"Best" desh bhakti shayari, desh bhakti quotes hindi,

 
desh bhakti shayari | 2 line
shayari desh bhakti

desh bhakti shayari नमस्कार दोस्तों- कहते हैं जो सच्चे देशभक्त होते हैं वह अपने देश और अपने राष्ट्र निर्माण के लिए कुछ भी करने को तत्पर होते हैं, देशभक्ति मनुष्य के हृदय में जलने वाली वह ईश्वरीय ज्वाला है जो अपने देश और जन्म-भूमि को सबकी तुलना में अधिक प्रेम करने की इच्छा को प्रबल बनाती है
देशभक्ति की भावना ही देश के सभी लोगों को करीब लाती है चाहे वह किसी भी शहर अथवा राज्य का हो। देशभक्ति का मतलब सिर्फ देशभक्त होने का दावा करना या देश के झंडे का भावुकता से जय जयकार करना ही नहीं होता, बल्कि हमारे हृदय में अपने देश की तमाम कमियों को दरकिनार करके इसके प्रति सम्मान, निष्ठा और भक्ति के साथ अपनी मातृभूमि पर विपत्ति के समय बड़े से बड़ा त्याग और बलिदान देना ही सच्ची देशभक्ति होती है। हमारे देश के हजारों लाखों स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने निस्वार्थ अपना बलिदान देकर हमें आजादी दिलाई दोस्तों आज का यह आर्टिकल भी desh bhakti shayari in hindi पर आधारित है, इस आर्टिकल में आपको  independence day shayari, 15 august shayari,fouji shayari, attitude army shayari, indian army shayari photo, desh bhakti status से संबंधित बेहतरीन शायरी और स्टेटस मिलेंगे जिन्हें पढ़कर आपके अंदर देशभक्ति की भावना और भी प्रबल होगी तो चलिए दोस्तों पेश है देशभक्ति शायरी

patriotic shayari
desh bhakti quotes


फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती,
ये वतन की मोहब्बत है जनाब.
पूछ के की नहीं जाती।


लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा।


सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में है,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में है।


अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही,
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही।


देश की हिफाजत मरते दम तक करेंगे
दुश्मन की हर गोली का हम सामना करेंगे
आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें।


क्यूं जाए 'नज्म' ऐसी फ़ज़ा छोड़ कर कहीं,
रहने को जिस के गुलशन-ए-हिन्दोस्तां मिले।


ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है
ना बड़ा सा नाम मेरा है,
मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है
मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है।



ख़ूँ शहीदान-ए-वतन का रंग ला कर ही रहा, 
आज ये जन्नत-निशाँ हिन्दोस्ताँ आज़ाद है।


करीब मुल्क के आओ तो कोई बात बने,
बुझी मशाल को जलाओ तो कोई बात बने,
सूख गया है जो लहू शहीदों का,
उसमें अपना लहू मिलाओ तो कोई बात बने।


जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,
जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं।


desh bhakti status in hindi
image source: www.indiandefencereview.com


किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।


चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा,
यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में।


जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो,
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।


जिसे सींचा लहू से है वो यूँ खो नहीं सकती
सियासत चाह कर विष बीज हरगिज बो नहीं सकती,
वतन के नाम पर जीना वतन के नाम मर जाना
शहादत से बड़ी कोई इबादत हो नहीं सकती।


भरा नही जो भावों से बहती जिसमें रसधार नही,
हृदय नही वह पत्थर हैं, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं।


लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर
भारत का ही नाम होगा सबकी जुबान पर,
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर
कोई जो उठाएगा आँख हिंदुस्तान पर।


नाक़ूस से ग़रज़ है न मतलब अज़ां से है,
मुझ को अगर है इश्क़ तो हिन्दोस्तां से है।

    - ज़फ़र अली ख़ां


दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त,
मेरी मिट्टी से भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा आएगी।


आजादी की कभी शाम नही होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नही होने देंगे,
बची हो जो इक बूँद भी गर्म लहू की
तब तक भारत के आंचल नीलाम नही होने देंगे।


दिलों में हुब्ब-ए-वतन है अगर तो एक रहो,
निखारना ये चमन है अगर तो एक रहो।

     - जाफ़र मलीहाबादी


अगर माटी के पुतले देह में ईमान जिन्दा हैं
तभी इस देश की समृद्धि का अरमान जिन्दा हैं,
ना भाषण से है उम्मीदें ना वादों पर भरोसा हैं
शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिन्दा है।

