Friday, September 2, 2022

पितृ ऋण - Heart Touching Emotional Short Story In Hindi & English

Heart Touching Emotional Story In Hindi - दिल को छू लेने वाली कहानी

Heart Touching Emotional Short Story In Hindi,
Heart Touching Story in Hindi

डैड, मेरी कम्पनी का जो नया ब्राँच खुला है न इंडिया में, मुझे उसका चार्ज दिया गया है, तो मुझे अगले हफ़्ते इंडिया जाना होगा।

पर उत्कर्ष, अभी कुछ समय पहले ही तो एक महीना वहाँ बिता कर आए हो?

तब मैं वहाँ कम्पनी का नया ऑफ़िस स्थापित करने गया था।

और अब?

अब कंपनी ने इंडिया ट्रांसफर कर दिया है, वहाँ जो नया ऑफिस खुला है, उसे अब कुछ समय के लिए मुझे ही सँभालना है.

धक्का लगा उन्हें! फिर से इंडिया, कितनी मुश्किल से पीछा छुड़ाया था उस देश से उन्होंने… दीनानाथ पाटिल उर्फ़ डैनी ने! लगा जैसे क़िस्मत फिर से उन्हें उसी ओर खींच रही है! डर भी लगा, कहीं उत्कर्ष..

तूने मना क्यों नहीं किया? कहते मेरे पेरेंट्स सीनियर सिटिज़न हैं। उनकी तबियत भी सही नहीं रहती। मैं नहीं जा सकता? Heart Touching Story in Hindi

ये सब बातें नहीं सुनी जाती हैं मल्टीनेशनल कम्पनियों में, डैड। उन्हें बस अपने काम से मतलब होता है।

तो तुम कोई दूसरी नौकरी ढूढ़ लो! तुम्हें तो कोई भी नौकरी मिल जाएगी, इतने हाइली क्वालिफाइड हो।

ये एक चैलेन्ज है डैड, कंपनी को जब इंडिया वाले ब्राँच से प्रॉफ़िट मिलने लगेगा तो मेरा कैरियर ऊँचाइयों पर पहुँच जाएगा। फिर वे मुझे एक एम्प्लॉई से पार्ट्नर भी बना सकते हैं! उत्कर्ष का जवाब सुन वे चुप हो गए।

उत्कर्ष ने डैड को ये नहीं बताया कि उसने स्वयं अपने बॉस से अनुरोध किया था इस पोस्टिंग के लिए।

कुछ ही सप्ताह पूर्व इंडिया के पुणे शहर गया था उत्कर्ष अपनी कम्पनी की शाखा को स्थापित करने के लिए। काम के बीच में पड़े एक वीकएंड में वह अपनी मौसी के यहाँ चला गया था जो मुंबई में रहती थीं।

पुणे में खुल रहा तुम्हारा ऑफ़िस? अरे, वहीं पास में तो तुम्हारा ददिहाल है। क्या नाम था गाँव का, अंबोली... हाँ यही। याद है मुझे अच्छी तरह से। दीदी विदा होकर वहीं तो गई थी।

ये सब जानकारी उत्कर्ष के लिए नयी थी! अपने ददिहाल में वह किसी को नहीं जानता था! अचंभित ही रहता कि डैड के तरफ़ का कोई भी नज़दीकी रिश्तेदार उनके संपर्क में क्यों नहीं है?

मेरे दादाजी का नाम क्या था?

पाटिल …. शंभुनाथ पाटिल। इससे ज़्यादा मैं नहीं जानती।

अगले वीकेंड वह अंबोली पहुँच गया था मन में उठ रहे हज़ार प्रश्नों के उत्तर ढूँढ़ने… वो कहाँ से आया है…. उसकी फ़ैमिली में कौन-कौन है, क्या कोई अपना मिलेगा? आदि!

धड़कते दिल से जब वह गाँव पहुँचा तो एक बुज़ुर्ग से उसने शंभुनाथ पाटिल का घर पूछा। पता तो उन्होंने बता दिया, पर थोड़ा आश्चर्य ज़ाहिर किया, 

कौन हो बेटा? आज तक तो शंभु काका से मिलने शहर से कोई नहीं आया! जब उनके बेटे ने धोखे से उनकी सारी ज़मीन बेच दी व उनसे सारे संबंध तोड़ विदेश चला गया तबसे बेचारे दोनों अकेले ही रहते हैं।

जी मैं उनका दूर का रिश्तेदार हूँ। मन बहुत व्यथित हो उठा था। उसके दादा-दादी ज़िंदा हैं, इतने बरसों से अकेले रह रहे हैं और उसे पता ही नहीं! Heart Touching Emotional Short Story In Hindi

घर की स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी। परंतु जो वृद्ध-द्वय सामने बैठे थे उन्हें देख उसकी आँखों से गंगा-जमुनी धार बह निकली! कृष्काय, शरीर पर एक छटाँक माँस नहीं पर अपना सब कार्य स्वयं करते हुए। क्या यही उसके दादा-दादी हैं?

