लड़कों पर दिल छू जाने वाली शायरी | boys Quotes, Status, Shayari, Poetry

 

boys status in hindi
boys Quotes, Status, Shayari, Poetry

Boys Shayari In Hindi

प्रेमी होने के लिये किसी प्रेमिका का होना जरूरी नहीं होता है,

जो राह चलते बिन बुलाये यूँही दे देते हैं किसी कीचड़ में फंसी गाड़ी को धक्का,

जो ले लेते हैं तरफदारी किसी कमज़ोर पक्ष की,

जो बाजार से लौटते वक्त अक्सर ले आते हैं माँ की पसन्दीदा मीठी गुझिया,

वो भी होते हैं एक अच्छे प्रेमी और गढ़ते हैं एक नई परिभाषा

प्रेम की।

Boys Shayari In Hinglish

premi hone ke liye kisi premika ka hona jaroori nahin hota hai, 

jo raah chalate bin bulaaye yonhi de dete hain kisi keechad mein phansi gaadi ko dhakka, 

jo le lete hain tarafdari kisi kamazor paksh ki, 

jo bajaar se lautate wakt aksar le aate hain maa ki pasandida meethi gujhiya, 

vo bhi hote hain ek achchhe premi aur gadhate hain ek nai paribhaasha prem ki.



बेटियां नसीब से तो

बेटे दुवाओं के बाद आते हैं,

अजी हम लड़के है जनाब

हम कुछ जिम्मेदारियो के साथ आते है।

आधी उम्र जिम्मेदारियां

समझने में गुजर जाती है

तो आधी उसे निभाने में,

पूरा बचपन किताबो में

गुजर जाता है तो

जवानी कमाने में।

ये जिम्मेदारिया

उम्र के साथ बढ़ती है

ये बुढ़ापे में भी कम नही होता,

अजी कौन कहता है जनाब

हम लड़को की जिंदगी में

गम नही होता।

 betiyan naseeb se to 

bete duvaon ke baad aate hain, 

aji ham ladake hai janaab 

ham kuchh jimmedariyo ke saath aate hai.

 aadhi umr jimmedariyan 

samajhane mein gujar jaati hai 

to aadhi use nibhaane mein, 

poora bachapan kitaabo mein gujar 

jaata hai to 

jawani kamaane mein. 

ye jimmedariya 

umr ke saath badhati hai 

ye budhaape mein bhi kam nahee hota, 

aji kaun kahata hai janaab 

ham ladako ki jindagi mein 

gam nahi hota.



.प्रेम.

प्रेम में लड़कियाँ

'दूब' सी होती है,

लड़के 'ओक' से,

उग आती है

लड़कियाँ.

थोड़ी सी नमी पाकर,

और

बटोर लाया करते है लड़के,

मरुस्थल में भी

तमाम नमी.

लड़कियों के लिए।

 .prem. 

prem mein ladakiyan 

doob si hoti hai, 

ladake ook se, 

ug aati hai ladakiyan. 

thodi si nami paakar, 

aur bator laaya karate hai ladake, 

marusthal mein bhi 

tamaam namee. 

ladakiyon ke liye.



खुशबु बनके फूलों से उड़ा करते हैं,

धुंआ बनके पर्वतों से उडा करते है।

हमें क्या रोकेगी ये दुनियां,

हम पैरों से नहीं हौसलों से उडा करते है।

khushabu banake phoolon se uda karate hain, 

dhuna banake parvaton se uda karate hai. 

hamen kya rokegi ye duniyaan, 

ham pairon se nahin hausalon se uda karate hai.



दर्द हम लड़कों को भी होता है,

लेकिन हम यूँ रो तो नही सकते

फ़ील तो हम लड़को को भी होता है,

लेकिन किसी से कह भी नही सकते

चाहत तो हमारे दिल मे भी होती है,

लेकिन हम बता भी तो नहीं सकते

बेवफ़ाई हम ही करे ये जरूरी तो नही,

हर बार हम ही ग़लत हो जरूरी तो नही

होती है बहुत जिम्मेदारियां हम पर भी,

हम आवारा निक्कमे ही जरूरी तो नही।

dard ham ladakon ko bhi hota hai, 

lekin ham yoon ro to nahi sakate 

feel to ham ladako ko bhi hota hai, 

lekin kisi se kah bhi nahi sakate 

chaahat to hamaare dil me bhi hoti hai, 

lekin ham bata bhi to nahin sakate 

bewafai ham hi kare ye jaroori to nahee,

 har baar ham hi galat ho jaroori to nahi 

hoti hai bahut jimmedariyan ham par bhi, 

ham aawara nikkamme hi jarooree to nahi.



