Monday, January 10, 2022

कहानी - जो है उसी में खुश रहना सीखो | moral story in hindi | small story in hindi

hindi short stories
small story in hindi


short story in hindi with moral एक महात्मा के पास एक युवक अपनी समस्या का उपाय पूछने गया, उसने महात्मा से कहा की 'हे महात्मा' - मैं अपना विवाह इस नगर की सबसे योग्य लड़की के साथ करना चाहता हूं, परंतु 'हे महात्मा' - मुझे अनेक लड़कीयों को देखने के बाद भी, अब तक मुझे सबसे योग्य लड़की नहीं मिली। 

अब आप ही बताइए कि मैं सबसे योग्य लड़की को कैसे खोजूं। उस युवक की बात सुनने के पश्चात महात्मा उसे एक फूलों के बगीचे में लेकर गए - और उससे बोले की जाओ और इस बगीचे के सबसे सुंदर फूल को तोड़ कर मुझे लाकर दो... 

लेकिन एक शर्त है तुम जिस फूल को एक बार देख कर आगे बढ़ जाओगे, उसे दोबारा वापस मुड़कर नहीं तोड़ सकते। इसके बाद वह युवक सबसे सुंदर फूल ढूंढने के लिए उस बगीचे में प्रवेश करता है। 

कुछ समय उपरांत ही वह युवक खाली हाथ महात्मा के पास वापस लौटा.. महात्मा ने कहा - कि क्या हुआ बेटा तुम्हें इस पूरे बगीचे में एक भी सुंदर फूल नहीं मिला क्या? उस युवक ने कहा 'हे महात्मा' - में सबसे सुंदर फूल को खोजने जब बाग में गया, तो मुझे अनेक सुंदर फूल दिखे 

परंतु मैं यह सोचकर आगे बढ़ता रहा कि क्या पता आगे इस से भी सुंदर फूल हो.. परंतु अंत में मुझे सिर्फ मुरझाए फूल ही मिले 
 
कहानी से शिक्षा / moral of the story
उस युवक की बात सुनकर महात्मा बोले बेटा मनुष्य का जीवन भी इसी तरह है, यदि तुम सबसे सुंदर और सबसे अच्छे की खोज में फिरोगे तो.. "जो आप पा सकते हो उसे भी गवा दोगे" इसलिए जो आपके पास है, और जो मिल सकता है.. उसी में संतोष करना सीखो, उसी में खुश रहना सीखो... 
यही तुम्हारे "समस्या का समाधान है"। moral story in hindi short

moral story in English


short story in English with moral ek mahaatma ke paas ek yuvak apani samasya ka upaay puchhane gaya, usane mahaatma se kaha ki he mahaatma - main apana vivah is nagar ki sabase yogy ladaki ke saath karana chahata hoon, parantu he mahaatma - mujhe anek ladakiyon ko dekhane ke baad bhi, ab tak mujhe sabase yogy ladaki nahin mili. 

ab aap hi bataie ki main sabase yogy ladaki ko kaise khojun. us yuvak ki baat sunane ke pashchaat mahaatma use ek phoolon ke bageeche mein lekar gaye - aur usase bole ki jao aur is bageeche ke sabase sundar phool ko tod kar mujhe laakar do... 

lekin ek shart hai tum jis phool ko ek baar dekh kar aage badh jaoge, use dobaara vaapas mudakar nahin tod sakate. isake baad vah yuvak sabase sundar phool dhundhane ke liye us bageeche mein pravesh karata hai. 

kuchh samay uparaant hi vah yuvak khali haath mahaatma ke paas wapas lauta.. mahaatma ne kaha - ki kya hua beta tumhen is poore bageeche mein ek bhi sundar phool nahin mila kya? us yuvak ne kaha he mahaatma - mein sabase sundar phool ko khojane jab baag mein gaya, to mujhe anek sundar phool dikhe 

parantu main yah sochakar aage badhata raha ki kya pata aage is se bhi sundar phool ho.. parantu ant mein mujhe sirf murajhaye phool hi mile 

kahaanee se shiksha / moral of tha story 

us yuvak ki baat sunakar mahaatma bole beta manushy ka jeevan bhi isi tarah hai, yadi tum sabase sundar aur sabase achchhe ki khoj mein phiroge to.. "jo aap pa sakate ho use bhi gavan doge" isaliye jo aapake paas hai, aur jo mil sakata hai.. usi mein santosh karana seekho, usee mein khush rahana seekho... yahi tumhaare "samasya ka samadhan hai". moral story in English short

No comments:
Write comment