Tuesday, March 29, 2022

वो लड़कियाँ जिन्हें लगता है, Emotional Poetry on Girl's Life | Girl Hindi Poem, Quotes | Lady Poetry, poetry on girl in hindi

heart touching poetry on girls life,
Heart Touching Poetry on Girls Life in Hindi


Emotional Poetry on Girl's Life  | Girl Hindi Poem


 वो लड़कियाँ,

जिन्हें लगता है वो खूबसूरत नहीं हैं,

वो बनाती हैं कुछ ही दोस्त,

भीड़ से कहीं दूर बैठा करती हैं,

ये काजल तो लगाती हैं,

पर खूबसूरत दिखने के लिए नहीं,

या किसी को रिझाने के लिए नहीं,

बल्कि इसीलिए,

क्योंकि इन्हें पसंद होता है काजल लगाना..


ये लड़कों की छोटी सी बात पर,

या मज़ाक पर अक्सर,

चिढ़ जाती हैं,

और बोल देती हैं कुछ बुरा - भला,

फिर अपनी ही आँखों में आँसू भर,

रो लेती हैं कॉलेज या घर के किसी कोने में,

घँटों ये सोचकर कि,

"मुझे उसे ऐसा नहीं बोलना चाहिए था"


वह किसी से खुदकि तारीफ़ सुन,

खुश नहीं होती है,

बस वो ये सोचती है,

कि कहीं इसके इरादे गलत तो नहीं,

वो अपनी ही तारीफों में खोजती है,

न जाने कितनी खराबियां,

कितनी कमियाँ,

और फ़िर ख़ुद ही रो लेती है,

ये सोचकर,

कि कोई उसकी सच्ची तारीफ़ नही करता..


वो लड़ जाती है किसी से भी,

अपने हक़ के लिए,

क्योंकि,

उसने लड़ी होती है,

बचपन से लेकर आज तक,

ख़ुदसे ये कहने की लड़ाई,

कि वो भी खूबसूरत है,

औरों की तरह, औरों से ज्यादा,

बस ख़ुदसे थोड़ी कम..


जानती हो तुम लड़कियों,

ये जो तुम सोचती हो न,

कि तुम खूबसूरत नहीं हो,

ये तुम्हें मज़बूत बनाता तो है,

पर, बस बाहर से,

पर तुम अंदर से उतनी ही कमजोर,

होती जाती हो,

और तुम्हारी यही कमजोरी तुम्हें,

औरों से ज्यादा सुंदर बनाती है..


क्योंकि तुम नही तोड़ती हो,

कभी किसी का विश्वास,

तुम नहीं छोड़ती हो,

कभी किसी का साथ,

तुम किसी के दिल से खेलती नहीं हो,

तुम औरों की तकलीफों को,

औरों से पहले समझ जाती हो,

तुम जब प्रेम में डूबती हो न,

तो प्रेमी को किनारे नसीब होते हैं,

इस प्रेम के महासागर में..!!


तुम खूबसूरत होती हो या नहीं,

मैं ये नहीं जानता हूँ,

पर मैं ये जानता हूँ,

कि तुमसे खूबसूरत,

रूह का मालिक कोई और नहीं

ALSO READ :

Girls life poetry in Hindi & english, Hindi heart touching poetry on girls life


vo ladakiyaan, 

jinhen lagata hai vo khoobasurat nahin hain, 

vo banaati hain kuchh hi dost, 

bheed se kaheen door baitha karati hain, 

ye kaajal to lagaati hain, 

par khoobasurat dikhane ke liye nahin,

 ya kisi ko rijhaane ke liye nahin, 

balki iseeliye, 

kyonki inhen pasand hota hai kaajal lagaana.. 

ye ladakon ki chhoti si baat par, 

ya mazaak par aksar, 

chidh jaati hain, 

aur bol deti hain kuchh bura - bhala, 

phir apani hi aankhon mein aansoo bhar, 

ro leti hain Collage ya ghar ke kisi kone mein, 

ghanton ye sochakar ki, 

"mujhe use aisa nahin bolana chaahiye tha" 

vah kisi se khudaki taareef sun, 

khush nahin hoti hai, 

bas vo ye sochati hai, 

ki kaheen isake iraade galat to nahin,

 vo apani hi taareefon mein khojati hai, 

na jaane kitani kharaabiyaan, 

kitani kamiyaan, 

aur fir khud hi ro leti hai, 

ye sochakar, 

ki koi usaki sachchi taareef nahi karata.. 

vo lad jaati hai kisi se bhi, 

apane haq ke liye, 

kyonki, 

usane ladi hoti hai, 

bachapan se lekar aaj tak, 

khudase ye kahane ki ladai, 

ki vo bhi khoobasurat hai, 

auron ki tarah, 

auron se jyaada, 

bas khudase thodi kam.. 

jaanati ho tum ladakiyon, 

ye jo tum sochati ho na, 

ki tum khoobasurat nahin ho, 

ye tumhen mazaboot banaata to hai, 

par, 

bas baahar se, 

par tum andar se utani hi kamajor, 

hoti jaati ho, 

aur tumhaari yahi kamajori tumhen, 

auron se jyaada sundar banaati hai.. 

kyonki tum nahi todati ho, 

kabhi kisi ka vishvaas, 

tum nahin chhodati ho, 

kabhi kisi ka saath, 

tum kisi ke dil se khelati nahin ho, 

tum auron ki takaleefon ko, 

auron se pahale samajh jaati ho, 

tum jab prem mein doobati ho na, 

to premi ko kinaare naseeb hote hain, 

is prem ke mahaasaagar mein..!! 

tum khoobasoorat hotee ho ya nahin, main ye nahin jaanata hoon, 

par main ye jaanata hoon, 

ki tumase khoobasurat, 

rooh ka maalik koi aur nahin

No comments:
Write comment