Saturday, May 18, 2024

समोसे कि कहानी - Viral Samosa Story In Hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके लिए समोसे कि कहानी - Viral Samosa Story In Hindi, चटपटे समोसे की अटपटी कहानी लेकर आये हैं जो आपको जरुर पसंद आएगी तो आइये बिना देरी के इस कहानी कि शुरुवात करते हैं 

Viral Samosa Story In Hindi
चटपटे समोसे की अटपटी कहानी

समोसे कि कहानी - Viral Samosa Story In Hindi

चटपटे समोसे की अटपटी कहानी: ब्रह्माण्ड के किसी भी हलवाई की दुकान पर दो चीजें होना जरूरी है वर्ना वह दूकान हलवाई की दूकान नहीं कहलाती....

पहला तो हलवाई खुद और दूसरा समोसा !

संसार की एकमात्र ऐसी रचना जिसके तीन कोने होने के बावजूद भी शान से सीना तान कर खड़ा हो जाता है ....

.हलवाई की दुकान पर जब समोसे भर कर रखे जाते है तो तले जाने से पहले पूरी समोसा मंडली पंक्तिबद्ध रूप से यूँ ट्रे में खड़े दिखती हैं मानो सफ़ेद वर्दी पहने जवान सावधान की मुद्रा में खड़े होकर गार्ड ऑफ़ ऑनर दे रहे हों।

अपने इसी शाही अन्दाज़ के कारण सैकड़ों वर्षों से समोसा स्नैक फ़ूड का अघोषित सम्राट है और अपनी दो महारानियों यानी कि हरी चटनी और लाल चटनी के साथ फूडीयों के दिलों में राज करता है।

अमीर-गरीब में फर्क नहीं करता.....एयरपोर्ट लाउंज की फैंसी लुटेरी कॉफ़ी शॉप में "टू समोसास फॉर टू हंड्रेड फिफ्टी रूपीज़" में भी मिलता है और डाकखाने के सामने टीन के पतरे को लोहे की तार के साथ बिजली के पुराने खम्भे के साथ बाँध कर बनायी गई टपरी पर “दस के दो” भी मिलता है......ताज़ होटल की चाँदी की प्लेट में भी परोसा जाता है और पुल के नीचे वाले ठेले पर अख़बार में लिपटा हुआ भी मिलता है ......मतलब कुल मिला कर बड़े वाले सेठ जी और सेठजी के घर का नौकर दोनो बराबर स्वाद लेते है...

सड़क के किनारे किसी ठेले पर छोले और चटनी के साथ  स्वाद लेते हुए किसी नयी नयी जॉब पर लगे हुए कूरियर कम्पनी के डिलीवरी बॉय के फ़ोन पर जब कॉल आती है और वो सामने से रिप्लाई करता है कि “मैं लंच कर रहा हूँ” तो क़सम से समोसे को इतना प्राउड फ़ील होता होगा कि उसके अंदर के आलू “अजीमो शान शहंशाह” वाले बैकग्राउंड म्यूज़िक पर नाचने लगते होंगे.....बस यूं समझिये कि जहाँ कुछ भी खाने को नहीं मिलता वहां पर भी समोसा हमेशा प्राणरक्षक का काम करता है।

जिस प्रकार मनुष्य के जीवन में मौत और दूकान में ग्राहक के आने का कोई निश्चित समय नहीं होता.... ठीक ऐसे ही समोसा खाने का भी कोई निश्चित समय नहीं है..... पूरे हिंदुस्तान में ही नहीं विश्व के कई देशों में में सुबह-सुबह नाश्ते में खाया जाता है.....देशभर की फ़ैक्टरियों, कम्पनियों की कैंटीन में तो दिन भर खाया जाता है.....स्कूल कॉलेजों की कैंटीन में मैं अनगिनत बनती बिगड़ती प्रेम कहानियों का गवाह बना है.... इन कैंटीनों की कड़ाही में दिन भर....निरंतर उत्पादन होता ही रहता है !

लेबर को ओवरटाइम का पैसा भले ही बीस रुपए कम दे दो पर बीच में एक ब्रेक लेकर चाय के साथ दुई समोसा खिला दो फिर देखी कैसे लेंटर डलने का काम भाँय से निपटता है।

समोसा, कहीं मैश किए हुए आलू से भरा जाता है तो कहीं कटे हुए चौकोर आलुओं से..... देश भर में कहीं भी किसी स्कूल में निरीक्षक आ जाएँ, किसी कम्पनी में ऑडिटर आ जाएँ, दुकान पर कोई पुराना ग्राहक ख़रीदारी करने आ जाए तो ट्रे में चाय के कप के साथ समोसा होना उतना ही स्वाभाविक है जितनी कि सेटमैक्स पर बार बार सूर्यवंशम का आना......फिर चाहे चाय के साथ चिप्स, बिस्किट, भुजिया कुछ भी हो पर अतिथि के लिए “#अरे ! #एक_समोसा_तो_लीजिए” का आग्रह सम्बोधन एक सम्मान सूचक वाक्य माना जाता है.