मैं खुद भी अपने लिए

अजनबी हूँ,

मुझे गैर कहने वाले

तेरी बात में दम है।

main khud bhi apane liye ajanabi hoon, 

mujhe gair kahane vaale teri baat mein dam hai.



यदि किसी टूटी हुई स्त्री ने आकर

तुम्हारे कंधे पर सर रख दिया हो कभी चुपचाप

तो बेहिचक बताना सबको

कि संसार के सबसे भरोसेमंद पुरुष हो तुम,

यदि कोई रोता हुआ बच्चा

मुस्कुरा दिया हो अचानक तुम्हें देख कर कभी

तो कह देना

कि संसार का सब से निश्छल चेहरा तुम्हारा है,

यदि कोई परास्त पुरुष

तुम्हारे पुकारने पर आकर टूट गया हो

और बह गया हो फूटफूट कर

तो कहना

कि संसार के सबसे गहरे मित्र होने के पात्र हो तुम,

यदि तुम्हें नहीं सूझे कभी भी, कोई भी सवाल उसके लिए

जिसके प्रेम मे हो तुम

तो समझ लेना

कि संसार के सबसे सच्चे प्रेमी हो तुम,

यदि अपनी भूख से अधिक एक दाना बेचैन कर दे तुम्हें

और तुम निकल पड़ो उसके असली हकदार को ढूंढने

और ढूंढे बिना लौट न पाओ थाली पर

तो मनुष्यों में सर्वाधिक मनुष्य कह देना अपने आप को

बेहिचक।

yadi kisi tooti hui stree ne aakar 

tumhaare kandhe par sar rakh diya ho kabhee chupchaap 

to behichak bataana sabako ki sansaar ke sabase bharosemand purush ho tum, 

yadi koi rota hua bachcha 

muskura diya ho achaanak tumhen dekh kar kabhi 

to kah dena ki sansaar ka sab se nishchhal chehara tumhaara hai, 

yadi koi paraast purush 

tumhaare pukaarane par aakar toot gaya ho 

aur bah gaya ho phoot phoot kar 

to kahana ki sansaar ke sabase 

gahare mitr hone ke paatr ho tum, 

yadi tumhen nahin sujhe kabhi bhi, koi bhi sawal usake liye 

jisake prem me ho tum 

to samajh lena 

ki sansaar ke sabase sachche premi ho tum, 

yadi apani bhookh se adhik ek daana bechain kar de tumhen 

aur tum nikal pado usake asali hakadaar ko dhundhane 

aur dhundhe bina laut na pao thaali 

par to manushyon mein sarvaadhik manushy kah dena apane aap ko 

behichak. 



कुछ लोग कहते है की औरत पर्दे मे ही अच्छी लगती है

और हम कहते है की मर्द औरत को देखकर नजरे झुका ले वही अच्छे लगते है।

kuchh log kahate hai ki aurat parde me hi achchhi lagati 

hai aur ham kahate hai ki mard aurat ko dekhakar najare jhuka le vahi achchhe lagate hai.



ये लड़के

ये छः फुट के लड़के, रोना चाहते हैं कभी-कभी 

दहाड़ें मार कर और पकड़ कर माँ के पल्लू को कहना चाहते हैं

 बहुत दिनों से “मन अच्छा नहीं है” माँ…

पर न जाने क्यों कह नहीं पाते

ये लड़के छः फुट के लड़के कर लेते हैं 

दोस्तों में सारी ठिठोलियाँ दे लेते हैं बड़ी-बड़ी 

सारी गालियाँ, पर न जाने क्यों खोल नहीं पाते मन के दर्द,

 दोस्तों के आगे और अक्सर आँख के गीले कोनों को 

झट से सन ग्लास के पीछे छिपा लेते हैं,

ये लड़के ये छः फुट के लड़के अब पिता के

 नाप से कुछ बड़े, जूते व शर्ट पहनने लगते हैं 

और टकराते हैं उनसे बात ही बात में बहस करते हैं 

उनसे पर अब भी, हथेली थाम उनकी बगीचों में टहलना चाहते हैं

 पीठ पर अपनी, फिर शाबाशी की धौल चाहते हैं 

पर न जाने क्यों कह नहीं पाते,

ये लड़के ये छः फुट के लड़के

देखते ही देखते हुड़दंगी चौराहों को भूल जाते हैं और, 

भूल जाते हैं अपनी बाइक की वो, तेज़ रफ़्तार

वो, ग़ुलाबी आँखें और, उस, गिफ़्टेड गिटार को,

ये लड़के ये छः फुट के लड़के अब खपने लगते हैं 

महीने के वेतन में भूल के अपने सपनों को न जाने कब,. 