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari in hindi image


दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं।


वतन के जां-निसार हैं वतन के काम आएंगे,
हम इस ज़मीं को एक रोज़ आसमां बनाएंगे।


भारत बर्ष का राष्टगान बंगा से है
मेरे वतन की शान गंगा से है ,
जो वीर मर मिटे देश की मिट्टी पर
उन शहीदो का अभिमान तिरंगा से है।


चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए,
मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए।


दुख में सुख में हर हालत में भारत दिल का सहारा है,
भारत प्यारा देश हमारा सब देशों से प्यारा है।


तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं।


अलग है भाषा, धरम, जात और प्रान्त, भेष, परिवेश,
पर सबका एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ।


कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,
जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,
हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा।


भारत के ऐ सपूतो हिम्मत दिखाए जाओ,
दुनिया के दिल पे अपना सिक्का बिठाए जाओ।

     - लाल चन्द फ़लक


मन को खुद ही मगन कर लो,
कभी-कभी शहीदों को भी नमन कर लो।


desh bhakti shayari | 2 line
desh bhakti shayari 2021 in hindi




है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,
है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं।


बस ये बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर भी जिसकी हिफाजत की शहीदों ने
उस तिरंगे को सदा दिल में बसायें रखना।


हर मुल्क इस के आगे झुकता है एहतिरामन,
हर मुल्क का है "फ़ादर" हिन्दोस्तां हमारा।

      - शौक़ बहराइची


भारत का वीर जवान हूँ मैं
ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं,
जख्मो से भरा सीना हैं मगर
दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं,
भारत का वीर जवान हूँ मैं।


आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं,
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं।


उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई, 
उनकी शहादत का क़र्ज़ देश पर उधार है, 
आप और हम इस लिए खुशहाल हैं क्योंकि, 
सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं।


और भी खूबसूरत और भी ऊंचा
मेरे देश का नाम हो जाये,
काश कि हर हिंदू विवेकानंद
और हर मुस्लिम कलाम हो जाये।


कुछ नशा तिरंगे की आन का है
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,
हम लहराएंगे हर जगह.
ये तिरंगा नशा ये हिंदुस्तान की शान का है।


लड़ें वो बीर जवानों की तरह,
ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,
मरते-मरते भी की मार गिराए,
तभी तो देश आज़ाद हुआ।


चैन ओ अमन का देश है मेरा, 
इस देश में दंगा रहने दो
लाल हरे में मत बांटो, 
इसे शान ए तिरंगा रहने दो।


गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है,
दिल से तुमको नमन हैं करते
ये आजाद वतन जो दिलाया है।

desh bhakti quotes in punjabi
top desh bhakti shayari


अगर माटी के पुतले देह में ईमान जिन्दा हैं
तभी इस देश की समृद्धि का अरमान जिन्दा हैं,
ना भाषण से है उम्मीदें ना वादों पर भरोसा हैं
शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिन्दा है।


सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ,
दुश्मन की सांसे थम जायें, आवाज में इतनी धमक रखता हूँ। 


आन देश की, शान देश की, इस देश की हम संतान हैं, 
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान है।


वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं।


कोई मंदिर कोई मस्जिद और कोई रब नहीं होता
दरिंदो का अपना कोई मज़हब नहीं होता,
तबाही करने वालों का मज़हब सिर्फ तबाही है
लहू किसका बहा उन्हें कोई मतलब नहीं होता।


लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है
लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है,
बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की
लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है।


भारत की फजाओं को सदा याद रहूँगा,
आजाद था, आजाद हूँ, आजाद रहूँगा।


बच्चे-बचे के दिल में कोई अरमान निकलेगा
किसी के रहीम तो किसी के राम निकलेगा,
मगर उनके दिल को झाँक के देखा जाए
तो उसमें हमारा प्यारा हिंदुस्तान निकलेगा।


देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है,
हम उस देश के फूल हैं यारों
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है।


ये दुनिया एक "दुल्हन"  दुल्हन के माथे पे बिंदिया
 ये मेरा इंडिया I Love My India


मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिये
बस अमन से भरा यह वतन चाहिये,
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये।


shayari desh bhakti
desh bhakti shayari in hindi with image



इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना।


गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।


सरहद तुम्हें पुकारे तुम्हें आना ही होगा
कर्ज अपनी मिट्टी का चुकाना ही होगा,
दे करके कुर्बानी अपने जिस्मो-जां की
तुम्हे मिटना भी होगा मिटाना भी होगा।


