Sunday, May 1, 2022

वेश्याओं पर कविता, चरित्रहीन औरत | Hindi Prostitution Poem, Best prostitute kavita poem

Hindi Prostitution Poem, Best prostitute kavita poem
Best prostitute kavita poem


Best prostitute kavita poem / Poem on prostitute hindi, poetry heart touching poem


मैने माँ देखी,,, बेटी देखी,,,

बहन देखी,,, बीबी देखी,,,

प्रेमिका देखी....

और अब मै तलाश रहा हूँ... 

एक चरित्रहीन औरत 

पर मै हैरान...हूँ... 

वो मुझे आज तक मिली नही.. 

ऐसा भी नहीं है कि 

मैने उसे सही से तलाशा नही.. 

मै गया था .....

वहां..जिस ओर ...

धर्म_दर्शन_जाति और समाज 

इशारा करते हैं .....

मै उन तमाम .....

औरतों के पास भी गया..!!

जो देह को लेकर 

बाजार सजाती है ..!!

जो क्लबो मे अर्धनग्न हो.. 

नाचती गाती है...!!

जो हर रोज वासना के 

नये नये किरदार पुरुषों के

 इशाऱों पर निभाती है..!!

मैने वो तमाम औरते देखी... 

पर मै हैरान हूँ.. !!

उनमें कही भी....

वो चरित्रहीन औरत नही दिखी है....

मै हैरान हुआ यह सब देखकर कि

कैसे लोग इन्हें चरीञहिन कहते है,,,

हम एक तरफ कहते है औरत और मर्द ने 

कंधे से कंधा मिलाकर जीना चाहिए,, 

और दुसरी तरफ हम ही लोग 

औरत को इस तरह का दर्जा देते हैं,,,

क्या यह उचित है,,

औरत को अपने मन सा जीने का कोई अधिकार नही,,

क्या उसका किसी और से प्यार करना गुनाह है,,

क्या किसीके साथ सपने देखना,,,

खुश रहना,,

अपनी मर्जी से खुशीयाँ चुनने का अधिकार नही है,,,

मै कहता हूँ,,, है.... 

यह उनका संविधान से मिला #हक है,,, 

अधिकार है....

जिसे हम जैसे पुरुष जो खुद को 

समाज के ठेकेदार कहते है 

इन्हें औरत को वो हक अदा करने में शर्म आती है 

क्योंकी सदीयों से यह लोग 

औरत को पैर की जुती समजते है,,,

मुझे एक बात बताओ 

जो औरत क्लब में अर्धनग्न होकर नाचती है,,

वेश्या बनकर देह बेचती है,, 

क्या वह अपनी खुशी से यह सब करती है,,, नहीँ.....

पर हां ... एैसी हर औरत के पीछे 

एक पुरुष जरूर छिपा होता है.. 

जो रिश्तेदार बनकर,, 

आशिक बनकर,,

 पती बनकर,,

मिठी मिठी बातों में बहेला फुसलाकर 

कायर.. कामुक.. वासना की कीचड मे.. 

सर से पांव तक सना..!! 

जो अपनी शरीर की प्यास बुझाने,,,

चंद पैसो के खातिर औरत का

विश्वास चकनाचुर कर उसे एैसे 

दलदल में डाल देता है....

हाँ....शायद यही है....वो..

पहला चरीञहिन_पुरुष

जिस ने शराफत के चोले में 

अपनी चरिञहिनता छुपाकर,,

जिसने सबसे पहले 

अपना सारा दोष औरत पर डालकर 

औरत को चरित्रहीन कहा .

और औरत आजतक इन शब्दों से 

खुद को उभार ना पाई है और

 घुट घुट कर जीते हुए

अपने हक के लिये लड नही पाती है,

और इन्ही पुरुषों के खातिर

अपने मन को मारकर 

आखिर तक सिर्फ देह लेकर जीती है..

ALSO READ :

Hindi Prostitution Poem, Best prostitute kavita poem

maine maa dekhi,,, beti dekhi,,, 

bahan dekhi,,, bibi dekhi,,, 

premika dekhi.... 

aur ab mai talaash raha hoon... 

ek charitrheen aurat 

par mai hairaan...hoon... 

vo mujhe aaj tak mili nahi.. 

aisa bhi nahin hai ki 

maine use sahi se talaasha nahi.. 

mai gaya tha ..... 

vahan..jis or ... 

dharm darshan jaati aur samaaj 

ishaara karate hain ..... 

mai un tamaam ..... 

auraton ke paas bhi gaya..!! 

jo deh ko lekar baajar sajaati hai ..!! 

jo clubo me ardhanagn ho.. 

naachati gaati hai...!! 

jo har roj vaasana ke 

naye naye kiradaar purushon ke 

ishaaron par nibhaati hai..!! 

maine vo tamaam aurate dekhi... 

par mai hairaan hoon.. !! 

unamen kahi bhi.... 

vo charitraheen aurat nahi dikhi hai.... 

mai hairaan hua yah sab dekhakar ki 

kaise log inhen chareenahin kahate hai,,, 

ham ek taraf kahate hai aurat aur mard ne 

kandhe se kandha milaakar jeena chaahiye,, 

aur dusari taraf ham hi log 

aurat ko is tarah ka darja dete hain,,, 

kya yah uchit hai,, 

aurat ko apane man sa jeene ka koi adhikaar nahee,, 

kya usaka kisi aur se pyaar karana gunaah hai,, 

kya kisi ke saath sapane dekhana,,, 

khush rahana,, 

apani marji se khushiyaan chunane ka adhikaar nahi hai,,, 

mai kahata hoon,,, hai.... 

yah unaka sanvidhaan se mila hak hai,,, 

adhikaar hai.... 

jise ham jaise purush jo khud ko 

samaaj ke thekedaar kahate hai 

inhin aurat ko vo hak ada karane mein sharm aati hai 

kyonki sadiyon se 

yah log aurat ko pair ki juti samajate hai,,, 

mujhe ek baat batao 

jo aurat club mein ardhanagn hokar naachatee hai,, 

veshya banakar deh bechati hai,, 

kya vah apani khushi se yah sab karatee hai,,, 

naheen..... 

par haan ... 

aisi har aurat ke peechhe 

ek purush jaroor chhipa hota hai.. 

jo rishtedaar banakar,, 

aashik banakar,, 

pati banakar,, 

mithi mithi baaton mein 

bahela fusalakar kaayar.. 

kaamuk.. vaasana ki keechad me.. 

sar se paanv tak sana..!! 

jo apani sharir ki pyaas bujhaane,,, 

chand paiso ke khaatir aurat ka 

vishvaas chaknaachur kar use aise 

daladal mein daal deta hai.... 

haan....shayad yahi hai....vo.. 

pahla chareenahin purush 

jis ne sharaafat ke chole mein 

apani charinahinata chhupaakar,, 

jisane sabase pahale 

apana saara dosh aurat par daalakar 

aurat ko charitraheen kaha . 

aur aurat aajatak in shabdon se 

khud ko ubhaar na pai hai 

aur ghut ghut kar jeete huye 

apane hak ke liye lad nahi paati hai, 

aur inhi purushon ke khaatir 

apane man ko maarakar 

aakhir tak sirf deh lekar jeeti hai..



TAGS: वेश्याओं की जिंदगी पर कविता, Poem on prostitute hindi, poetry heart touching poem, Best prostitute kavita poem, वेश्याओं पर कविता | Hindi Prostitution Poem, Best prostitute kavita poem 

No comments:
Write comment