घर के बड़े से .बरगद. बन जाते हैं ये लड़के..ये छः फुट के लड़के।

ye ladake 

ye chhah fut ke ladake, 

rona chaahate hain kabhi-kabhi 

dahaade maar kar aur pakad kar maa ke pallu ko kahana chaahate hain 

bahut dinon se “man achchha nahin hai” maa… 

par na jaane kyon kah nahin paate 

ye ladake chhah fut ke ladake kar lete hain 

doston mein saari thitholiyaan de lete hain badi-badi saari gaaliyaan, 

par na jaane kyon khol nahin paate man ke dard, 

doston ke aage aur aksar aankh ke geele konon ko 

jhat se san glaas ke peechhe chhipa lete hain, 

ye ladake ye chhah fut ke ladake ab pita ke 

naap se kuchh bade, joote va shart pahanane lagate hain 

aur takaraate hain unase baat hi baat mein bahas karate hain unase 

par ab bhee, hatheli thaam unaki bageechon mein tahalana chaahate hain 

peeth par apani, phir shabasi ki dhaul chaahate hain 

par na jaane kyon kah nahin paate, 

ye ladake ye chhah fut ke ladake 

dekhate hee dekhate hudadangi chauraahon ko bhool jaate hain aur, 

bhool jaate hain apani baik ki vo, 

tez raftaar vo, gulaabi aankhen aur, us, gifted gitaar ko, 

ye ladake ye chhah fut ke ladake ab khapane lagate hain 

maheene ke vetan mein bhool ke apane sapanon ko na jaane kab,. 

ghar ke bade se .baragad. ban jaate hain ye ladake..ye chhah fut ke ladake.



कभी थक जाओ तुम दुनियाँ की महफिल से,

हमे आवाज दे देना,हम अक्सर अकेले होते है।

kabhi thak jao tum duniyaan ki mahafil se, 

hame aawaaj de dena,ham aksar akele hote hai. 



यदि लड़की पापा की परी तो लड़के भी कोहिनूर होते है,

लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं ।

माना कि लड़कियों को घर छोड़ जाने का एक डर होता है,

लेकिन इनका एक घर के बाद दूसरा घर होता है,

माना कि लड़कों को कोई डर नही होता,

ये नौकरी तो करते हैं कई शहरों में पर इनका कोई घर नहीं होता,

अपनों के सपनों के खातिर ये भी मजबूर होते हैं,

अजी लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं।।

खड़े हमेशा सोचते हैं घर के बारे में पर खड़े कहीं और होते हैं,

सिर्फ लड़कियां ही नही लड़के भी दिल से कमजोर होते हैं,

विश्व जीतने का एक सिकंदर इनमें भी होता है,

बस रोते नहीं पर एक समुन्दर इनमें भी होता है,

लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं

घर मे बच्चे लेकिन बाहर मशहूर होते हैं,

अजी लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं।

लड़के भी घर से बाहर मम्मी पापा के बगैर होते हैं,

यदि लड़की घर की लक्ष्मी तो लड़के भी कुबेर होते हैं,

बस यादें ही जा पाती है अपने गांव जमीनों तक,

लड़के भी कहाँ जा पाते हैं कई साल महीनों तक ।

yadi ladaki paapa ki pari to ladake bhi kohinoor hote hai, 

ladake bhi rote hai jab ghar se door hote hain . 

maana ki ladakiyon ko ghar chhod jaane ka ek dar hota hai, 

lekin inaka ek ghar ke baad doosara ghar hota hai, 

maana ki ladakon ko koi dar nahi hota, 

ye naukari to karate hain kai shaharon mein par inaka koi ghar nahin hota, 

apanon ke sapanon ke khaatir ye bhi majaboor hote hain, 

aji ladake bhi rote hai jab ghar se door hote hain.. 

khade hamesha sochate hain ghar ke baare mein par khade kaheen aur hote hain, 

sirf ladakiyaan hi nahi ladake bhi dil se kamajor hote hain, 

vishv jeetane ka ek sikandar inamen bhi hota hai, 

bas rote nahin par ek samundar inamen bhi hota hai, 

ladake bhi rote hain, jab ghar se door hote hain 

ghar me bachche lekin baahar mashahoor hote hain, 

aji ladake bhi rote hai jab ghar se door hote hain. 

ladake bhi ghar se baahar mammi paapa ke bagair hote hain, 

yadi ladakee ghar ki lakshmi to ladake bhi kuber hote hain, 

bas yaaden hi ja paati hai apane gaanv jameenon tak, 

ladake bhi kahaan ja paate hain kai saal maheenon tak .


अगर आप मूवीज और वेब सीरीज से रिलेटेड जानकारी पाना चाहते हैं तो आप मेरे एक दोस्त की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं

Post a Comment

1 Comments