Thursday, March 31, 2022

बचपन की स्कूल लाइफ की पुरानी यादें | Childhood Memories Bachpan Ke Din ki yaadein, Quotes, Shayari, story

bachpan ki yaadein,
school life memories in hindi


Childhood Memories Quotes In Hindi, bachpan ki yaadein / school life memories in hindi

 

पहले भटूरे को फुलाने के लिये उसमें ENO डालिये

फिर भटूरे से फूले पेट को पिचकाने के लिये ENO पीजिये 


जीवन के कुछ गूढ़ रहस्य आप कभी नहीं समझ पायेंगे


पहली कक्षा तक स्लेट की बत्ती को जीभ से चाटकर कैल्शियम की कमी पूरी करना हमारी स्थाई आदत थी

लेकिन इसमें पापबोध भी था कि कहीं विद्यामाता नाराज न हो जायें !!

पढ़ाई के तनाव हमने पेन्सिल का पिछला हिस्सा चबाकर मिटाया था !!!

पुस्तक के बीच पौधे की पत्ती और मोरपंख रखने से हम होशियार हो जाएंगे ... ऐसा हमारा दृढ विश्वास था..

कपड़े के थैले में किताब-कॉपियां जमाने का विन्यास हमारा रचनात्मक कौशल था !!!

हर साल जब नई कक्षा के बस्ते बंधते तब कॉपी किताबों पर जिल्द चढ़ाना हमारे जीवन का वार्षिक उत्सव मानते थे !!


माता - पिता को हमारी पढ़ाई की कोई फ़िक्र नहीं थी, न हमारी पढ़ाई उनकी जेब पर बोझा थी...

सालों साल बीत जाते पर माता - पिता के कदम हमारे स्कूल में न पड़ते थे !!!

एक दोस्त को साईकिल के बिच वाले डंडे पर और दूसरे को पीछे कैरियर पर बिठा हमने कितने रास्ते नापें हैं, यह अब याद नहीं बस कुछ धुंधली सी स्मृतियां हैं !!

स्कूल में पिटते हुए और मुर्गा बनते हमारा ईगो हमें कभी परेशान नहीं करता था दरअसल हम जानते ही नही थे कि, ईगो होता क्या है...


पिटाई हमारे दैनिक जीवन की सहज सामान्य प्रक्रिया थी..

पीटने वाला और पिटने वाला दोनो खुश थे,..

पिटने वाला इसलिए कि हमे कम पिटे पीटने वाला इसलिए खुश होता था कि हाथ साफ़ हुवा !!!

हम अपने माता - पिता को कभी नहीं बता पाए कि हम उन्हें कितना प्यार करते हैं, क्योंकि हमें "आई लव यू" कहना आता ही नहीं था !!

आज हम गिरते - सम्भलते, संघर्ष करते दुनियां का हिस्सा बन चुके हैं, कुछ मंजिल पा गये हैं तो कुछ न जाने कहां खो गए हैं !!

हम दुनिया में कहीं भी हों लेकिन यह सच है, हमे हकीकतों ने पाला है, हम सच की दुनियां में थे !!!

कपड़ों को सिलवटों से बचाए रखना और रिश्तों को औपचारिकता से बनाए रखना हमें कभी आया ही नहीं ... इस मामले में हम सदा मूर्ख ही रहे !!


अपना अपना प्रारब्ध झेलते हुए हम आज भी ख्वाब बुन रहे हैं, शायद ख्वाब बुनना ही हमें जिन्दा रखे है वरना जो जीवन हम जीकर आये हैं उसके सामने यह वर्तमान कुछ भी नहीं !!!

हम अच्छे थे या बुरे थे पर हम सब साथ थे काश वो समय फिर लौट आए !

"एक बार फिर अपने बचपन के पन्नो को पलटिये, सच में फिर से जी उठेंगे”...


और अंत में...

हमारे पिताजी के समय में दादाजी गाते थे .....

मेरा नाम करेगा रोशन जग में मेरा राज दुलारा..

हमारे ज़माने में हमने गाया ...

