Thursday, April 14, 2022

विवाहित स्त्रियाँ जब होती हैं प्रेम में, हिंदी प्रेम कविता - Prem Kavita, poem in Hindi

prem ki kavita in hindi, हिंदी प्रेम कविता - Prem Kavita,
Prem Kavita

हिंदी प्रेम कविता , Prem Kavita, poem

विवाहित स्त्रियाँ जब होती हैं प्रेम में

तो उतनी ही प्रेम में होती हैं.. 

जितनी होती हैं कुँवारी लड़कियां

प्रेम कुँवारेपन और विवाह को नहीं जानता

केवल मन के दर्पण को देखता

मन के राग को सुनता है...

विवाहित स्त्रियाँ भी समाज से डरते हुए

करती जाती हैं प्रेम...

किसी अमर बेल की तरह

क्योंकि प्रेम के बीज बोये नहीं जाते

वे स्वत ही हृदय की नम सतह पाकर

कभी भी कहीं भी किसी क्षण

प्रेम बनकर अंकुरित हो उठते हैं

प्रेम में हो जाती हैं वे भी...

सोलह सत्रह बरस की कोई नयी सी उमंग

ललक उठता है उनका भी मन

प्रेमी की एक झलक पाने को....

दैहिक लालसा से परे होता है उसका प्रेम

वे आलिंगन के स्पर्श से ही मात्र

आत्मा के सुख में प्रवेश कर जाती है

वे भी बिसरा देती है अपना हर एक दुख

प्रेमी की आँखों में डूबकर...

उसकी हर आहट से हो जाती है वो मीरा

तार तार बज उठता है उसके मन का संगीत

प्रेमी की एक आवाज से

सोलहवें सावन सा मचल उठता है

भावनाओं का बादल

खिल उठती है वह पलाश के चटक रंगों की तरह

लहरा उठती है उसकी खुशियां...

बसंत के पीले फूलों की फसलों की तरह

नहीं चाहतीं वह अपने प्रेम पर

समाज का कोई भी लांछन...

नहीं चाहती कोई कुल्टा कहकर

उसके प्रेम का करे अपमान

बनी रहना चाहती है अपने बच्चों सबसे अच्छी माँ

और पति की कर्तव्यनिष्ठ पत्नी

वह विवाह के सामाजिक बंधनों के दायित्वों से

नहीं फेरना चाहती अपने कदम

वह बनी रहना चाहती है...

अपनी इच्छाओं के समर्पण से एक सुंदर मन की स्त्री

जैसे बनी रहना चाहती है कुँवारी लड़कियाँ

अपने भाई की लाडली बहन

और माँ बाप की समझदार बेटी

अपने प्रेमी की होने के सपनों के साथ

विवाहित स्त्रियाँ भी अपने प्रेमी का हर दुख

अपने आँचल में छुपा लेना चाहती है

अपनी हर प्रार्थना में करती हैं....

उनके सुख की कामना के लिए आचमन

परन्तु कुँवारी प्रेमिकाओं की तरह

उसके सपनों की कोई मंजिल नहीं होती

वह अपने सपनों में जीना चाहती है

अपने प्रेमी के साथ एक पूरा जीवन

गाड़ी के दो पहिए की तरह चलता है

उसका प्रेम और उसकी गृहस्थी...

रात के बैराग्य मठ पर नितांत अकेले

वे पति की पीठ पर देखती हैं प्रेमी का चेहरा

पाना चाहती है प्रेमी की भावनाओं में

अपनेपन की छाँव और जीवन की विषमताओं में

उसकी सरलता का साथ।..

कुँवारी लड़कियाँ प्रेमी के संग

बंधना चाहती है परिणय सूत्र में

जबकि विवाहिता स्त्रियाँ प्रेमी को नहीं चाहती खोना

बंध जाना चाहती है विश्वास के अटूट बंधन में

वे विवाहिता होने की ग्लानि में...

