Friday, November 22, 2019

शराब पर कही गई लाजवाब शायरी | sharabi shayari | daru shayari

sharab shayari photo
sharab shayari images

Namaskar doston- aaj ke is article mein main aap Logon ke liye Sharab per Kahi Gai Kuchh lajawab shayari Lekar Aaya hun jo aapko Jarur Pasand Aaegi 
Agar aapko yah post acchi Lage to isse Apne doston ke sath share karna na Bhule sharabi shayari, sharabi shayari in hindi, daru shayari, daru shayri, quotes, status in hindi shayari on daru and dosti

sharab pe shayari

sharabi shayari
sharabi shayari in hindi



अच्छी पी ली ख़राब पी ली

जैसी पाई शराब पी ली

 - रियाज़ ख़ैराबादी

achchhi pee li kharaab pee li 

jaisi pai sharaab pee li

 - riyaaz khairabadi 



कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई

आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई

        - निदा फ़ाज़ली

kuchh bhi bacha na kahane ko har baat ho gai 

aao kahin sharaab piyen raat ho gai 

        - nida fazali



 

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर

या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो

zaahid sharaab peene de masjid mein baith kar 

ya vo jagah bata de jahaan par khuda na ho 



आए थे हँसते खेलते मयख़ाने में "फ़िराक़"

जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

        - फ़िराक़ गोरखपुरी

aaye the hansate khelate mayakhaane mein "firaaq" 

jab pee chuke sharaab to sanjeeda ho gaye 

       - firaq gorakhapuri 



  

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो

नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

           - अहमद फ़राज़

gam-e-duniya bhi gam-e-yaar mein shaamil kar lo 

nasha badhata hai sharaaben jo sharaabon mein milen 

        - ahamad faraaz 



  

दिन रात मय-कदे में गुज़रती थी ज़िंदगी

  अख़्तर' वो बेख़ुदी के ज़माने किधर गए

        - अख़्तर शीरानी

din raat may-kade mein guzarati thi zindagi 

akhtar vo bekhudi ke zamaane kidhar gaye 

       - akhtar shiraani


sharabi shayari for friends / शराबी शायरी

daru shayari
daru shayri


  

शब जो हम से हुआ मुआफ़ करो

नहीं पी थी बहक गए होंगे

      - जौन एलिया

 shab jo ham se hua muaaf karo 

nahin pee thi bahak gaye honge 

      - jaun eliya


 

  

दूर से आए थे साक़ी सुन के मय-ख़ाने को हम

बस तरसते ही चले अफ़्सोस पैमाने को हम

door se aaye the saaqi sun ke may-khaane ko ham 

bas tarasate hi chale afsos paimaane ko ham



  

गुज़रे हैं मयकदे से जो तौबा के बाद हम

कुछ दूर आदतन भी क़दम डगमगाए हैं

guzare hain mayakade se jo tauba ke baad ham 

kuchh door aadatan bhi qadam dagamagaye hain


  

गीरी मिली एक बोतल शराब की,तो ऐसा लगा मुझे

जैसे बिखरा पड़ा था एक रात का सुकून किसी का.

geeri mili ek botal sharaab ki,to aisa laga mujhe 

jaise bikhara pada tha ek raat ka sukoon kisi ka 



  

तुम आसपास ना आया करो जब मे शराब पीता हूँ,

क्या हे कि मुझसे दुगुना नशा सँभला नही जाता.

tum aasapaas na aaya karo jab me sharaab peeta hoon, 

kya he ki mujhase duguna nasha sanbhala nahi jaata.


best sharabi shayari / न्यू जबरदस्त शराबी शायरी

funny sharabi shayari in hindi
best sharabi shayari


  

कहते हैं पीने वाले मर जाते हैं जवानी में,

हमने तो बुजुर्गों को जवान होते देखा है मैखाने में। 

kahate hain peene vaale mar jaate hain javaani mein, 

hamane to bujurgon ko javaan hote dekha hai maikhaane mein. 



  

न तुम होश में हो न हम होश में हैं

चलो मय-कदे में वहीं बात होगी

    - बशीर बद्र

na tum hosh mein ho na ham hosh mein hain 

chalo may-kade mein vaheen baat hogi 

         - basheer badr 



  

छलक जाने दो पैमाने

मैखाने भी क्या याद रखेंगे,

आया था कोई दिवाना

अपनी मोहब्बत को भुलाने।

chhalak jaane do paimaane 

maikhaane bhi kya yaad rakhenge, 

aaya tha koi divaana 

apani mohabbat ko bhulaane. 