भारत के राष्ट्रीय स्नैक की पदवी के लिए चाहे तो कोई सर्वे करवा लीजिए चाहे वोटिंग, मेरा दावा है कि इस पदवी पर समोसे का चुनाव होना 100% पक्का है......यह मैं नहीं कह रहा हूँ बल्कि विश्व भर में समोसे के करोड़ों चाहने वाले कह रहे हैं 

Also Read😍👇

कहानी- समय की कीमत

 कहानी - मकड़ी का जाला

Viral Samosa Story In Hindi English

namaskaar doston aaj ham aapake lie samose ki kahaanii - viral samosa story in hindi, chaṭapaṭe samose kii aṭapaṭii kahaanii lekar aaye hain jo aapako jarur pasand aaegii to aaiye binaa derii ke is kahaanii ki shuruvaat karate hain 

chaṭapaṭe samose kii aṭapaṭii kahaanii: brahmaaṇḍ ke kisii bhii halavaaii kii dukaan par do chiijen honaa jaruurii hai varnaa vah duukaan halavaaii kii duukaan nahiin kahalaatii....

pahalaa to halavaaii khud owr duusaraa samosaa !

samsaar kii ekamaatr aisii rachanaa jisake tiin kone hone ke baavajuud bhii shaan se siinaa taan kar khadaa ho jaataa hai ....

halavaaii kii dukaan par jab samose bhar kar rakhe jaate hai to tale jaane se pahale puurii samosaa manḍalii panktibaddh ruup se yuun ṭre men khade dikhatii hain maano safed vardii pahane javaan saavadhaan kii mudraa men khade hokar gaarḍ aaf aanar de rahe hon.

apane isii shaahii andaaz ke kaaraṇ saikadon varshon se samosaa snaik fuuḍ kaa aghoshit samraaṭ hai owr apanii do mahaaraaniyon yaanii ki harii chaṭanii owr laal chaṭanii ke saath phuuḍiiyon ke dilon men raaj karataa hai.

amiir-gariib men phark nahiin karataa.....eyaraporṭ laaunj kii phainsii luṭerii kaafii shaap men "ṭuu samosaas phaar ṭuu hanḍreḍ phiphṭii ruupiiza" men bhii milataa hai owr ḍaakakhaane ke saamane ṭiin ke patare ko lohe kii taar ke saath bijalii ke puraane khambhe ke saath baandh kar banaayii gaii ṭaparii par “das ke do” bhii milataa hai......taaz hoṭal kii chaandii kii pleṭ men bhii parosaa jaataa hai owr pul ke niiche vaale ṭhele par akhabaar men lipaṭaa huaa bhii milataa hai ......matalab kul milaa kar bade vaale seṭh jii owr seṭhajii ke ghar kaa nowkar dono baraabar svaad lete hai...

sadak ke kinaare kisii ṭhele par chhole owr chaṭanii ke saath  svaad lete hue kisii nayii nayii jaab par lage hue kuuriyar kampanii ke ḍiliivarii baay ke fon par jab kaal aatii hai owr vo saamane se riplaaii karataa hai ki “main lanch kar rahaa huun” to kasam se samose ko itanaa praauḍ fiil hotaa hogaa ki usake amdar ke aaluu “ajiimo shaan shahamshaaha” vaale baikagraaunḍ myuuzik par naachane lagate honge.....bas yuun samajhiye ki jahaan kuchh bhii khaane ko nahiin milataa vahaan par bhii samosaa hameshaa praaṇarakshak kaa kaam karataa hai.

jis prakaar manushy ke jiivan men mowt owr duukaan men graahak ke aane kaa koii nishchit samay nahiin hotaa.... ṭhiik aise hii samosaa khaane kaa bhii koii nishchit samay nahiin hai..... puure hindustaan men hii nahiin vishv ke kaii deshon men men subah-subah naashte men khaayaa jaataa hai.....deshabhar kii faikṭariyon, kampaniyon kii kainṭiin men to din bhar khaayaa jaataa hai.....skuul kaalejon kii kainṭiin men main anaginat banatii bigadatii prem kahaaniyon kaa gavaah banaa hai.... in kainṭiinon kii kadaahii men din bhara....nirantar utpaadan hotaa hii rahataa hai !

lebar ko ovaraṭaaim kaa paisaa bhale hii biis rupae kam de do par biich men ek brek lekar chaay ke saath duii samosaa khilaa do phir dekhii kaise lenṭar ḍalane kaa kaam bhaany se nipaṭataa hai.

samosaa, kahiin maish kie hue aaluu se bharaa jaataa hai to kahiin kaṭe hue chowkor aaluon se..... desh bhar men kahiin bhii kisii skuul men niriikshak aa jaaen, kisii kampanii men aaḍiṭar aa jaaen, dukaan par koii puraanaa graahak khariidaarii karane aa jaae to ṭre men chaay ke kap ke saath samosaa honaa utanaa hii svaabhaavik hai jitanii ki seṭamaiks par baar baar suuryavamsham kaa aanaa......phir chaahe chaay ke saath chips, biskiṭ, bhujiyaa kuchh bhii ho par atithi ke lie “#are ! #eka_samosaa_to_liijie” kaa aagrah sambodhan ek sammaan suuchak vaaky maanaa jaataa hai.

bhaarat ke raashṭriiy snaik kii padavii ke lie chaahe to koii sarve karavaa liijie chaahe voṭing, meraa daavaa hai ki is padavii par samose kaa chunaav honaa 100% pakkaa hai......yah main nahiin kah rahaa huun balki vishv bhar men samose ke karodon chaahane vaale kah rahe hain 

No comments:
Write comment