प्रेम की आहूति नहीं देती...

बल्कि संसार की सारी प्रेमिकाओं की तरह

अपने प्रेमी को मन प्राण से करती जाती है प्रेम।

ALSO READ :

prem, pyar ki poem, kavita in hindi, प्रेम, प्यार पर कविता

vivahit striyaan jab hoti hain prem mein 

to utani hi prem mein hoti hain. 

jitani hoti hain kunvari ladakiyaan 

prem kunvaarepan aur vivah ko nahin jaanata 

keval man ke darpan ko dekhata 

man ke raag ko sunata hai 

vivaahit striyaan bhi samaaj se darate huye 

karati jaati hain prem 

kisi amar bel ki tarah 

kyonki prem ke beej boye nahin jaate 

ve svath hi hriday ki nam satah paakar

 kabhi bhi kaheen bhi kisi kshan 

prem banakar ankurit ho uthate hain 

prem mein ho jaati hain ve bhi 

solah satrah baras ki koi nayi si umang 

lalak uthata hai unaka bhi man 

premi ki ek jhalak paane ko 

daihik laalasa se pare hota hai usaka prem 

ve aalingan ke sparsh se hi maatr 

aatma ke sukh mein pravesh kar jaati hai 

ve bhi bisara deti hai apana har ek dukh 

premi ki aankhon mein doobakar 

usaki har aahat se ho jaati hai vo meera 

taar taar baj uthata hai usake man ka sangeet 

premi ki ek aawaj se 

solahaven saavan sa machal uthata hai 

bhaavanaon ka baadal 

khil uthati hai vah palaash ke chatak rangon ki tarah 

lahara uthati hai usaki khushiyaan 

basant ke peele phoolon ki fasalon ki tarah 

nahin chaahateen vah apane prem par 

samaaj ka koi bhi laanchhan 

nahin chaahati koi kulta kahakar 

usake prem ka kare apamaan 

bani rahana chaahati hai apane bachchon sabase achchhi maa 

aur pati ki kartavyanishth patni 

vah vivaah ke saamaajik bandhanon ke daayitvon se 

nahin ferana chaahati apane kadam 

vah bani rahana chaahati hai 

apani ichchhaon ke samarpan se ek sundar man ki stri 

jaise bani rahana chaahati hai kunvaari ladakiyaan 

apane bhai ki laadali bahan 

aur maa baap ki samajhadaar beti 

apane premi ki hone ke sapanon ke saath 

vivaahit striyaan bhi apane premi ka har dukh 

apane aanchal mein chhupa lena chaahati hai 

apani har praarthana mein karati hain 

unake sukh ki kaamana ke liye aachaman

 parantu kunvaari premikaon ki tarah 

usake sapanon ki koi manjil nahin hoti 

vah apane sapanon mein jeena chaahati hai 

apane premi ke saath ek poora jeevan 

gaadi ke do pahiye ki tarah chalata hai 

usaka prem aur usaki grhasthi 

raat ke bairaagy math par nitaant akele 

ve pati ki peeth par dekhati hain premi ka chehara 

paana chaahati hai premi ki bhaavanaon mein 

apanepan ki chhaanv aur jeevan ki vishamataon mein 

usaki saralata ka saath. 

kunvaari ladakiyaan premi ke sang 

bandhana chaahati hai parinay sootr mein 

jabaki vivaahita striyaan premi ko nahin chaahati khona 

bandh jaana chaahati hai vishvaas ke atoot bandhan mein 

ve vivahita hone ki glaani mein 

prem ki aahooti nahin deti 

balki sansar ki saari premikaon ki tarah 

apane premi ko man praan se karati jaati hai prem.


TAGS:  prem ki kavita in hindi, हिंदी प्रेम कविता - Prem Kavita, shadi ke baad ka pyaar kavita, best hindi kavita, प्रेम, प्यार पर कविता

No comments:
Write comment