  

छलकते होठो से छू के,

होठो को उन्होंने प्याला बना डाला,

पास आयी कुछ वो ऐसे,

जिन्दगी को उन्होंने मधुशाला बना डाला

chhalakate hotho se chhu ke, 

hotho ko unhonne pyaala bana daala, 

paas aayi kuchh vo aise, 

jindagi ko unhonne madhushaala bana daala 



  

ठुकराओ अब कि प्यार करो मैं नशे में हूँ

जो चाहो मेरे यार करो मैं नशे में हूँ

          - शाहिद कबीर 

thukarao ab ki pyaar karo main nashe mein hoon 

jo chaaho mere yaar karo main nashe mein hoon 

        - shaahid kabeer 



  

जवानी में इस तरह मिलती हैं नज़रें

शराबी से मिलता है जैसे शराबी

          - नज़ीर बनारसी

javaani mein is tarah milati hain nazaren 

sharaabi se milata hai jaise sharaabi        

 - nazeer banarasi




    

ये ना पूछ मै शराबी क़्यूं हुआ,

     बस यूं समझ ले..

     गमों के बोझ से,

     नशे की बोतल सस्ती लगी ।

 ye na poochh mai sharabi kyun hua, 

bas yoon samajh le.. 

gamon ke bojh se, 

nashe ki botal sasti lagi . 


shayari on daru and dosti

daru shayri
shayari on daru and dosti


  

तौहीन ना कर शराब को कड़वा कह कर,

जिंदगी के तजुर्बे शराब से भी कड़वे होते है.

tauhin na kar sharaab ko kadava kah kar, 

jindagi ke tajurbe sharaab se bhi kadave hote hai 




  

छीनकर हाथों से जाम

वो इस अंदाज़ से बोली,

कमी क्या है इन होठों में

जो तुम शराब पीते हो ।

chheenakar haathon se jaam 

vo is andaaz se boli, 

kami kya hai in hothon mein 

jo tum sharaab peete ho . 



  

आये हैं समझाने लोग

हैं कितने दीवाने लोग

दैर-ओ-हरम में चैन जो मिलता

क्यूँ जाते मयखाने लोग।

aaye hain samajhaane log 

hain kitane deevaane log 

dair-o-haram mein chain jo milata 

kyun jaate mayakhaane log. 



  

ना करो सवाल तुम, इस बोतल से साहिब

ये तो सबके ग़मों को दूर करती है

सब पीते है इसको शौक़ से यहाँ पर

ये कहा किसी को मजबूर करती है.

na karo savaal tum, is botal se saahib

 ye to sabake gamon ko door karati hai

 sab peete hai isako shauq se yahaan par 

ye kaha kisi ko majaboor karati hai 



  

कर्ज की पीते थे मय, लेकिन समझते थे कि हां,

     रंग लाएगी हमारी फ़ाकामस्ती एक दिन।

  - ग़ालिब

karj ki pite the may, lekin samajhate the ki haan, 

rang laegi hamaari faakaamasti ek din.         

- gaalib 


sharabi shayari | daru shayari

best sharabi shayari
sharabi shayari attitude


  

अब तो उतनी भी मयस्सर नहीं मय-ख़ाने में

       जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में

    - दिवाकर राही

ab to utani bhi mayassar nahin may-khaane mein 

jitani ham chhod diya karate the paimaane mein 

       - divaakar raahi



  

ज़ाहिद शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूँ

क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया

            -शेख़ इब्राहीम ज़ौक़-

zaahid sharaab peene se kaafir hua main kyoon 

kya dedh chullu paani mein eemaan bah gaya 

       -shekh ibraaheem zauq



  

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए

इस के बाद आए जो अज़ाब आए

        - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

aaye kuchh abr kuchh sharaab aaye 

is ke baad aaye jo azaab aaye 

        - faiz ahamad faiz 



   

किधर से बर्क़ चमकती है देखें ऐ वाइज़

मैं अपना जाम उठाता हूँ तू किताब उठा

           - जिगर मुरादाबादी-

kidhar se barq chamakati hai dekhen ai vaiz 

main apana jaam uthaata hoon tu kitaab utha 

      - jigar muradabadi



  

वो मिले भी तो इक झिझक सी रही

काश थोड़ी सी हम पिए होते

  - अब्दुल हमीद "अदम"

vo mile bhi to ik jhijhak si rahi kaash thodi si ham piye hote 

     - abdul hameed "adam" 



  

खुली फ़ज़ा में अगर लड़खड़ा के चल न सकें

तो ज़हर पीना है बेहतर शराब पीने से

           - शहज़ाद अहमद

khuli faza mein agar ladakhada ke chal na saken 

to zahar peena hai behatar sharaab peene se 

        - shahazaad ahamad 



  

मौका मिला है कुछ तो ख़ुलूस दिखा दे 'साक़िया'

क्या पता कल तेरी महफ़िल में हम हों कि न हों,

उठा के जाम अपने हाथों से पिला दे 'साक़िया'

क्या पता कल तेरी महफ़िल में हम हों कि न हों।

mauka mila hai kuchh to khuloos dikha de 

saaqiya kya pata kal teri mahafil mein ham hon ki na hon, 

utha ke jaam apane haathon se pila de saaqiya 

kya pata kal teree mahafil mein ham hon ki na hon.

