Sunday, May 1, 2022

लड़कियों पर कविता | Poem on Girl in Hindi | Beti Ladki Par Kavita Hindi

Poem on Girl in Hindi,
Beti Ladki Par Kavita


Poem on Girl in Hindi | Beti Ladki Par Kavita Hindi

देह मेरी, हल्दी तुम्हारे नाम की..

हथेली मेरी, मेहंदी तुम्हारे नाम की..

सिर मेरा, चुनरी तुम्हारे नाम की...

मांग मेरी, सिन्दूर तुम्हारे नाम का..

माथा मेरा, बिंदिया तुम्हारे नाम की...

नाक मेरी, नथनी तुम्हारे नाम की,

गला मेरा, मंगलसूत्र तुम्हारे नाम का,

कलाई मेरी, चूड़ियाँ तुम्हारे नाम की,

पाँव मेरे, महावर तुम्हारे नाम की,

उंगलियाँ मेरी, बिछुए तुम्हारे नाम के,

बड़ों की चरण-वंदना मै करूँ, 

और ‘सदा-सुहागन’ का आशीष तुम्हारे नाम का,

और तो और – करवाचौथ, 

बड़मावस के व्रत भी तुम्हारे नाम के,

यहाँ तक कि कोख मेरी, खून मेरा, दूध मेरा, 

और बच्चा ? बच्चा तुम्हारे नाम का,

घर के दरवाज़े पर लगी ‘नेम-प्लेट’ तुम्हारे नाम की,

और तो और – मेरे अपने नाम के..

सम्मुख लिखा गोत्र भी मेरा नहीं, तुम्हारे नाम का,

सब कुछ तो तुम्हारे नाम का…

आखिर तुम्हारे पास… क्या है मेरे नाम का?

एक लड़की ससुराल चली गई,

कल की लड़की आज बहु बन गई,

कल तक मौज करती लड़की,

अब ससुराल की सेवा करना सीख गई,

कल तक तो टीशर्ट और जीन्स पहनती लड़की,

आज साड़ी पहनना सीख गई,

पिहर में जैसे बहती नदी,

आज ससुराल की नीर बन गई,

रोज मजे से पैसे खर्च करती लड़की,

आज साग-सब्जी का भाव करना सीख गई.

कल तक FULL SPEED स्कुटी चलाती लड़की,

आज BIKE के पीछे बैठना सीख गई,

कल तक तो तीन वक्त पूरा खाना खाती लड़की,

आज ससुराल में तीन वक्त

का खाना बनाना सीख गई,

हमेशा जिद करती लड़की,

आज पति को पूछना सीख गई,

कल तक तो मम्मी से काम करवाती लड़की,

आज सासुमां के काम करना सीख गई,

कल तक भाई-बहन के साथ झगड़ा करती लड़की,

आज ननद का मान करना सीख गई.

कल तक तो भाभी के साथ मजाक करती लड़की,

आज जेठानी का आदर करना सीख गई,

पिता की आँख का पानी, ससुर के ग्लास का पानी बन गई.

फिर लोग कहते हैं कि बेटी ससुराल जाना सीख गई,,,,,


(यह बलिदान केवल लड़की ही कर सकती है,

इसिलिए हमेशा लड़की की झोली वात्सल्य से भरी रखना…)

बात निकली है तो दूर तक जानी चाहिये!!!

लड़कियो को सम्मान दे!

Salute to all girls….

ALSO READ :

लड़कियों पर कविता | Poem on Girl in Hindi | Beti Par Kavita

deh meri, haldi tumhaare naam ki.. 

hatheli meri, mehandi tumhaare naam ki.. 

sir mera, chunari tumhaare naam ki... 

maang meri, sindoor tumhaare naam ka..

 maatha mera, bindiya tumhaare naam ki... 

naak meri, nathani tumhaare naam ki, 

gala mera, mangalsootr tumhaare naam ka, 

kalai meri, choodiyaan tumhaare naam ki, 

paanv mere, mahaavar tumhaare naam ki,

 ungaliyaan meri, bichhue tumhaare naam ke, 

badon ki charan-vandana mai karoon, 

aur ‘sada-suhaagan’ ka aasheesh tumhaare naam ka, 

aur to aur – karavachauth, 

badmaavas ke vrat bhi tumhaare naam ke, 

yahaan tak ki kokh meri, khoon mera, 

doodh mera, aur bachcha ? bachcha tumhaare naam ka, 

ghar ke darwaaze par lagi ‘nem-plate’ tumhaare naam ki, 

aur to aur – mere apane naam ke.. 

sammukh likha gotr bhi mera nahin, tumhaare naam ka, 

sab kuchh to tumhaare naam ka… 

aakhir tumhaare paas… kya hai mere naam ka? 

ek ladki sasuraal chali gai, 

kal ki ladki aaj bahu ban gai, 

kal tak maoj karati ladki, 

ab sasuraal ki seva karana seekh gai, 

kal tak to t-shirt aur jeans pahanati ladki

aaj sari pahnana seekh gai, 

pihar mein jaise bahati nadi, 

aaj sasuraal ki neer ban gai, 

roj maje se paise kharch karati ladaki, 

aaj saag-sabji ka bhaav karana seekh gai. 

kal tak FULL SPEED scooty chalaati ladaki, 

aaj BIKE ke peechhe baithana seekh gai, 

kal tak to teen vakt poora khaana khaati ladaki, 

aaj sasuraal mein teen vakt ka khaana banaana seekh gai, 

hamesha jid karati ladki

aaj pati ko poochhana seekh gai, 

kal tak to mammy se kaam karvaati ladki, 

aaj saasu maa ke kaam karana seekh gai, 

kal tak bhai-bahan ke saath jhagada karati ladki

aaj nanad ka maan karana seekh gai. 

kal tak to bhabhi ke saath majaak karati ladki, 

aaj jethaani ka aadar karana seekh gai, 

pita ki aankh ka paani, 

sasur ke glaas ka paani ban gai. 

phir log kahate hain ki beti sasuraal jaana seekh gai,,,,,


TAGS: लड़कियों पर कविता | Poem on Girl in Hindi, Beti Ladki Par Kavita in Hindi, Poem on Daughter in Hindi, Beti Par Kavita

No comments:
Write comment