Sunday, May 8, 2022

हमारा भी एक जमाना था..Bachpan Ki Poorani Yaadein | Childhood Memories In Hindi | 90s Ka Bachpan

bachpan ki Poorani Yaadein,
 Childhood Memories In Hindi


bachpan ki Poorani Yaadein | 90s childhood memories india

हमारा भी एक जमाना था

खुद ही स्कूल जाना पड़ता था क्योंकि साइकिल बस आदि से भेजने की रीत नहीं थी, स्कूल भेजने के बाद कुछ अच्छा बुरा होगा ऐसा हमारे मां-बाप कभी सोचते भी नहीं थे... उनको किसी बात का डर भी नहीं होता था, 

पास / फेल यही हमको मालूम था... परसेंटेज से हमारा कभी संबंध ही नहीं था...

ट्यूशन लगाई है ऐसा बताने में भी शर्म आती थी क्योंकि हमको ढपोर शंख समझा जा सकता था, 

किताबों में पीपल के पत्ते, विद्या के पत्ते, मोर पंख रखकर हम होशियार हो सकते हैं ऐसी हमारी धारणाएं थी, 

कपड़े की थैली में, बस्तों में, और बाद में एल्यूमीनियम की पेटियों में...किताब कॉपियां बेहतरीन तरीके से जमा कर रखने में हमें महारत हासिल थी, Bachpan Ki Poorani Yaadein

हर साल जब नई क्लास का बस्ता जमाते थे उसके पहले किताब कापी के ऊपर रद्दी पेपर की जिल्द चढ़ाते थे और यह काम एक वार्षिक उत्सव या त्योहार की तरह होता था,

साल खत्म होने के बाद किताबें बेचना और अगले साल की पुरानी किताबें खरीदने में हमें किसी प्रकार की शर्म नहीं होती थी..क्योंकि तब हर साल न किताब बदलती थी और न ही पाठ्यक्रम...

हमारे माताजी पिताजी को हमारी पढ़ाई का बोझ है.. ऐसा कभी  लगा ही नहीं.... 

किसी दोस्त के साइकिल के अगले डंडे पर और दूसरे दोस्त को पीछे कैरियर पर बिठाकर गली-गली में घूमना हमारी दिनचर्या थी....इस तरह हम ना जाने कितना घूमे होंगे....

स्कूल में सर के हाथ से मार खाना, पैर के अंगूठे पकड़ कर खड़े रहना, और कान लाल होने तक मरोड़े जाते वक्त हमारा ईगो कभी आड़े नहीं आता था.... सही बोले तो ईगो क्या होता है यह हमें मालूम ही नहीं था...

घर और स्कूल में मार खाना भी हमारे दैनंदिन जीवन की एक सामान्य प्रक्रिया थी.....

मारने वाला और मार खाने वाला दोनों ही खुश रहते थे... मार खाने वाला इसलिए क्योंकि कल से आज कम पिटे हैं और मारने वाला है इसलिए कि आज फिर हाथ धो लिये...😀

बिना चप्पल जूते के और किसी भी गेंद के साथ लकड़ी के पटियों से कहीं पर भी नंगे पैर क्रिकेट खेलने में क्या सुख था वह हमको ही पता है...

हमने पॉकेट मनी कभी भी मांगी ही नहीं और पिताजी ने भी दी नहीं.....इसलिए हमारी आवश्यकता भी छोटी छोटी सी ही थीं....साल में कभी-कभार एक हाथ बार सेव मिक्सचर मुरमुरे का भेल खा लिया तो बहुत होता था.... उसमें भी हम बहुत खुश हो लेते थे.....

छोटी मोटी जरूरतें तो घर में ही कोई भी पूरी कर देता था क्योंकि परिवार संयुक्त होते थे 

दिवाली में लोंगी पटाखों की लड़ को छुट्टा करके एक एक पटाखा फोड़ते रहने में हमको कभी अपमान नहीं लगा...

हम....हमारे मां बाप को कभी बता ही नहीं पाए कि हम आपको कितना प्रेम करते हैं क्योंकि हमको आई लव यू कहना ही नहीं आता था...

आज हम दुनिया के असंख्य धक्के और टाॅन्ट खाते हुए, और संघर्ष करती हुई दुनिया का एक हिस्सा है..किसी को जो चाहिए था वह मिला और किसी को कुछ मिला कि नहीं..क्या पता.. 

स्कूल की डबल ट्रिपल सीट पर घूमने वाले हम और स्कूल के बाहर उस हाफ पेंट मैं रहकर गोली टाफी बेचने वाले की  दुकान पर दोस्तों द्वारा खिलाए पिलाए जाने की कृपा हमें याद है, .वह दोस्त कहां खो गए वह बेर वाली कहां खो गई, वह चूरन बेचने वाली कहां खो गई, .पता नहीं.. 

हम दुनिया में कहीं भी रहे पर यह सत्य है कि हम वास्तविक दुनिया में बड़े हुए हैं हमारा वास्तविकता से सामना वास्तव में ही हुआ है...

