roti kal ki bachi hui sabji khakar bhi mai se jhooth bolate hain ki "nahin amma ham theek hain 

aaj to hamane poori sabji banaaya tha vahi khaakar abhi abhi uthe hain" yah jali hui roti aur poodi sabji ke beech ke beech mein jo difference hai na boss,

sasura bas yahi hamaare pichhawade ki taakat hai yahi hamare jeene ka hausala 

vaise bhi hamaare paas ghanta hausala ke alawa kuchh aur na hai ham muskuraate hain kyonki hamen muskuraata hua dekhakar hamaari mai khush hoti hai, 

ham babuji ko jab photo whatsapp par send karate hain na, to saala nayaka kapada pahan ke photo khinchawate hain taaki babuji ko aisa na lage ki unake laika ke paas paisa ki kami hai 

ham ghar chhodate hain ham bhi rote hain lekin kasam mahadev ki aankhon se aansu ne girane dete hain. 

ham launde hain janaab madhyavargeey parivar ke launde kisaan ke...... 

launde jo saala  cycle chalaate-chalaate bullet chalaane to lagate hain, lekin phir bhi apani kaichi cycle ko nahin bhul paate hain, 

saala thode din ke liye sahi vah bachpan lauta do be...... 

haan theek hai is baar padosi ke khet se aam nahin chori karenge na hi Cricket ke dauran kalua ka sar phodage, 

theek hai kalavati ko love letter bhi nahin denge, na hi aarif ki bahan ko chhedane ke vajah se vinod pandit ko maarenge 

ham saala sudhar jayenge be, koi to lauta do vo din, 

ye saala jimmedaariyaan kandhe jhuka de rahi hai aankhon mein hausala jinda hai 

lekin vishvaas tuta ja raha hai , is baar man lagaakar padhai bhi karenge be, babuji ka naam bhi roshan karenge babuji ke jeb se paisa nahin chori karenge, kasam se ...........

achchha theek hai babuji maarenge to maar bhi kha lenge, lekin mai ke paas nahin jayenge unako pareshaan karane ke liye,

pakka is baar Cricket bhi chhod denge, thode din ke liye Saraswati Puja mein naachenge nahin be, 

achchha theek hai sudarshan chaacha ke khet se badaam bhi nahin chura kar layenge bas kuchh din ke liye yah jimmedaariyaan le lo 

mera ghar mujhe wapas de do. koi to lauta do vo din.


TAGS: middle class boy story in hindi, middle class boys in Hindi Stories , From the Diary of a Middle Class Boy in Hindi, gaanv ke ladko kie zindagi story in hindi, A Real Story of Middle Class Family in India, a village boys life story in hindi, मिडिल क्लास फैमिली story, The story of a middle class boy hindi

No comments:
Write comment