ALSO READ :

sharabi shayari in hindi
sharabi shayari in hindi


  

पीते थे शराब हम

उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,

महफ़िल में आये तो यारों ने

पिला दी उसकी कसम देकर।

peete the sharaab ham 

usane chhudai apani kasam dekar, 

mahafil mein aaye to yaaron ne 

pila di usaki kasam dekar. 


  

मौसम भी है, उम्र भी, शराब भी है,

पहलू में वो रश्के-माहताब भी है,

दुनिया में अब और चाहिए क्या मुझको,

साक़ी भी है, साज़ भी है, शराब भी है।

mausam bhi hai, umr bhi, sharaab bhi hai, 

pahalu mein vo rashke-maahataab bhi hai, 

duniya mein ab aur chaahiye kya mujhako, 

saaqi bhi hai, saaz bhi hai, sharaab bhi hai.


 

  

ग़म इस कदर बढ़े कि घबरा के पी गया,

इस दिल की बेबसी पे तरस खा के पी गया,

ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना,

मैं आज सब जहान को ठुकरा के पी गया।

gam is kadar badhe ki ghabara ke pi gaya, 

is dil ki bebasi pe taras kha ke pi gaya, 

thukara raha tha mujhe badi  der se zamaana, 

main aaj sab jahaan ko thukara ke pee gaya.



 

पिलाने वाले कुछ तो पिला दिया होता,

शराब कम थी तो पानी मिला दिया होता।

pilaane vaale kuchh to pila diya hota,

 sharaab kam thi to paani mila diya hota. 



 

कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं

लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं, 

हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर, 

कि पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।

kuchh sahi to kuchh kharaab kahate hain 

log hamen bigada hua navaab kahate hain, 

ham to badanaam hue kuchh is kadar, 

ki paani bhi piyen to log sharaab kahate hain.



 

अरे वो भी एक जमाना था जब हम जिया करते थे,

 सारे गम भुला के रोज दो पैक पिया करते

are vo bhi ek jamaana tha jab ham jiya karate the, 

saare gam bhula ke roj do paik piya karate the



 

पी के रात को हम उनको भुलाने लगे

शराब मे ग़म को मिलाने लगे,

ये शराब भी बेवफा निकली यारो

नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।

pi ke raat ko ham unako bhulaane lage 

sharaab me gam ko milaane lage, 

ye sharaab bhi bewafa nikali yaaro 

nashe me to vo aur bhi yaad aane lage.


sharabi shayari in hindi

daru party shayari
2 line sharabi shayari in hindi


 

 कुछ तो शराफत सीख ले इश्क शराब से

बोतल पे लिखा तो है मैं जानलेवा हूँ। 

kuchh to sharaafat seekh le ishq sharaab se 

botal pe likha to hai main jaanaleva hoon. 



 

तेरी आँखों के ये जो प्याले हैं

मेरी अंधेरी रातों के उजाले हैं,

पीटा हूँ जाम पर जाम तेरे नाम का

हम तो शराबी बे-शराब वाले हैं। 

teri aankhon ke ye jo pyaale hain 

meri andheri raaton ke ujaale hain, 

peeta hoon jaam par jaam tere naam ka

 ham to sharaabi be-sharaab vaale hain.



 

हर शाम का साथी हैं शराब, 

फिर क्यों लोग कहते हैं इसे ख़राब।

har shaam ka saathi hain sharaab, 

phir kyon log kahate hain ise kharaab.



 

इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ

सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,

जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश

मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ।

itani peeta hoon ki madahosh rahata hoon 

sab kuchh samajhata hoon par khaamosh rahata hoon, 

jo log karate hain mujhe giraane ki koshish 

main aksar unhi ke saath rahata hoon. 



 

लड़खड़ाये कदम तो गिरे उनकी बाँहों मे, 

आज हमारा शराब पीना ही हमारे काम आ गया।

ladakhadaaye kadam to gire unaki baanhon me, 

aaj hamaara sharaab peena hi hamaare kaam aa gaya.



 

एक शराब की बोतल दबोच रखी है, 

तुजे भुलाने की तरकीब सोच रखी है।

ek sharaab ki botal daboch rakhi hai, 

tuje bhulaane ki tarakeeb soch rakhi hai.



 

अभी तो इश्क़ हुआ है, 

मंज़िल तो मयखाने में मिलेगी।

abhi to ishq hua hai, 

manzil to mayakhaane mein milegi.



 

शराब और मेरा कई बार ब्रेकअप हो चुका है, 

पर कमबख्त हर बार मुझे मना लेती है।

sharaab aur mera kai baar brekap ho chuka hai, 

par kamabakht har baar mujhe mana leti hai.



No comments:
Write comment