खून से खेलेंगे होली, अगर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है।


सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा
हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा,
परबत वो सबसे ऊँचा
हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा।


ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये।


मैं भारतवर्ष का हरदम सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है।


जो देश के लिए शहीद हुए
उनको मेरा सलाम है,
अपने खूं से जिस जमीं को सींचा
उन बहादुरों को सलाम है।


कतरा – कतरा भी दिया वतन के वास्ते 
एक बूँद तक ना बचाई इस तन के वास्ते ,
यूं तो मरते है लाखो लोग हर रोज़ 
पर मरना तो वो है, जो जान जाये वतन के वास्ते।


ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता।


देश के लिए प्यार है तो जताया करो
किसी का इन्तजार मत करो,
गर्व से बोलो जय हिन्द
अभिमान से कहो भारतीय है हम।

shayari desh bhakti
indian army shayari photo


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा।


आओ झुक कर करें सलाम उन्हें
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
कितने खुशनसीब हैं वो लोग
जिनका खून वतन के काम आता हैं।


एक दिया उनके भी नाम का
रख लो पूजा की थाली में,
जिनकी सासें थम गई हैं
भारत माँ की रखवाली में।


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा।


आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे।


इश्क तो करता है हर कोई
महबूब पे तो मरता है हर कोई,
कभी वतन को महबूब बना के देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई।


हम अमन चाहते हैं मगर ज़ुल्म के ख़िलाफ़,
गर जंग लाज़मी है तो फिर जंग ही सही।

     - साहिर लुधियानवी


कभी सनम को छोड़ के देख लेना 
कभी शहीदों को याद करके देख लेना,
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो 
देश से कभी इश्क करके देख लेना।


सुन्दर है जग में सबसे, नाम भी सबसे न्यारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है,
जहाँ जाति भाषा से बढ़कर देशप्रेम की धारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है।


जिंदगी जब तुझको समझा, मौत फिर क्या चीज है, 
ऐ वतन तू हीं बता, तुझसे बड़ी क्या चीज है।


सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ,
दुश्मन की सांसे थम जायें, आवाज में इतनी धमक रखता हूँ।


उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है,
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि
सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है।


सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा,
हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसिताँ हमारा।

    - अल्लामा इक़बाल


देश के लिए मर मिटना कुबूल है हमें,
अखंड भारत के सपने का जूनून है हमें।


उड़ जाती है नींद ये सोचकर
कि सरहद पे दी गयीं वो कुर्बानियां
मेरी नींद के लिए थीं।


जिंदगी जब तुझको समझा, मौत फिर क्या चीज है, 
ऐ वतन तू हीं बता, तुझसे बड़ी क्या चीज है।


कभी सनम को छोड़ के देख लेना 
कभी शहीदों को याद करके देख लेना,
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो 
देश से कभी इश्क करके देख लेना।


जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं 
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं, 
देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं


दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त,
मेरी मिट्टी से भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा आएगी।


मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है, 
देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है।


लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है,
उछल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी।

    - फ़िराक़ गोरखपुरी

चलते चलते 


दोस्तों- आज के इस पोस्ट में हमने कुछ चुनिंदा देश भक्ति शायरी पढ़ीं, और हमारा यह प्रयास होना चाहिए कि हम लोगों के हृदय में देशभक्ति की भावना जागृत करें और देश के बच्चों और युवाओं को देश का सम्मान एक दूसरे से प्रेम व जुड़ाव महसूस करा कर देश को एक मजबूत  और शक्तिशाली राष्ट्र के निर्माण की दिशा में कार्य करें


www.technofriendajay.in पर विजिट करने के लिए आपका ~ धन्यवाद ~ जय हिंद ~ वंदे मातरम ~ भारत माता की जय ~ 


Post a Comment

5 Comments

  1. Very nice shayari collection bro. Bharat mata ki Jay, Jay Hind

    ReplyDelete
  2. Deshbhakti shayari ka bahut umda collection, jai hind

    ReplyDelete
  3. Bhai aapne deshbhakti ki jo paribhaasha batai hai wo super hai
    Sabhi ke dil me deshbhakti ki bhawana honi chahiye

    ReplyDelete
  4. Vandematram. Jay hind, jay bharat

    ReplyDelete