GPS क्या है और यह कैसे काम करता है

gps full form aur jankari
gps full form and meaning

 नमस्कार दोस्तों- अपने GPS के बारे में तो जरूर सुना होगा, और अगर आप Smartphone user हैं तो जीपीएस का उपयोग भी करते होंगे

यह एक ऐसी Technology है, जिसके जरिए हम किसी की Location जान सकते हैं। और आज के इस Post में हम जीपीएस के बारे में जानेंगे कि, GPS kya hai, GPS ka full form kya hai, और GPS kaise kaam karta hai

जीपीएस का फुल फॉर्म क्या है (What is the full form of GPS)


 जीपीएस का अर्थ (Global Positioning System)ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। और यह System आजकल हर smartphone में होता है।

जिसका उपयोग कोई भी बहुत आसानी से कर सकता है, और इसे सबसे ज्यादा रास्ता ढूंढने के लिए Use किया जाता है।

 जीपीएस क्या है (What is gps)


 GPS (Global Positioning System) Satellite के जरिए काम करता है, यह एक उपग्रह आधारित Radio navigation system है।

पहली बार इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल United state अमेरिका की सेना ने किया था GPS को navigation satellite timing and ranging (NAVSTAR) के नाम से भी जाना जाता है।

जीपीएस का इतिहास (History of GPS)


जीपीएस की शुरुआत पहले विश्वयुद्ध (Cold war) के समय हुई, जब दुनिया दो हिस्सों में बट गई थी जिसमें एक यूनाइटेड स्टेट अमेरिका था और दूसरा सोवियत संघ था।

इसी समय 1973 में GPS को यूनाइटेड स्टेट के डिफेंस के तरफ से Launch किया गया।

इसे भी पढ़ें ➤ कंप्यूटर क्या है,कंप्यूटर की सामान्य जानकारी

 जीपीएस काम कैसे करता है (How does GPS work)


 जीपीएस लगभग 30 Satellite का एक ऐसा Network है, जो धरती की सतह से लगभग 20000 किलोमीटर ऊपर तैनात है

यह सेटेलाइट निर्धारित समय के बाद अपनी position और current time की जानकारी के Signal transmits करते रहते हैं

एक Gps receiver कई सेटेलाइट से प्रसारण को जोड़कर 3 उपग्रह के जरिए त्रिकोणासन प्रक्रिया का इस्तेमाल करके इसकी सही Location की जानकारी प्राप्त करता है लेकिन सटीक लोकेशन के लिए 4 उपग्रहों का connection ज्यादा बेहतर होता है

GPS का उपयोग US आर्मी  Navigation के लिए इस्तेमाल करती थी। लेकिन समय के साथ Technology विकसित होती गई,

और आज के समय में कोई भी smartphone अथवा GPS device के जरिए Radio signal receive कर सकता है।

GPS के प्रकार (Types of gps)


Mobile GPS मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, assisted GPS, simultaneous GPS

1. असिस्टेड जीपीएस (assisted GPS)

Signal week होने पर उसे बढ़ाने और Assistant gps position को Lock करने में Receiver की सहायता करता है।

2.simultaneous GPS

इस तरह के जीपीएस का प्रयोग एक Network carrier के Satellite reporting को Improve करने के लिए किया जाता है।

simultaneous जीपीएस  के जरिए ही Network provider लोकेशन Service दे पाते हैं,क्योंकि इससे GPS और Voice data मोबाइल को एक साथ मिलते हैं।

GPS का इस्तेमाल (Use GPS)


इसका उपयोग बहुत ही आसान है क्योंकि आजकल लगभग हर smartphone में जीपीएस होता है, इसके लिए आपको अपने स्मार्टफोन में जाकर GPS को On करना होता है।

Google map और अन्य कई App के जरिए इसका उपयोग कर सकते हैं।,

GPS का उपयोग मुख्यतः Location tracking, Navigation, Timing और tracking के लिए किया जाता है।

इसे भी पढ़ें ➤ डिजिटल इंडिया क्या है, और इसका क्या उद्देश्य है

आज के इस पोस्ट में हमने GPS ki jankari के बारे में जाना, अगर आपको यह Post पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों से भी share करें, अगर आप कुछ पूछना चाहते हैं तो Comment के माध्यम से पूछ सकते हैं 

हमारे Blog पर Visit करने के लिए आपका धन्यवाद~ जय हिंद~ वंदे मातरम~ भारत माता की जय।।। 


Post a Comment

0 Comments