उनके पाँव छूते हुए जब उसने अपना परिचय दिया तो उनको सम्भाल पाना उसके लिए असंभव हो गया। 

इस मुलाक़ात ने स्वयं उसे भी बहुत अस्थिर कर दिया था परंतु इस वृद्ध दम्पत्ति की हालत को शब्दों में बयान करना उसके लिए नामुमकिन था। जिसका उन्होंने दशकों से सपना देखना भी छोड़ दिया था वो अगर सच बन उनके सामने आ जाए तो दिल की धड़कन तो कुछ पल को रुक ही जाएगी न

जब सोमवार प्रातः वह पुणे लौटने लगा तो दादा-दादी बेतहाशा रोने लगे… उन्हें लग रहा था कि उनके पुत्र की तरह उनका पोता भी अब कभी लौट कर नहीं आएगा। बेटे का तीस वर्षों से इंतज़ार कर रहे बूढ़े माँ-बाप ने अपनी क़िस्मत से समझौता कर लिया था। पर अब.

दादीमाँ, दादाजी मैं आपसे अपनी क़सम खा कर कह रहा हूँ, मैं आपलोगों को छोड़ कर कभी नहीं जाऊँगा। फ़्राइडे शाम को मैं वापस आ जाऊँगा, आप बिलकुल निश्चिंत रहें। नौकरी तो करनी है न!

शायद ये सप्ताह उस दम्पत्ति के जीवन का सबसे लम्बा इंतज़ार रहा होगा पर जब शुक्रवार को उत्कर्ष वापस लौटा तो मानो उनके जान में जान आ गई। दादी का मुस्कुराता चेहरा तो सचमुच में सुंदर लग रहा था!

खून के रिश्ते में कोई बात तो होती है…. वह हमारे हृदय के तारों को झंकृत करने से कभी नहीं चूकती। 

उस सप्ताहंत उत्कर्ष से जितना बन पड़ा उसने दादा-दादी के रिहाइश को बेहतर करने की कोशिश की। ये उसका इंडिया में आख़िरी वीकेंड था, अगले शुक्रवार उसकी वापसी की फ़्लाइट थी पर उसने अपने भविष्य का खाका मन ही मन में तैयार कर लिया था। Heart Touching Emotional Story In Hindi

पूरा एक महीना लगा उसे अपने बॉस को इस बात के लिए मनाने में कि उसका ट्रांसफ़र भारत वाले नव-स्थापित दफ़्तर में कर दे। इसके लिए उसे न सिर्फ़ सफलता का आश्वासन देना पड़ा, वरन पहले से कम वेतन पर काम करने के लिए भी राज़ी होना पड़ा। 

परंतु उसे इन बातों का कोई ग़म न था। उसने निश्चय कर लिया था कि अपने दादाजी व दादी माँ की बची हुई ज़िंदगी में ख़ुशियाँ भरने के लिए वह कुछ भी करेगा। 

जिस पितृ-ऋण को अमरीकी नागरिक बन चुके उसके माता-पिता चुकाने से चूक गए थे, उससे उन्हें उऋण करने का कर्तव्य उनके बेटे का ही तो होगा न।

लेखक : प्रीति आनंद अस्थाना

ALSO READ :

Heart Touching Emotional Short Story In English

dad, meree kampanee ka jo naya braanch khula hai na india mein, mujhe usaka chaarj diya gaya hai, to mujhe agale hafte india jaana hoga. 

par utkarsh, abhee kuchh samay pahale hee to ek maheena vahaan bita kar aaye ho? 

tab main vahaan kampanee ka naya ofis sthaapit karane gaya tha. 

aur ab? 

ab kampanee ne india traansafar kar diya hai, vahaan jo naya office khula hai, use ab kuchh samay ke lie mujhe hee sanbhaalana hai. 

dhakka laga unhen! phir se india, kitanee mushkil se peechha chhudaaya tha us desh se unhonne… 

deenaanaath paatil urf dainee ne! laga jaise qismat phir se unhen usee or kheench rahee hai! dar bhee laga, kaheen utkarsh.. 

toone mana kyon nahin kiya? kahate mere perents seeniyar sitizan hain. unakee tabiyat bhee sahee nahin rahatee. main nahin ja sakata? 

ye sab baaten nahin sunee jaatee hain malteeneshanal kampaniyon mein, daid. unhen bas apane kaam se matalab hota hai. to tum koee doosaree naukaree dhoodh lo! 

tumhen to koee bhee naukaree mil jaegee, itane hailee kvaaliphaid ho. ye ek chailenj hai daid, kampanee ko jab indiya vaale braanch se profit milane lagega to mera kairiyar oonchaiyon par pahunch jaega. 

phir ve mujhe ek emploee se paartnar bhee bana sakate hain! utkarsh ka javaab sun ve chup ho gae. utkarsh ne daid ko ye nahin bataaya ki usane svayan apane bos se anurodh kiya tha is posting ke lie. 

