होली खेलने के लिए घर पर प्राकृतिक रंग कैसे बनाएं

प्राकृतिक रंग बनाने की विधि
how to make holi colours at home

नमस्कार दोस्तों होली रंगों का और उमंग का त्यौहार है। पर इस होली के त्यौहार में कृत्रिम और रासायनिक रंगो ने कई लोगों के जीवन को ही बदरंग कर दिया है। क्योंकि केमिकल से तैयार किए गए रंग हमारे त्वचा और आंखों को कई तरह के नुकसान पहुंचाते हैं,

कई बार तो कृतिम रंगों के साइड इफेक्ट से. बाल झड़ने, अस्थमा, एक्जिमा, यहां तक की आंखों की रोशनी जाने की भी संभावना होती है। और इसी डर से कई लोग होली खेलने से घबराते हैं। दोस्तों- होली खेलने की परंपरा सदियों से चली आ रही है,

इसलिए हमें इस पावन पर्व को हर्षोल्लास के पर्व के रूप में परिवर्तित करने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए हमें कृत्रिम रंगों के बजाय प्राकृतिक रंगों से होली खेलना चाहिए, और आज के इस आर्टिकल में मैं आपको घर पर ही प्राकृतिक रंग बनाने के बारे में बताऊंगा। तो आइए जानते हैं कि हम घर पर प्राकृतिक रंग कैसे बनाएं.....

 लाल रंग

 लाल रंग बनाने के लिए लाल चंदन का प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप लाल चंदन पाउडर को एक लीटर पानी में खोल कर उबालें और ठंडा होने के बाद इसे प्रयोग करें,  यह एक तरीके के फेस पैक का भी काम करेगा। गुड़हल के सूखे फूलों को पीसकर उसमें लाल चंदन पाउडर मिलाने से यह और भी गाढ़ा और खुशबूदार हो जाएगा

हरा रंग

 आप होली के लिए हरा रंग भी बहुत आसानी से तैयार कर सकते हैं। इसके लिए आप मेहंदी में गेहूं के आटे,  आरारोट या मैदे को बराबर मात्रा में मिक्स करके हरा रंग बना सकते हैं। आप पालक, गेहू, अथवा धनिया के पत्तों को पीसकर तिलक लगाने के लिए हरा रंग बना सकते हैं।

नीला रंग

 नीले गुड़हल के सूखे फूलों को पीसकर आप नीला रंग बना सकते हैं। आप नील को पानी में घोलकर भी नीला रंग तैयार कर सकते हैं।

पीला रंग

 अमलतास, टेसू या गेंदा के फूलों को रात के समय पानी में डूबा कर रख दें, और सुबह इसे उबाल ले। इसके अलावा आप हल्दी और बेसन से भी पीला रंग बना सकते हैं। इसके लिए आप जितनी भी हल्दी ले उससे दुगना मात्रा में बेसन मिलाकर होली खेलने के लिए पीला रंग तैयार कर सकते हैं। इसे चेहरे पर लगाने से त्वचा में निखार भी आता है

 केसरिया रंग

केसरिया रंग बनाने के लिए आप हरसिंगार और सेमल के फूलों को पानी में उबाल लें। साथ ही केसरिया रंग बनाने के लिए आप केसरिया रंग के टेसू अथवा पलाश के फूलों को अच्छे से सुखाकर इसमें आटा और केसर की कुछ पत्तियां मिलाकर इसे होली खेलने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

जामुनी रंग

जामुनी रंग एक-दो चुकंदर को कद्दूकस करके एक लीटर पानी में भिगोकर रात को रख दें, सुबह तक पानी का रंग जामुनी हो जाएगा। अगर आप तुरंत जामुनी रंग बनाना चाहते हैं तो कद्दूकस किए चुकंदर को पानी में अच्छे से उबालने और ठंडा होने के बाद इस्तेमाल करें..

 तो दोस्तों आप इन तरीकों को अपनाकर प्राकृतिक रंग तैयार कर सकते हैं और केमिकल युक्त रंगों के बजाय नेचुरल रंगो से आप चिंता मुक्त होकर होली खेल सकते हैं दोस्तों-आपको यह पोस्ट कैसी लगी कृपया कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद.... जय हिंद, वंदे मातरम, हैप्पी होली

Post a Comment

1 Comments