कपड़ों में सिलवटें ना पड़ने देना और रिश्तों में औपचारिकता का पालन करना हमें जमा ही नहीं, सुबह का खाना और रात का खाना इसके सिवा टिफिन क्या था हमें मालूम ही नहीं...हम अपने नसीब को दोष नहीं देते....जो जी रहे हैं वह आनंद से जी रहे हैं और यही सोचते हैं, और यही सोच हमें जीने में मदत कर रही है.. जो जीवन हमने जिया...उसकी वर्तमान से तुलना हो ही नहीं सकती,

हम अच्छे थे या बुरे थे नहीं मालूम पर हमारा भी एक जमाना था। Childhood Memories In Hindi | 90s Ka Bachpan

ALSO READ :

Childhood Memories In Hindi | 90s Ka Bachpan

hamaara bhi ek jamaana tha 

khud hi school jaana padata tha kyonki cycle bas aadi se bhejane ki reet nahin thi, school bhejane ke baad kuchh achchha bura hoga aisa hamaare maa-baap kabhi sochate bhi nahin the... 

unako kisi baat ka dar bhi nahin hota tha, 

Pass/Fail yahi hamako maaloom tha... percentage se hamaara kabhi sambandh hi nahin tha... tuition lagai hai aisa bataane mein bhi sharm aati thi 

kyonki hamako dhapor shankh samajha ja sakata tha, kitaabon mein peepal ke patte, vidya ke patte, more pankh rakhakar ham hoshiyaar ho sakate hain aisi hamaari dhaaranayen thi, 

kapade ki thaili mein, baston mein, aur baad mein aluminum ki petiyon mein...

kitaab coppyaan behatareen tareeke se jama kar rakhane mein hamen mahaarat haasil thi, har saal jab nai class ka basta jamaate the usake pahale kitaab coppy ke upar raddi pepar ki jild chadhaate the aur yah kaam ek vaarshik utsav ya tyohaar ki tarah hota tha, 

saal khatm hone ke baad kitaaben bechana aur agale saal ki puraani kitaaben khareedane mein hamen kisi prakaar ki sharm nahin hoti thi..

kyonki tab har saal na kitaab badalati thi aur na hi paathyakram... 

hamaare maata jee pita jee ko hamaari padhai ka bojh hai.. aisa kabhi laga hi nahin.... 

kisi dost ke cycle ke agale dande par aur dusare dost ko peechhe carrier par bithaakar gali-gali mein ghumana hamaari dinacharya thi....

is tarah ham na jaane kitana ghoome honge.... school mein sar ke haath se maar khaana, pair ke angoothe pakad kar khade rahana, aur kaan laal hone tak marode jaate vakt hamaara ego kabhi aade nahin aata tha.... 

sahee bole to ego kya hota hai yah hamen maaloom hee nahin tha... 

ghar aur school mein maar khaana bhi hamaare dainandin jeevan ki ek saamaany prakriya thi..... maarane vaala aur maar khaane vaala donon hi khush rahate the... 

maar khaane vaala isaliye kyonki kal se aaj kam pite hain aur maarane vaala hai isaliye ki aaj phir haath dho liye...

bina chappal joote ke aur kisi bhi gend ke saath lakadi ke patiyon se kaheen par bhi nange pair cricket khelane mein kya sukh tha vah hamako hi pata hai... 

hamane pocket money kabhi bhi maangi hi nahin aur pitajee ne bhi di nahin.....

isalie hamaari aavashyakata bhi chhoti chhoti si hi theen....saal mein kabhi-kabhaar ek haath baar sev mixture murmure ka bhel kha liya to bahut hota tha.... 

usamen bhi ham bahut khush ho lete the..... chhoti moti jarooraten to ghar mein hi koi bhi poori kar deta tha 

kyonki parivaar sanyukt hote the diwali mein longi pataakhon ki ladi ko chhutta karake ek ek pataakha phodate rahane mein hamako kabhi apamaan nahin laga... 

ham....hamaare maa baap ko kabhi bata hi nahin paye ki ham aapako kitana prem karate hain kyonki hamako i love you kahana hi nahin aata tha... 

aaj ham duniya ke asankhy dhakke aur taaaint khaate hue, aur sangharsh karati hui duniya ka ek hissa hai..

kisi ko jo chaahiye tha vah mila aur kisi ko kuchh mila ki nahin..kya pata.. 

school ki double triple seet par ghumane vaale ham aur school ke baahar us half-pant main rahakar goli taafi bechane vaale ki dukaan par doston dvaara khilaye pilaye jaane ki kripa hamen yaad hai, .

vah dost kahaan kho gaye vah ber vaali kahaan kho gai, vah chooran bechane vaali kahaan kho gai, .pata nahin.. Bachpan Ki Poorani Yaadein | Childhood Memories In Hindi

ham duniya mein kaheen bhi rahe par yah saty hai ki ham vaastavik duniya mein bade huye hain hamaara vaastavikata se saamana vaastav mein hi hua hai... 

kapadon mein silavaten na padane dena aur rishton mein aupchaarikata ka paalan karana hamen jama hi nahin, subah ka khaana aur raat ka khaana isake siva tifin kya tha hamen maaloom hi nahin...

ham apane naseeb ko dosh nahin dete....jo jee rahe hain vah aanand se jee rahe hain aur yahi sochate hain, aur yahi soch hamen jeene mein madat kar rahi hai.. 

jo jeevan hamane jiya...usaki vartamaan se tulana ho hi nahin sakati, 

ham achchhe the ya bure the nahin maalum par hamaara bhi ek jamaana tha.


TAGS: bachpan ki Poorani Yaadein, Childhood Memories In Hindi, 90s Ka Bachpan, 90s childhood memories india, Bachpan ki Yaade

No comments:
Write comment