kuchh hee saptaah poorv indiya ke pune shahar gaya tha utkarsh apanee kampanee kee shaakha ko sthaapit karane ke lie. kaam ke beech mein pade ek veekend mein vah apanee mausee ke yahaan chala gaya tha jo mumbee mein rahatee theen. 

pune mein khul raha tumhaara ofis? are, vaheen paas mein to tumhaara dadihaal hai. kya naam tha gaanv ka, 

ambolee... haan yahee. yaad hai mujhe achchhee tarah se. deedee vida hokar vaheen to gaee thee. ye sab jaanakaaree utkarsh ke lie nayee thee! 

apane dadihaal mein vah kisee ko nahin jaanata tha! achambhit hee rahata ki daid ke taraf ka koee bhee nazadeekee rishtedaar unake sampark mein kyon nahin hai? 

mere daadaajee ka naam kya tha? paatil …. shambhunaath paatil. isase zyaada main nahin jaanatee. 

agale veekend vah ambolee pahunch gaya tha man mein uth rahe hazaar prashnon ke uttar dhoondhane… vo kahaan se aaya hai…. usakee faimilee mein kaun-kaun hai, kya koee apana milega? 

aadi! dhadakate dil se jab vah gaanv pahuncha to ek buzurg se usane shambhunaath paatil ka ghar poochha. pata to unhonne bata diya, par thoda aashchary zaahir kiya, kaun ho beta? aaj tak to shambhu kaaka se milane shahar se koee nahin aaya! 

jab unake bete ne dhokhe se unakee saaree zameen bech dee va unase saare sambandh tod videsh chala gaya tabase bechaare donon akele hee rahate hain. jee main unaka door ka rishtedaar hoon. man bahut vyathit ho utha tha. usake daada-daadee zinda hain, 

itane barason se akele rah rahe hain aur use pata hee nahin!  

ghar kee sthiti bahut achchhee nahin thee. parantu jo vrddh-dvay saamane baithe the unhen dekh usakee aankhon se ganga-jamunee dhaar bah nikalee! 

krshkaay, shareer par ek chhataank maans nahin par apana sab kaary svayan karate hue. kya yahee usake daada-daadee hain? 

unake paanv chhoote hue jab usane apana parichay diya to unako sambhaal paana usake lie asambhav ho gaya. 

is mulaaqaat ne svayan use bhee bahut asthir kar diya tha parantu is vrddh dampatti kee haalat ko shabdon mein bayaan karana usake lie naamumakin tha.

 jisaka unhonne dashakon se sapana dekhana bhee chhod diya tha vo agar sach ban unake saamane aa jae to dil kee dhadakan to kuchh pal ko ruk hee jaegee na jab somavaar praatah vah pune lautane laga to daada-daadee betahaasha rone lage… 

unhen lag raha tha ki unake putr kee tarah unaka pota bhee ab kabhee laut kar nahin aaega. 

bete ka tees varshon se intazaar kar rahe boodhe maan-baap ne apanee qismat se samajhauta kar liya tha. 

par ab. daadeemaan, daadaajee main aapase apanee qasam kha kar kah raha hoon, 

main aapalogon ko chhod kar kabhee nahin jaoonga. fraide shaam ko main vaapas aa jaoonga, 

aap bilakul nishchint rahen. naukaree to karanee hai na! shaayad ye saptaah us dampatti ke jeevan ka sabase lamba intazaar raha hoga par jab shukravaar ko utkarsh vaapas lauta to maano unake jaan mein jaan aa gaee. 

daadee ka muskuraata chehara to sachamuch mein sundar lag raha tha! khoon ke rishte mein koee baat to hotee hai…. 

vah hamaare hrday ke taaron ko jhankrt karane se kabhee nahin chookatee. us saptaahant utkarsh se jitana ban pada usane daada-daadee ke rihaish ko behatar karane kee koshish kee. 

ye usaka indiya mein aakhiree veekend tha, agale shukravaar usakee vaapasee kee flait thee par usane apane bhavishy ka khaaka man hee man mein taiyaar kar liya tha. 

 poora ek maheena laga use apane bos ko is baat ke lie manaane mein ki usaka traansafar bhaarat vaale nav-sthaapit daftar mein kar de. isake lie use na sirf saphalata ka aashvaasan dena pada, varan pahale se kam vetan par kaam karane ke lie bhee raazee hona pada. 

parantu use in baaton ka koee gam na tha. usane nishchay kar liya tha ki apane daadaajee va daadee maan kee bachee huee zindagee mein khushiyaan bharane ke lie vah kuchh bhee karega. 

jis pitr-rn ko amareekee naagarik ban chuke usake maata-pita chukaane se chook gae the, usase unhen urn karane ka kartavy unake bete ka hee to hoga na.

Writers: Preeti Anand Asthana

TAGS : Heart Touching Emotional Short Story In Hindi, Heart Touching Story in Hindi

Emotional Story in Hindi - Short Stories in Hindi

No comments:
Write comment