पापा कहते है बड़ा नाम करेगा

अब हमारे बच्चे गा रहे हैं …

बापू सेहत के लिए ... तू तो हानिकारक है

वास्तव में हम कहाँ से कहाँ आ गए ??

एक बार मुड़ कर तो देखिये ... Thank You  

ALSO READ :


Childhood Memories Bachpan Ke Din ki yaadein, Quotes, Shayari, story / बचपन की कुछ सुनहरी यादें / स्कूल लाइफ की यादें इन हिंदी


pahale bhature ko fulane ke liye usamen ENO daaliye 

phir bhature se phule pet ko pichakaane ke liye ENO peejiye 

jeevan ke kuchh gudh rahasy aap kabhi nahin samajh paayenge 


pahali kaksha tak slate ki batti ko jeebh se chaatakar calcium ki kami puri karana hamaari sthai aadat thi 

lekin isamen paapabodh bhi tha ki kahin vidyaamata naraj na ho jaayen !!

 padhai ke tanaav hamane pensil ka pichla hissa chabakar mitaya tha !!! 

pustak ke beech paudhe ki patti aur morapankh rakhane se ham hoshiyaar ho jaenge ... aisa hamaara dridh vishvas tha.. 

kapade ke thaile mein kitaab-coppyaan jamaane ka vinyaas hamaara rachanaatmak kaushal tha !!! 

har saal jab nai kaksha ke baste bandhate tab coppy kitaabon par jild chadhaana hamaare jeevan ka warshik utsav maanate the !! 


maata - pita ko hamaari padhai ki koi fikr nahin thi, na hamaari padhai unaki jeb par bojha thi... 

saalon saal beet jaate par maata - pita ke kadam hamaare school mein na padate the !!! 

ek dost ko cycle ke bich vaale dande par aur dusare ko peechhe carrier par bitha hamane kitane raaste naapen hain, yah ab yaad nahin bas kuchh dhundhali si smrtiyaan hain !! 

school mein pitate hue aur murga banate hamaara ego hamen kabhi pareshaan nahin karata tha darasal ham jaanate hi nahi the ki, ego hota kya hai... 


pitai hamaare dainik jeevan ki sahaj saamany prakriya thi.. 

peetane vaala aur pitane vaala dono khush the,.. 

pitane vaala isaliye ki hame kam pite peetane vaala isaliye khush hota tha ki haath saaf huva !!! 

ham apane maata - pita ko kabhi nahin bata paye ki ham unhen kitana pyaar karate hain, kyonki hamen "I LOVE YOU" kahana aata hi nahin tha !! 

aaj ham girate - sambhalate, sangharsh karate duniyaan ka hissa ban chuke hain, kuchh manjil pa gaye hain to kuchh na jaane kahaan kho gaye hain !!

 ham duniya mein kaheen bhi hon lekin yah sach hai, hame haqikaton ne paala hai, ham sach ki duniyaan mein the !!!

 kapadon ko silavaton se bachaye rakhana aur rishton ko aupacharikata se banaye rakhana hamen kabhi aaya hi nahin ...  is maamale mein ham sada murkh hi rahe !! 

apana apana prarabdh jhelate huye ham aaj bhi khwab bun rahe hain, shaayad khwab bunana hi hamen jinda rakhe hai varana jo jeevan ham jeekar aaye hain usake saamane yah vartamaan kuchh bhi nahin !!! ham achchhe the ya bure the par ham sab saath the kaash vo samay phir laut aaye ! "ek baar phir apane bachapan ke panno ko palatiye, sach mein phir se jee uthenge”... 


aur ant mein... 

hamaare pitaaji ke samay mein daadaaji gaate the ..... 

mera naam karega roshan jag mein mera raaj dulaara.. 

hamaare zamaane mein hamane gaaya ... 

paapa kahate hai bada naam karega 

ab hamaare bachche ga rahe hain … 

baapu sehat ke liye ... tu to hanikarak hai 

vaastav mein ham kahaan se kahaan aa gaye ?? 

ek baar mud kar to dekhiye ... thank you

No comments:
Write comment